Thursday, December 1, 2022
Homeदेशअब OTT प्लेटफॉर्म को भी केंद्र के नियमों का पालन करना होगा!

अब OTT प्लेटफॉर्म को भी केंद्र के नियमों का पालन करना होगा!

ये नियम तीन महीने में लागू हो जाएंगे

- Advertisement -

कई ओटीटी प्लेटफार्मों जैसे अमेज़ॅन, नेटफ्लिक्स, ZEE 5 पर बड़ी मात्रा में वीडियो सामग्री दिखाई जाती है। हालाँकि, फ़िल्मों की तरह, OTT प्लेटफ़ॉर्म में सेंसर नहीं होने के लिए व्यापक रूप से आलोचना की जाती है। ऐसे ओटीटी प्लेटफार्मों पर आक्रामक पाठ भी प्रदर्शित किया जाता है। बार-बार की आपत्तियों के बावजूद, कोई कानून या सेंसर बोर्ड जैसा मंच नहीं बनाया जा सका। अंत में, केंद्र सरकार ने इस संबंध में कदम उठाने और ऐसे ओटीटी प्लेटफार्मों के लिए विनियम तैयार करने का निर्णय लिया है। केंद्रीय सूचना और प्रसारण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने दूरसंचार मंत्री रविशंकर प्रसाद के साथ एक संयुक्त संवाददाता सम्मेलन में यह जानकारी दी।

“ओटीटी प्लेटफॉर्म नई प्रौद्योगिकियों में आ गए हैं। प्रिंट मीडिया के पत्रकारों को प्रेस काउंसिल के कोड का पालन करना होता है। लेकिन डिजिटल मीडिया पोर्टल्स पर कोई प्रतिबंध नहीं है। टीवी लोगों को केबल नेटवर्क अधिनियम में कार्यक्रम कोड का पालन करना होगा। लेकिन ओटीटी प्लेटफार्मों का ऐसा कोई कोड नहीं है। सभी मीडिया प्लेटफ़ॉर्म पर समान नियम होने चाहिए। लोगों ने इस संबंध में बहुत मांग भी की। प्रकाश जावड़ेकर ने कहा कि मंत्रालय को हर दिन सैकड़ों पत्र मिलते हैं। रविशंकर प्रसाद ने यह भी कहा कि इन नियमों को तीन महीने के भीतर लागू करने की आवश्यकता है।

ओटीटी के लिए क्या नियम हैं?

- Advertisement -

1) ओटीटी और डिजिटल मीडिया को उनके बारे में सभी जानकारी का खुलासा करना होगा। लेकिन यह पंजीकरण नहीं होगा

2) शिकायत निवारण व्यवस्था करनी होगी, जो ओटीटी और डिजिटल प्लेटफॉर्म दोनों के लिए होगी

- Advertisement -

3) सर्वोच्च न्यायालय या उच्च न्यायालय के न्यायाधीशों की अध्यक्षता में एक बोर्ड की स्थापना करें जहाँ शिकायतें सुनी, सुनी और तय की जा सकती हैं।

4) फिल्मों के लिए सेंसर बोर्ड है, लेकिन ओटीटी प्लेटफार्मों में यह नहीं है। उसके लिए उन्हें अपनी आयु सीमा बनानी होगी। 13+, 16+ और A श्रेणी होनी चाहिए।

- Advertisement -

डिजिटल मीडिया पोर्टलों को भी अफवाह या असत्य फैलाने का कोई अधिकार नहीं है।

यह भी पढ़े : OTT का उध्दार: आखिर क्यों साल 2020 Netflix और Amazon Prime Video स्ट्रीमिंग के लिए एक गेम-चेंजर था

यह भी पढ़े : OTT कंटेंट की सेंसरशिप के ख़िलाफ़ शत्रुघ्न सिन्हा, बोले- ‘हर्ट सेंटिमेंट्स के नाम पर सेंसरशिप मज़ाक’

- Advertisement -
RELATED ARTICLES
- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments