Saturday, April 17, 2021

Basant Panchmi 2021 : कल क्या है खास, जाने इस दिन का महत्व

माघ शुक्ल पंचमी 16 फरवरी को वसंत पंचमी मनाई जाएगी। इस वर्ष यह त्योहार रेवती नक्षत्र में मनाया जाएगा जिसके माध्यम से पूरे दिन शुभ कार्य किए जा सकते हैं। लोहड़ी और मकर संक्रांति के बाद, वसंत पंचमी मनाने के लिए तैयार है

Must read

- Advertisement -

ऋतुओ का राजा बंसत ऋतू का आगमन कल बंसत पंचमी (Basant Panchmi 2021) के साथ होने जा रहा है | ऋतुराज वसंत का आगमन माघ शुक्ल पंचमी 16 फरवरी को वसंत पंचमी (Basant Panchmi 2021) पर मनाया जाएगा। इस वर्ष वसंत पंचमी को रेवती नक्षत्र में मनाया जाएगा जिसके माध्यम से पूरे दिन शुभ कार्य किए जा सकते हैं। लोहड़ी और मकर संक्रांति के बाद, वसंत पंचमी मनाने के लिए तैयार है। यह दिन शादियों के लिए विशेष होगा और शिक्षा के क्षेत्र से जुड़े लोगों के लिए भी इसका विशेष महत्व है। प्रकृति में नए बदलाव भी इसी दिन से दिखाई देंगे।

देवी सरस्वती चढ़ाए पीले फूल

वसंत पंचमी (Basant Panchmi 2021) पर देवी सरस्वती को पीले फूल चढ़ाए जाते हैं । पूजा का शुभ क्षण भी बहुत महत्वपूर्ण है। यह दिन वसंत के आगमन का प्रतीक है। इसलिए श्रद्धालु गंगा और अन्य पवित्र नदियों में स्नान करके पूजा करेंगे। इस समय फूल खिलते हैं, गेहूं का खेत भी खुलता है।

वसंत पंचमी का शुभ मुहूर्त

वसंत पंचमी (Basant Panchmi 2021) का शुभ मुहूर्त 16 फरवरी को सुबह 3:36 बजे शुरू होगा और 17 फरवरी को सुबह 5:46 बजे समाप्त होगा। पंचमी के अवसर पर, रेवती नक्षत्र में अमृतसिद्धी योग किया जाएगा और रवि योग में सरस्वती की पूजा की जाएगी। वसंत पंचमी पूजा का शुभ मुहूर्त लगभग 6 घंटे का होता है। जिसमें अभिजीत मुहूर्त दोपहर 11:41 से दोपहर 12:26 तक रहेगा। इस दिन पतंग और स्वादिष्ट चावल पीले कपड़े पहनकर बनाए जाते हैं।पीला वसंत का प्रतीक है।

- Advertisement -

यह भी पढ़े : Basant Panchami Katha: बसंत पंचमी 2021- कथा , पौराणिक और ऐतिहासिक महत्व यहाँ जाने

शिक्षा और संगीत वालो के लिए महत्व

शिक्षा और संगीत से जुड़े लोग इस दिन का सालों से इंतजार कर रहे हैं। ऐसा माना जाता है कि माघ महीने में शुक्ल पक्ष के पांचवें दिन सरस्वती ब्रह्मा के मुख से प्रकट हुई थीं। इसलिए इस दिन को वसंत पंचमी के रूप में मनाया जाता है। पुराणों में कहा गया है कि एक बार जब ब्रह्मा टहलने के लिए गए, तो पूरी दुनिया शांत लग रही थी। चारों ओर एक अजीब सी खामोशी देखकर, देवताओं को ब्रह्मांड के निर्माण में कुछ याद आने लगा। तब देवी सरस्वती ब्रह्मा के मुख से वीणा बजाती हुई प्रकट हुईं। इस प्रकार ध्वनि और संगीत की लय दुनिया में फिर से उभरने लगी।

- Advertisement -

यह भी पढ़े : ऋषि पंचमी में हुआ नागशैला का आयोजन

- Advertisement -
- Advertisement -

More articles

- Advertisement -

Latest article

_ _