बड़ी खबर : Dalsagar तालाब के 2 गेट खुले

0
1558

सिवनी : कलेक्टर श्री प्रवीण सिंह कि जागरूकता के चलते लगातार बारिश के कारण दलसागर Dalsagar तालाब के जलस्तर अपने जलभराव के ऊपर होते देख नींद में सोई नगर पालिका परिषद , सिवनी को जगाया और तत्काल समय अवधि में दलसागर तालाब के निर्गम दो गेट को खोलने पर कार्यवाही का आदेश दिया .

उल्लेखनीय हे कि गत दिवस सिवनी कलेक्टर श्री प्रवीण सिंह ने दलसागर तालाब और विसर्जन घाट का निरीक्षण कर ये निर्णय लिया.

समाजिक कार्यकर्ता लक्ष्मी कश्यप ने बताया कि नगरपालिका परिषद सिवनी के लापरवाही के कारण दलसागर तालाब के निर्गम गेट में साल में देख रेख न होने के कारण गेट खोलने में बहुत परेशानी हुई अंततः रविवार को सुबह से जद्दोजहद के वाद जे .सी .वी .मशीन कि मदद से दोपहर को लगभग 1बजे सोमवारी चोक , भेरौगंज के गेट खोलने में में सफलता मिली

कश्यप ने बताया कि नगर पालिका परिषद , सिवनी कि लापरवाही के चलते खोले गये दलसागर तालाब के निर्गम गेट से निकला पानी स्थानीय नागरिको के धरो में जा घूसा जिससे उनके धरेलू समान अस्त व्यस्त हो गये और समीप सड़क ने मानो नदी का रुप ले लिया हो

इस दौरान सिवनी कलेक्टर श्री कश्यप ने सिवनी कलेक्टर को फोन पर वस्तुस्थिति से अवगत कराया जिसपर नगर पालिका कर्मचारियों ने व्यवस्ता को कंट्रोल में लेकर निर्धरित स्थित को बनाकर खुलै पानी निकासी के गेट को निर्धरित माप दंड से व्यवस्थित किया आज सभी स्थानीय नागरिको को भूतपूर्व नगर पालिका अध्यक्ष पंडित मूलचंद दुबे जी याद आये जिनके कारण निर्गम पानी निकासी कि बड़ी आर .सी .सी .कि नाली का निर्माण कराया था अन्यथा इसके न होने से बहुत बड़ी समस्य़ा बन जाती

यह भी पढ़े :  सिवनी जिला अस्पताल पहुँचकर हतप्रभ हो रहे मरीज

कश्यप ने बताया कि समय समय पर नगर पालिका परिषद , सिवनी को इसको ले अवगत कराया जाता रहा जिसपर सिवनी ज़िले के समाचार पत्रो ने उन्हे सचेत किया किन्तु कुंभकरन कि नींद में मदमस्त होने के कारण ये हाल हुऐ कि स्थानीय रहवासियों के घर में पानी जा समाया

शुक्र हे सिवनी कलेक्टर श्री प्रवीण सिंह जी कि जागरूकता के चलते नींद में सोई नगर पालिका परिषद , सिवनी जागी और कार्य में जूट गई सभी स्थानीय नागरिको ने सिवनी कलेक्टर श्री प्रवीण सिंह जी का आभार व्यक्त किया

dalsagar
dalsagar

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.