Thursday, January 26, 2023
Homeदेशकोरोना की नई लहर से चीन के सामने आर्थिक संकट! वेतन न मिलने...

कोरोना की नई लहर से चीन के सामने आर्थिक संकट! वेतन न मिलने पर कई शहरों में नागरिकों का विरोध प्रदर्शन; VIDEO – 247 China News

चीन पर कोरोना वायरस की आर्थिक मार पड़ रही है और अब यह तस्वीर देखने को मिल रही है कि चीन के लोगों के पास पैसा नहीं बचा है

- Advertisement -

चीन में वेतन के लिए विरोध: कोरोना की नई लहर से चीन में कोहराम मच गया है. वहीं जहां ऐसी खबरें आ रही हैं कि कोरोना संक्रमण के कारण कई प्रांतों के अस्पतालों में बेड उपलब्ध नहीं हैं, वहीं इस लहर से चीन को आर्थिक रूप से नुकसान होने के संकेत भी मिल रहे हैं. 

दुनिया की सबसे बड़ी अर्थव्यवस्थाओं की सूची में शामिल चीन पर कोरोना वायरस की आर्थिक मार पड़ रही है और अब तस्वीर देखने को मिल रही है कि चीन के लोगों के पास पैसा नहीं बचा है. कई जगहों पर लोगों की सैलरी रोक दी गई है. 

- Advertisement -

लिहाजा चीनी नागरिकों के सामने दोहरा संकट आ गया है कि कोरोना संकट के चलते उसमें किए गए काम का पैसा रुक गया है. भीख मांगते लोगों के वीडियो भी सोशल मीडिया पर वायरल हुए थे। अब कई शहरों में चीनी लोग भी सैलरी के पैसे के लिए सड़कों पर उतरते नजर आ रहे हैं.

247 China News के ट्विटर हैंडल से चीन की आर्थिक स्थिति को दर्शाने वाला एक वीडियो शेयर किया गया है। इस वीडियो में कई सुरक्षाकर्मी विरोध करते नजर आ रहे हैं. दावा किया जा रहा है कि ये सुरक्षाकर्मी वेतन नहीं मिलने का विरोध कर रहे हैं. 

- Advertisement -

चीन के कई अन्य शहरों में लोग चिंतित हैं क्योंकि कंपनियां वेतन रोक रही हैं। कई लोग वेतन भुगतान की मांग को लेकर हाथों में बैनर लेकर सड़कों पर विरोध करते नजर आ रहे हैं. इन विरोधों और संकट के सामने आने के बाद कंपनियों द्वारा उठाए गए रुख को देखते हुए संदेह जताया जा रहा है कि क्या चीन कर्ज संकट के आंकड़े उनसे छिपा रहा है।

Economic crisis in front of China due to new wave of Corona! Citizens protest in several cities over non-payment of salaries; VIDEO – 247 China News

दिसंबर की शुरुआत में चीन द्वारा जीरो कोरोना पॉलिसी के तहत लगाई गई पाबंदियां हटने के बाद देश में कोरोना की लहर दौड़ गई है. लोगों के जीरो कोरोना नीति के विरोध के चलते सरकार ने जीरो कोरोना नीति को वापस लेते हुए पाबंदियों में ढील दी। लेकिन इस जीरो कोरोना पॉलिसी के तहत लगाए गए प्रतिबंधों के कारण आर्थिक प्रभाव पड़ा।

- Advertisement -

विशेष रूप से राजस्व के माध्यम से स्थानीय और केंद्र सरकारों को प्राप्त होने वाले राजस्व में भी कमी आई है। बैंक फॉर इंटरनेशनल सेटलमेंट्स (BIS) की एक नई रिपोर्ट के अनुसार, गैर-वित्तीय क्षेत्र के लिए चीन का कर्ज 51.87 ट्रिलियन डॉलर तक पहुंच गया है। यह रकम चीन की जीडीपी के 295 फीसदी के बराबर है। 1995 के बाद से चीन पर इतनी बड़ी मात्रा में कर्ज कभी नहीं रहा।

- Advertisement -
Shubham Sharma
Shubham Sharmahttps://shubham.khabarsatta.com
Shubham Sharma is an Indian Journalist and Media personality. He is the Director of the Khabar Arena Media & Network Private Limited , an Indian media conglomerate, and founded Khabar Satta News Website in 2017.
RELATED ARTICLES
- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments