khabar-satta-app
Home ज्योतिष और वास्तु Makar Sankranti 2020 : मकर संक्रांति 14 या 15 जनवरी ?,जानें दिल्ली के प्रख्यात पं. लक्ष्मीचंद्र शर्मा से सही...

Makar Sankranti 2020 : मकर संक्रांति 14 या 15 जनवरी ?,जानें दिल्ली के प्रख्यात पं. लक्ष्मीचंद्र शर्मा से सही तारीख के साथ पूजा का शुभ मुहूर्त

Makar Sankranti 2020: हिंदू धर्म में अक्सर कई बार त्योहारों की तारीख और पूजा के शुभ मुहूर्त को लेकर लोग परेशानी में पड़ जाते हैं। कुछ ही दिनों में मकर संक्रांति का त्योहार आने वाला है । लेकिन इस बार भी मकर संक्रांति की सही तारीख को लेकर उलझन की स्थिति बनी हुई है कि मकर संक्रांति का त्योहार इस बार 14 जनवरी को मनाया जाएगा या 15 जनवरी को। ज्योतिषीय गणनाओं के अनुसार इस वर्ष 15 जनवरी को मकर संक्रांति का त्योहार मनाना चाहिए। 

दिल्ली के प्रख्यात पं. लक्ष्मीचंद्र शर्मा ने जानकारी देते हुए बताया की मकर संक्रांति में ‘मकर’ शब्द मकर राशि को इंगित करता है जबकि ‘संक्रांति’ का अर्थ संक्रमण अर्थात प्रवेश करना है। मकर संक्रांति के दिन सूर्य धनु राशि से मकर राशि में प्रवेश करता है। एक राशि को छोड़कर दूसरे में प्रवेश करने की इस विस्थापन क्रिया को संक्रांति कहते हैं। 

- Advertisement -

मकर संक्रांति का शुभ मुहूर्त-

मकर संक्रांति 2020- 15 जनवरी
संक्रांति काल- 07:19 बजे (15 जनवरी)
पुण्यकाल-07:19 से 12:31 बजे तक
महापुण्य काल- 07:19 से 09: 03 बजे तक
संक्रांति स्नान- प्रात: काल, 15 जनवरी 2020

- Advertisement -

पं. लक्ष्मीचंद्र शर्मा ने बताया की दरअसल, इस साल 15 जनवरी को सूर्य का मकर राशि में आगमन 14 जनवरी मंगलवार की मध्य रात्रि के बाद रात 2 बजकर 7 मिनट पर हो रहा है। मध्य रात्रि के बाद संक्रांति होने की वजह से इसके पुण्य काल का विचार अगले दिन ब्रह्म मुहूर्त से लेकर दोपहर तक होगा। इसी वजह से मकर संक्रांति बुधवार 15 जनवरी को मनाई जाएगी। 


मकर संक्रांति का महत्व-
माना जाता है कि इस दिन सूर्य अपने पुत्र शनिदेव से नाराजगी भूलाकर उनके घर गए थे। धार्मिक मान्यताओं के अनुसार इस दिन पवित्र नदी में स्नान, दान, पूजा आदि करने से व्यक्ति का पुण्य प्रभाव हजार गुना बढ़ जाता है। इस दिन से मलमास खत्म होने के साथ शुभ माह प्रारंभ हो जाता है। इस खास दिन को सुख और समृद्धि का दिन माना जाता है।

- Advertisement -

मकर संक्रांति को क्यों कहा जाता है पतंग महोत्सव पर्व-
यह पर्व ‘पतंग महोत्सव’ के नाम से भी जाना जाता है। इस दिन लोग छतों पर खड़े होकर पतंग उड़ाते हैं। हालांकि पतंग उड़ाने के पीछे कुछ घंटे सूर्य के प्रकाश में बिताना मुख्य वजह बताई जाती है। सर्दी के इस मौसम में सूर्य का प्रकाश शरीर के लिए स्वास्थवर्द्धक और त्वचा और हड्डियों के लिए बेहद लाभदायक होता है। 

- Advertisement -

Discount Code : ks10

NEWS, JOBS, OFFERS यहां सर्च करें

Shubham Sharmahttps://khabarsatta.com
Editor In Chief : Shubham Sharma

Leave a Reply

सोशल प्लेटफॉर्म्स में हमसे जुड़े

11,007FansLike
7,044FollowersFollow
791FollowersFollow
4,050SubscribersSubscribe

More Articles Like This

- Advertisement -

Latest News

Bihar Assembly Election: मुजफ्फरपुर की बोचहां विधायक ने सिंबल वापसी का बदला सिंबल वापस कर लिया या यह उनका हृदय परिवर्तन था?

मुजफ्फरपुर। बिहार विधानसभा चुनाव 2020 (Bihar Assembly Elections)के दौरान मुजफ्फपुर (Muzaffarpur) चुनाव से पहले ही शीर्ष स्तर के राजनीतिक...

सिवनी: HDFC बैंक का कर्मचारी कोरोना पॉजिटिव, इतने दिनों तक बैंक में लगा रहेगा ताला

सिवनी। नगर के कचहरी चौक स्थित एचडीएफसी बैंक (HDFC BANK SEONI) में सोमवार को एक फील्ड ऑफिसर की कोरोना पॉजिटिव रिपोर्ट आने के...

सिवनी: मूर्ति विसर्जन के लिए गाइडलाइन जारी – जुलूस व चल समारोह में रहेगा पूर्णत: प्रतिबंध

सिवनी: कलेक्टर डॉ राहुल हरिदास फटिंग एवं पुलिस अधीक्षक श्री कुमार प्रतीक अध्यक्षता में राजस्व एवं पुलिस अधिकारियों की संयुक्त बैठक का...

सिवनी कोरोना न्यूज़ : 6 व्यक्ति हुए कोरोना वायरस का शिकार, वहीं 8 हुए स्वस्थ अब 67 एक्टिव केस

सिवनी : मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ के.सी. मेशराम द्वारा जानकारी देते हुए बताया गया की विगत देर रात प्राप्त रिपोर्ट...

भारतीय सीमा में घुसा चीनी सैनिक, आईकार्ड समेत अहम दस्तावेज बरामद

नई दिल्ली: भारत-चीन (India- China) के बीच LAC पर जारी तनाव के बीच सुरक्षा बलों ने लद्दाख के चुमार-डेमचोक इलाके में एक चीनी...