khabar-satta-app
Home देश Corona Vaccine: कोराना वैक्‍सीन को लेकर मानव ट्रायल में मिली सफलता

Corona Vaccine: कोराना वैक्‍सीन को लेकर मानव ट्रायल में मिली सफलता

नई दिल्ली: कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों के बीच पूरी दुनिया में इस वायरस से बचाव के लिए वैक्सीन की खोज की जा रही है. अब इसमें ब्रिटेन को बड़ी कामयाबी मिली है. ऑक्सफ़ोर्ड यूनिवर्सिटी ने जिस वैक्सीन को तैयार किया है वह सकारात्मक साबित हुआ है.

दरअसल ऑक्सफ़ोर्ड यूनिवर्सिटी ने जो वैक्सीन ट्रायल किया है वह सुरक्षित साबित हुआ है और उससे इम्यून सिस्टम बेहतर होने के संकेत मिले हैं.इसका डेटा जल्द ही प्रकाशित होगा.

- Advertisement -

हालांकि अभी केवल दो चरण के परिणाम घोषित किए गए हैं. अभी तीसरे चरण के परीक्षण के परिणाम की घोषणा नहीं की गई है. माना जा रहा है कि जल्द ही इसकी घोषणा की जाएगी.

ट्रायल में क्या पता चला
ऑक्सफ़ोर्ड यूनिवर्सिटी ने वैक्सीन को 1,077 लोगों पर ट्राई किया. इन लोगों पर हुए प्रयोग में यह बात सामने आयी है कि वैक्सीन के इंजेक्शन से इन लोगों के शरीर में एंटीबॉडी का निर्माण हुआ है. ऑक्सफ़ोर्ड यूनिवर्सिटी की यह सफलता काफी उम्मीद जगाती है.

- Advertisement -

लांसेट’ नामक पत्रिका में सोमवार को प्रकाशित शोध में, वैज्ञानिकों ने कहा कि उन्होंने पाया कि उनके प्रायोगिक कोविड-19 टीके ने 18 से 55 वर्ष की आयु के लोगों में दोहरी प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया उत्पन्न की है.

ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय में जेनर इंस्टीट्यूट के निदेशक डॉ. एड्रियन हिल ने कहा, ‘‘हम लगभग हर किसी में अच्छी प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया देख रहे हैं.’’ उन्होंने कहा, ‘‘यह टीका विशेष रूप से प्रतिरक्षा प्रणाली के दोनों दोनों पक्षों को मजबूत कर देता है.’’ हिल ने कहा कि एंटीबॉडी को निष्क्रिय करने से जो परमाणु उत्पन्न होते हैं जो संक्रमण को रोकने के लिए महत्वपूर्ण हैं. इसके अलावा, इस टीका से शरीर की टी-कोशिकाओं में एक प्रतिक्रिया होती है जो कोरोना वायरस से लड़ने में मदद करते हैं.

- Advertisement -

उन्होंने कहा कि टीके की प्रभावशीलता का मूल्यांकन करने वाले बड़े परीक्षणों में ब्रिटेन के लगभग 10,000 लोगों के साथ-साथ दक्षिण अफ्रीका और ब्राजील के प्रतिभागी शामिल हैं. ये परीक्षण अभी बड़े पैमाने पर जारी हैं. अमेरिका में जल्द ही एक और बड़ा परीक्षण शुरू होने वाली है, जिसमें लगभग 30,000 लोगों को शामिल करने का लक्ष्य रखा गया है.

टीके की प्रभावशीलता का निर्धारण वैज्ञानिक कितनी जल्दी कर पाते हैं, यह बहुत हद तक इस बात पर निर्भर करेगा कि वहां कितना अधिक परीक्षण होता है, लेकिन हिल ने अनुमान लगाया कि उनके पास यह सुनिश्चित करने के लिए वर्ष के अंत तक पर्याप्त डेटा हो सकता है कि क्या टीका को सामूहिक टीकाकरण अभियानों के लिए अपनाया जाना चाहिए.

हिल ने कहा कि ऑक्सफोर्ड का टीका बीमारी और उसके प्रसार को कम करने के लिए बनाया गया है. हिल ने कहा कि ऑक्सफोर्ड ने वैश्विक स्तर पर अपने टीके के उत्पादन के लिए दवा निर्माता कंपनी एस्ट्राजेनेका के साथ साझेदारी की है और कंपनी पहले ही दो अरब खुराक बनाने की प्रतिबद्धा जता चुकी है.

- Advertisement -

Leave a Reply

Discount Code : ks10

NEWS, JOBS, OFFERS यहां सर्च करें

Shubham Sharmahttps://khabarsatta.com
Editor In Chief : Shubham Sharma

सोशल प्लेटफॉर्म्स में हमसे जुड़े

11,007FansLike
7,044FollowersFollow
793FollowersFollow
4,050SubscribersSubscribe

More Articles Like This

- Advertisement -

Latest News

भूकंप के दौरान सतर्कता से जुड़ी कुछ जरूरी बातें, जरूर पढ़े और सबके साथ शेयर जरूर करें

भूकंप के दौरान सतर्कता से जुड़ी कुछ जरूरी बातें, जरूर पढ़े और सबके साथ शेयर जरूर करें...

Seoni Bhukamp News: सिवनी में एक दिन में 2 बार आए भूकंप की तीव्रता 3.1 और 3.5 हुई दर्ज

सिवनी। सिवनी जिले में शनिवार को दोपहर 12:49 मिनिट 17 सेकंड में भूकंप का जोरदार झटका महसूस किया गया था जिसके बाद...

Seoni Bhukamp News: भूकंप का दूसरा झटका हुआ महसूस

सिवनी। सिवनी जिले में शनिवार को दोपहर 12:49 में भूकंप का जोरदार झटका महसूस किया गया था जिसके बाद शाम होते होते...

भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष ने कह दी बड़ी बात, चुनाव हार जाना मंजूर है लेकिन गलत आश्वासन नहीं देंगे

वैशाली। बिहार विधानसभा चुनाव- 2020 में भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा खूब पसीना बहा रहे हैं। चुनाव प्रचार के लिए बिहार में कैंप...

इंग्लैंड में लॉकडाउन, बोरिस जॉनसन कर रहे नए नियमों पर विचार

लंदन। कोविड-19 महामारी के मद्देनजर वैज्ञानिकों द्वारा दी गई चेतावनी को गंभीरता से लेते हुए  इंग्लैंड में अगले सप्ताह से लॉकडाउन लागू...