Home मध्य प्रदेश

मध्य प्रदेश

MP News in Hindi: Read latest MP News, मध्य प्रदेश न्यूज़, मध्य प्रदेश न्यूज़ on Khabarsatta Hindi News Website. मध्य प्रदेश न्यूज़ की ताजा खबरें और मध्य प्रदेश न्यूज़ की ताजा ख़बरें MP News: MP News : MP News in Hindi, MP News Madhya Pradesh ( MP News ) ,

Madhya Pradesh News Today | Madhya Pradesh News | मध्य प्रदेश की ताज़ा ख़बर |

मध्य प्रदेश की ताज़ा खबर, मध्य प्रदेश ब्रेकिंग मध्य प्रदेश Madhya Pradesh : मध्य प्रदेश मध्य प्रदेश , मध्य प्रदेश की ताज़ा ख़बर  | मध्य प्रदेश न्यूज़

मध्य प्रदेश न्यूज़ |  samachar |  | madhya pradesh |  city (मध्य प्रदेश न्यूज़)

samachar |  | Madhya Pradesh News madhya pradesh |

khabar satta provides latest and breaking news headlines ( मध्य प्रदेश समाचार) from , Madhya Pradesh News

So If You Want Update For Seoni Realted All Information Please Download “khabar Satta” App From Play Store

Madhya Pradesh breaking news headlines and more on www.khabarsatta.com/madhya-pradesh/ ! MP video

मध्य प्रदेश भारत का एक राज्य है, इसकी राजधानी भोपाल है। मध्य प्रदेश १ नवंबर, २००० तक क्षेत्रफल के आधार पर भारत का सबसे बड़ा राज्य था। इस दिन मध्यप्रदेश राज्य से 16 जिले अलग कर छत्तीसगढ़ राज्य छत्तीसगढ़ की स्थापना हुई थी। मध्य प्रदेश की सीमाऐं पांच राज्यों की सीमाओं से मिलती है। इसके उत्तर में उत्तर प्रदेश, पूर्व में छत्तीसगढ़, दक्षिण में महाराष्ट्र, पश्चिम में गुजरात, तथा उत्तर-पश्चिम में राजस्थान है।

हाल के वर्षों में राज्य के सकल घरेलू उत्पाद की विकास दर राष्ट्रीय औसत से ऊपर रही है।

खनिज संसाधनों से समृद्ध, मध्य प्रदेश हीरे और तांबे का सबसे बड़ा भंडार है। अपने क्षेत्र की 30% से अधिक वन क्षेत्र के अधीन है। इसके पर्यटन उद्योग में काफी वृद्धि हुई है। राज्य ने वर्ष 2010-11 के लिये राष्ट्रीय पर्यटन पुरस्कार जीता था।

मध्यप्रदेश मुख्य रूप से अपने पर्यटन के लिए भी जाना जाता है। भीमबैठका, पंचवटी, खजुराहो, साँची स्तूप, ग्वालियर का किला, और उज्जैन मध्यप्रदेश के पर्यटन स्थल के प्रमुख उदाहरण हैं। उज्जैन जिले में प्रत्येक १२ वर्षो में कुंभ (सिंहस्थ) मेले का पुण्यपर्व विश्व स्तर पर प्रसिद्ध है।

मध्य प्रदेश

इतिहास

मध्य प्रदेश का इतिहास

स्वत्रंता पूर्व मध्य प्रदेश क्षेत्र अपने वर्तमान स्वरूप से काफी अलग था। तब यह ३-४ हिस्सों में बटा हुआ था। १९५० में सर्वप्रथम मध्य प्रांत और बरार को छत्तीसगढ़ और मकराइ रियासतों के साथ मिलकर मध्य प्रदेश का गठन किया गया था। तब इसकी राजधानी नागपुर में थी। इसके बाद १ नवंबर १९५६ को मध्य भारत, विंध्य प्रदेश तथा भोपाल राज्यों को भी इसमें ही मिला दिया गया, जबकि दक्षिण के मराठी भाषी विदर्भ क्षेत्र को (राजधानी नागपुर समेत) बॉम्बे राज्य में स्थानांतरित कर दिया गया। पहले जबलपुर को राज्य की राजधानी के रूप में चिन्हित किया जा रहा था, परन्तु अंतिम क्षणों में इस निर्णय को पलटकर भोपाल को राज्य की नवीन राजधानी घोषित कर दिया गया। जो कि सीहोर जिले की एक तहसील हुआ करता था। १ नवंबर २००० को एक बार फिर मध्य प्रदेश का पुनर्गठन हुआ, और छ्त्तीसगढ़ मध्य प्रदेश से अलग होकर भारत का २६वां राज्य बन गया।

