khabar-satta-app
Home सिवनी SEONI : बारिश के लिए अनुष्ठान, मेंढक-मेंढकी की कराई शादी, निकाली बारात

SEONI : बारिश के लिए अनुष्ठान, मेंढक-मेंढकी की कराई शादी, निकाली बारात

mendhak ki shadi
मेंढक रानी पानी दे…धान, कोदो पकन दे… इस कहावत को लेकर मंगलवार को ग्राम टेकाड़ी के ग्रामीणों ने बारात निकालकर मेंढक-मेंढकी की शादी कराई।

मेंढक रानी पानी दे…धान, कोदो पकन दे… इस कहावत को लेकर गुरुवार को सिवनी मठ मंदिर से बारात निकालकर मेंढक-मेंढकी की शादी कराई। वहीं अच्छी बारिश होने के लिए मठ मंदिर में अनुष्ठान भी किया। इस आयोजन के पीछे मान्यता है कि मेंढक-मेंढकी की शादी कराने से इंद्रदेव प्रसन्न हो जाते है। जिससे अच्छी बारिश होती है।

- Advertisement -

ऐसे हुआ आयोजन

सिवनी जिले के ढीमर समाज ने गुरुवार की दोपहर में समाज के ही कुछ छोटे बच्चों को नग्न अवस्था में मूसर (लकड़ी) पकड़ाया। जिसमें मेंढक को रस्सी के सहारे बांधा गया। इन बच्चों की मय मूसर व मेंढक के साथ पूरे क्षेत्र वासियो ने पहले पूजा-अर्चना की। इसके बाद शहर के मठ मंदिर से पूजा अर्चना कर बारात निकाली गई ।

- Advertisement -

यहां से मेंढक-मेंढकी की बारात बाजे-गाजे के साथ निकाली गई। यह बारात पदयात्रा कर शहर के विभिन्न क्षेत्रों में पहुची जिसके बाद वापस मठ मंदिर पहुचकर समाज के लोगो ने पूजा अर्चना कर अनुष्ठान किया।

बारात में समाज के बच्चे, युवा, वृद्घ, महिलाएं सहित सभी शामिल हुए थे। बारात के दौरान बारातियो द्वारा मेंढक रानी पानी दे…धान, कोदो पकन दे…के नारे भी लगाते रहे।

- Advertisement -

मेंढक को पिलाते रहे पानी

बारात से लेकर मंदिर पहुंचते तक लोगो द्वारा मूसर में बांधे गए मेंढक-मेंढकी को पानी भी पिलाते रहें। ताकि वे जिंदा रह सके और उनकी शादी हो सके। ग्रामीणों के अनुसार मेंढक को तरसा-तरसा कर पानी पिलाने के पीछे मान्यता है कि मेंढक जितना तड़पते हैं, भगवान इंद्र देव को उतना ही दर्द होता है। मेंढक की इस तड़पन को दूर करने के लिए भगवान इंद्रदेव बारिश करने लगते हैं।

ये है मान्यता

सामाजिक लोगो के अनुसार मूसर में मेंढक को बांधकर उनकी शादी कराने और अनुष्ठान करने से मूसलाधार बारिश होती है। मेंढक को मूसर में बांधने से जहां वह अधिक तड़पता है। वहीं उसे देखकर भगवान इंद्रदेव मूसलाधार बारिश करते हैं। ग्रामीणों ने बताया कि यह परपंरा सदियों से चली आ रही है।

जब भी भी बारिश नहीं होती है, उस वर्ष इस तरह का आयोजन किया जाता है। यह परपंरा ग्राम में सदियों से चली आ रही है। जिस वर्ष भी बारिश नहीं होती, उस वर्ष ग्राम के सभी लोग एकत्र होकर मेंढक-मेंढकी की शादी कराते हैं। ऐसे आयोजन से निश्चिततौर पर इंद्र देव प्रसन्न होते हैं और तेज बारिश होती है। वर्ष 2008 में भी इसी तरह का आयोजन किया गया था

- Advertisement -

Discount Code : ks10

NEWS, JOBS, OFFERS यहां सर्च करें

Shubham Sharmahttps://khabarsatta.com
Editor In Chief : Shubham Sharma

Leave a Reply

सोशल प्लेटफॉर्म्स में हमसे जुड़े

11,007FansLike
7,044FollowersFollow
786FollowersFollow
4,050SubscribersSubscribe

More Articles Like This

- Advertisement -

Latest News

Happy Dussehra Wishes: दशहरे की बधाई दें इन शानदार मैसेज से , SMS और Images भेजकर करें Wish

नई दिल्‍ली। Happy Dussehra Wishes: दशहरे की बधाई दें इन शानदार मैसेज से , SMS और Images भेजकर...

कार्टून: F.A.T.F. ग्रे लिस्ट में ही रखेगा पापिस्तान को

कार्टून: F.A.T.F. ग्रे लिस्ट में ही रखेगा पापिस्तान को https://www.instagram.com/p/CGwcj1uHcIk/

WhatsApp चलाने के लिए देने होंगे पैसे, इन यूजर्स से लिया जाएगा चार्ज, कंपनी ने किया ऐलान

नई दिल्ली. भारत जैसे देश में Whatsapp का इस्तेमाल अभी तक पूरी तरह से मुफ्त रहा है। हालांकि जल्द ही WhatsApp के कुछ चुनिंदा...

दबंगों ने 20 आदिवासियों की जलाई झोपड़ियां, 13 अक्टूबर की घटना पर अभी तक नहीं हुई कार्रवाई

धमतरी। जिले के दुगली गांव के धोबाकच्छार में दबंगों ने 20 आदिवासी व गरीब परिवारों से जमीन खाली कराने के लिए उनकी झोपड़ियों में...

मध्य प्रदेश: कमल नाथ का सिर काटने की बात कहने वाले मंत्री पर केस दर्ज

मुरैना। मध्य प्रदेश के कृषि राज्यमंत्री एवं दिमनी विधानसभा सीट से भाजपा प्रत्याशी गिर्राज डंडौतिया के खिलाफ शनिवार देर शाम दिमनी थाने में एफआइआर दर्ज...