विवरण

भारत की संस्कृति में मध्यप्रदेश जगमगाते दीपक के समान है, जिसकी रोशनी की सर्वथा अलग प्रभा और प्रभाव है। यह विभिन्न संस्कृतियों की अनेकता में एकता का जैसे आकर्षक गुलदस्ता है, मध्यप्रदेश, जिसे प्रकृति ने राष्ट्र की वेदी पर जैसे अपने हाथों से सजाकर रख दिया है, जिसका सतरंगी सौन्दर्य और मनमोहक सुगन्ध चारों ओर फैल रहे हैं। यहाँ के जनपदों की आबोहवा में कला, साहित्य और संस्कृति की मधुमयी सुवास तैरती रहती है। यहाँ के लोक समूहों और जनजाति समूहों में प्रतिदिन नृत्य, संगीत, गीत की रसधारा सहज रूप से फूटती रहती है। यहाँ का हर दिन पर्व की तरह आता है और जीवन में आनन्द रस घोलकर स्मृति के रूप में चला जाता है। इस प्रदेश के तुंग-उतुंग शैल शिखर विन्ध्य-सतपुड़ा, मैकल-कैमूर की उपत्यिकाओं के अन्तर से गूँजते अनेक पौराणिक आख्यान और नर्मदा, सोन, सिन्ध, चम्बल, बेतवा, केन, धसान, तवा, ताप्ती, शिप्रा, काली सिंध आदि सर-सरिताओं के उद्गम और मिलन की मिथकथाओं से फूटती सहस्त्र धाराएँ यहाँ के जीवन को आप्लावित ही नहीं करतीं, बल्कि परितृप्त भी करती हैं।

संस्कृति संगम

मध्य प्रदेश के ज़िले

मध्यप्रदेश में छह लोक संस्कृतियों का समावेशी संसार है। ये छह साँस्कृतिक क्षेत्र है-

निमाड़
मालवा
बुन्देलखण्ड
बघेलखण्ड
महाकोशल
ग्वालियर (चंबल)

प्रत्येक सांस्कृतिक क्षेत्र या भू-भाग का एक अलग जीवंत लोकजीवन, साहित्य, संस्कृति, इतिहास, कला, बोली और परिवेश है। मध्यप्रदेश लोक-संस्कृति के मर्मज्ञ विद्वान श्री वसन्त निरगुणे लिखते हैं- “संस्कृति किसी एक अकेले का दाय नहीं होती, उसमें पूरे समूह का सक्रिय सामूहिक दायित्व होता है। सांस्कृतिक अंचल (या क्षेत्र) की इयत्त्ता इसी भाव भूमि पर खड़ी होती है। जीवन शैली, कला, साहित्य और वाचिक परम्परा मिलकर किसी अंचल की सांस्कृतिक पहचान बनाती है।”

मध्यप्रदेश की संस्कृति विविधवर्णी है। गुजरात, महाराष्ट्र अथवा उड़ीसा की तरह इस प्रदेश को किसी भाषाई संस्कृति में नहीं पहचाना जाता। मध्यप्रदेश विभिन्न लोक और जनजातीय संस्कृतियों का समागम है। यहाँ कोई एक लोक संस्कृति नहीं है। यहाँ एक तरफ़ पाँच लोक संस्कृतियों का समावेशी संसार है, तो दूसरी ओर अनेक जनजातियों की आदिम संस्कृति का विस्तृत फलक पसरा है।

निष्कर्षत: मध्यप्रदेश छह सांस्कृतिक क्षेत्र निमाड़, मालवा, बुन्देलखण्ड, बघेलखण्ड, महाकौशल और ग्वालियर हैं। धार-झाबुआ, मंडला-बालाघाट, छिन्दवाड़ा, होशंगाबाद्, खण्डवा-बुरहानपुर, बैतूल, रीवा-सीधी, शहडोल आदि जनजातीय क्षेत्रों में विभक्त है।

निमाड़
मुख्य लेख: निमाड़

निमाड़ मध्यप्रदेश के पश्चिमी अंचल में स्थित है। अगर इसके भौगोलिक सीमाओं पर एक दृष्टि डालें तो यह पता चला है कि निमाड़ के एक ओर विन्ध्य की उतुंग शैल श्रृंखला और दूसरी तरफ़ सतपुड़ा की सात उपत्यिकाएँ हैं, जबकि मध्य में है नर्मदा की अजस्त्र जलधारा। पौराणिक काल में निमाड़ अनूप जनपद कहलाता था। बाद में इसे निमाड़ की संज्ञा दी गयी। फिर इसे पूर्वी और पश्चिमी निमाड़ के रूप में जाना जाने लगा।

मालवा
मुख्य लेख: मालवा

मालवा महाकवि कालिदास की धरती है। यहाँ की धरती हरी-भरी, धन-धान्य से भरपूर रही है। यहाँ के लोगों ने कभी भी अकाल को नहीं देखा। विन्ध्याचल के पठार पर प्रसरित मालवा की भूमि सस्य, श्यामल, सुन्दर और उर्वर तो है ही, यहाँ की धरती पश्चिम भारत की सबसे अधिक स्वर्णमयी और गौरवमयी भूमि रही है।

बुंदेलखंड
मुख्य लेख: बुंदेलखंड

एक प्रचलित अवधारणा के अनुसार “वह क्षेत्र जो उत्तर में यमुना, दक्षिण में विंध्य प्लेटों की श्रेणियों, उत्तर-पश्चिम में चंबल और दक्षिण पूर्व में पन्ना, अजमगढ़ श्रेणियों से घिरा हुआ है, बुंदेलखंड के नाम से जाना जाता है। इसमें उत्तर प्रदेश के चार जिले- जालौन, झाँसी, हमीरपुर और बाँदा तथा मध्यप्रेदश के पांच जिले- सागर, दतिया, टीकमगढ़, छतरपुर और पन्ना के अलावा उत्तर-पश्चिम में चंबल नदी तक प्रसरित विस्तृत प्रदेश का नाम था।” कनिंघम ने “बुंदेलखंड के अधिकतम विस्तार के समय इसमें गंगा और यमुना का समस्त दक्षिणी प्रदेश जो पश्चिम में बेतवा नदी से पूर्व में चन्देरी और सागर के अशोक नगर जिलों सहित तुमैन का विंध्यवासिनी देवी के मन्दिर तक तथा दक्षिण में नर्मदा नदी के मुहाने के निकट बिल्हारी तक प्रसरित था”, माना है।

बघेलखण्ड
मुख्य लेख: बघेलखण्ड

बघेलखण्ड की धरती का सम्बन्ध अति प्राचीन भारतीय संस्कृति से रहा है। यह भू-भाग रामायणकाल में कोसल प्रान्त के अन्तर्गत था। महाभारत के काल में विराटनगर बघेलखण्ड की भूमि पर था, जो आजकल सोहागपुर के नाम से जाना जाता है। भगवान राम की वनगमन यात्रा इसी क्षेत्र से हुई थी। यहाँ के लोगों में शिव, शाक्त और वैष्णव सम्प्रदाय की परम्परा विद्यमान है। यहाँ नाथपंथी योगियो का खासा प्रभाव है। कबीर पंथ का प्रभाव भी सर्वाधिक है। महात्मा कबीरदास के अनुयायी धर्मदास बाँदवगढ़ के निवासी थी।

महाकोशल

जबलपुर संभाग का संपूर्ण हिस्सा महाकोशल कहलाता है। नर्मदा नदी किनारे बसा यह क्षेत्र सांस्कृतिक और प्राकृतिक समृद्धता में धनी है।

ग्वालियर

ग्वालियर किले का ग्वालियर-गेट नामक द्वार — किले के अंदर से लिया गया चित्र
मुख्य लेख: ग्वालियर

मध्यप्रदेश का चंबल क्षेत्र भारत का वह मध्य भाग है, जहाँ भारतीय इतिहास की अनेक महत्वपूर्ण गतिविधियां घटित हुई हैं। इस क्षेत्र का सांस्कृतिक-आर्थिक केंद्र ग्वालियर शहर है। सांस्कृतिक रूप से भी यहाँ अनेक संस्कृतियों का आवागमन और संगम हुआ है। राजनीतिक घटनाओं का भी यह क्षेत्र हर समय केन्द्र रहा है। स्वतंत्रता से पहले यहां सिंधिया राजपरिवार का शासन रहा था। १८५७ का पहला स्वतंत्रता संग्राम झाँसी की वीरांगना रानी लक्ष्मीबाई ने इसी भूमि पर लड़ा था। सांस्कृतिक गतिविधियों का केन्द्र ग्वालियर अंचल संगीत, नृत्य, मूर्तिकला, चित्रकला अथवा लोकचित्र कला हो या फिर साहित्य, लोक साहित्य की कोई विधा हो, ग्वालियर अंचल में एक विशिष्ट संस्कृति के साथ नवजीवन पाती रही है। ग्वालियर क्षेत्र की यही सांस्कृतिक हलचल उसकी पहचान और प्रतिष्ठा बनाने में सक्षम रही है।

भूगोल
भारत में अवस्थिति

जैसा की नाम से ही प्रतीत होता हैं यह भारत के बीचो-बीच, अक्षांश 21°6′ उत्तरीअक्षांश से 26°30′ उत्तरीअक्षांश देशांतर 74°9′ पूर्वीदेशांतर से 82°48′ पूर्वीदेशांतर में स्थित हैं। राज्य, नर्मदा नदी के चारो और फैला हुआ है, जोकी विंध्य और सतपुड़ा पर्वतमाला के बीच पूरब से पश्चिम की और बहती हैं, जोकि उत्तर और दक्षिण भारत के बीच पारंपरिक सीमा का काम करती हैं।

राज्य, दक्षिण में महाराष्ट्र से, पश्चिम में गुजरात से घिरा हुआ है, जबकि इसके उत्तर-पश्चिम में राजस्थान, पूर्वोत्तर पर उत्तर प्रदेश और पूर्व में छत्तीसगढ़ स्थित हैं।

मध्य प्रदेश में सबसे ऊँची चोटी, धूपगढ़ की है जिसकी ऊंचाई 1,350 मीटर (4,429 फुट) हैं।[2]

राज्य, पश्चिम में गुजरात से, उत्तर-पश्चिम में राजस्थान से, उत्तर में उत्तर प्रदेश, पूर्व में छत्तीसगढ़ और दक्षिण में महाराष्ट्र से घिरा हुआ हैं।

प्रधानमंत्री श्री मोदी मैन ऑफ आइडियाज : शिवराज सिंह चौहान

भोपाल : मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि प्रधानमंत्री श्री मोदी मैन ऑफ आइडियाज है। अद्भुत नेता है। उनकी...

मध्य प्रदेश : पाँचवें चरण का लॉकडाउन, अनलॉक 1.0 का चरण होगा

भोपाल : मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने प्रदेश की जनता के नाम संदेश में कहा है...

म.प्र. : बिजली उपभोक्ताओं के लिए जरूरी खबर, 1 जून से बदलेंगे नियम

मध्य प्रदेश के 16 जिलों में एक जून से बिजली कनेक्शन की नई व्यवस्था लागू की जाएगी. जिसके तहत बिजली के नए...

BHOPAL : खुशखबरी ये 9 इलाके कंटेनमेंट जोन से बाहर, पिछले 21 दिनों में...

मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल में पिछले 21 दिनों में 9 कंटेनमेंट एरिया से कोई भी संक्रमित नहीं मिला है. जिसके बाद...

MP में 24 घंटे में मिले कोरोना के 198 मरीज, रिकवरी रेट 55% से...

कोरोना का संक्रमण मध्य प्रदेश के 52 में से 51 जिलों में पहुंच चुका है. राज्य में अब भी 936 कंटेनमेंट एरिया...
MP Board 10th & 12th Result

MP Board 10th & 12th Result |10वीं और 12वीं रिजल्ट | mpbse.nic.in Result

MP Board 10th & 12th Result |म.प्र. बोर्ड 10वीं और 12वीं रिजल्ट | mpbse.nic.in Result भोपाल. MP Board 10th &...

मध्यप्रदेश: 15 जून तक बढ़ा लॉकडाउन, स्कूल-कॉलेज खुलेंगे, फैसला 13 जून के बाद

मध्यप्रदेश: 15 जून तक बढ़ा लॉकडाउन, स्कूल-कॉलेज खुलेंगे, फैसला 13 जून के बाद भोपाल...
mpbse news

MPBSE : MP Board 12th Exam Update, परीक्षा केंद्र में समय से 1 घंटे...

mpbse news भोपाल: हायर सेकेण्डरी के परीक्षार्थियों को परीक्षा केन्द्र पर एक घंटे पूर्व होना होगा उपस्थित मंडल...

1 व्यक्ति ने बुक किया 180 सीटों वाला प्लेन, किराया जानकर रह जाएंगे दंग...

कोरोना वायरस लॉकडाउन में लोग अपने घरों तक पहुंचने के लिए कोई भी कीमत चुकाने के लिए तैयार हैं. ऐसे में मध्य प्रदेश से...

MP के बड़वानी में भीषण सड़क हादसा, पिकअप पलटी 3 की मौके पर मौत,...

बड़वानी में एक पिकअप वाहन पलटने से 3 लोगों की मौत हो गई है.दो लोगों की मौके पर ही मौत हो गई...
Breaking News : कोरोना इलाज ढूंढने का दावा, कंपनी के शेयरों में जबरदस्त हुई उछाल

मध्य प्रदेश: होम क्वारनटीन नियमों का पालन नहीं करने पर लगेगा जुर्माना | MP...

मध्य प्रदेश: होम क्वारनटीन नियमों का पालन नहीं करने पर लगेगा जुर्माना | MP NEWS मध्य प्रदेश में...

Indore का Nehru Nagar बना Coronavirus का गढ़, अब तक 271 मरीजों की पुष्टि,...

डॉक्टर प्रवीण जड़िया ने बताया कि शनिवार तक नेहरू नगर में कोविड-19 के 271 पॉजिटिव मामले सामने आए चुके थे. अभी भी...
Eid will be celebrated in Bhopal with these rules, today the moon can be seen

भोपाल में इन नियमों के साथ मनेगी ईद, आज हो सकता है चाँद का...

आज रात ईद का चांद दिखने की उम्मीद जताई जा रही है.अगर आज रात चांद दिख जाता है तो मुस्लिम धर्म के...

Balaghat Corona News : बालाघाट में 2 और कोरोना संक्रमित , अब संख्या बढ़कर...

बालाघाट में 2 और कोरोना संक्रमित , अब संख्या बढ़कर 3 हुई Balaghat Corona News :...

MP में 1 सितंबर से शुरू हो सकते हैं स्कूल-कॉलेज, इस आधार पर होंगे...

मध्य प्रदेश में कॉलेज-यूनिवर्सिटी का शैक्षणिक सत्र (Acedemic session)1 सितम्बर से शुरू हो सकता है. कोरोना महामारी के कारण स्कूल-कॉलेजों में नया...

मध्य प्रदेश में 6000 के पार पहुंचा कोरोना संक्रमितों का आंकड़ा, अब तक 272...

मध्य प्रदेश में शुक्रवार शाम 6 बजे तक 3089 लोग कोरोना संक्रमण से मुक्त होने के बाद विभिन्न अस्पतालों से डिस्चार्ज कर...
MP NEWS: Employees of this department also included in CM Kovid-19 Yoddha Kalyan Yojana

Coronavirus : इंदौर से बेहद चौंकाने वाली खबर, इस उम्र के लोगों को सबसे...

indore corona update इंदौर: मध्य प्रदेश में कोरोना संक्रमितों की संख्या में लगातार बढ़ोतरी हो रही है. ऐसे कोरोना...