Thursday, March 4, 2021

कोविशील्ड को हरी झंडी मिलने पर अदार पूनावाला बोले- हमें मेहनत का मिल गया फल

Must read

Khabar Satta Deskhttps://khabarsatta.com
खबर सत्ता डेस्क, कार्यालय संवाददाता
- Advertisement -

सीरम इंस्टिट्यूट ऑफ इंडिया के मुख्य कार्यकारी अधिकारी (सीईओ) अदार पूनावाला ने रविवार को कहा कि ऑक्सफोर्ड-एस्ट्राजेनेका का कोविड-19 टीका ‘कोविशील्ड’ आगामी सप्ताहों में टीकाकरण के लिए तैयार है। भारत के दवा नियामक द्वारा कोविशील्ड के सीमित आपात इस्तेमाल को मंजूरी दिए जाने के तत्काल बाद पूनावाला ने यह बयान दिया।

PunjabKesari

- Advertisement -

 नववर्ष की शुभकामनाएं: पूनावाला
पूनावाला ने ट्वीट किया कि सभी को नववर्ष की शुभकामनाएं। सीरम इंस्टिट्यूट ऑफ इंडिया ने टीके के भंडारण के लिए जो जोखिम उठाए, अंतत: उनका फल मिल रहा है। भारत का पहला कोविड-19 टीका ‘कोविशील्ड’ आगामी सप्ताह में टीकाकरण के लिए स्वीकृत, सुरक्षित, प्रभावी और तैयार है। उन्होंने ट्वीट कर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन समेत उन सभी लोगों और संस्थाओं को धन्यवाद दिया, जिन्होंने टीका विकसित करने में सहयोग दिया।

WHO ने भी किया फैसले का स्वागत  
इसके अलावा विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने भी केंद्रीय औषधि मानक नियंत्रक संगठन (सीडीएससीओ) के फैसले का स्वागत किया। स्वास्थ्य संगठन में दक्षिण पूर्व एशिया क्षेत्र की क्षेत्रीय निदेशक डॉ पूनम खेत्रपाल सिंह ने कहा कि भारत में कोरोना वैक्सीन के आपात इस्तेमाल को मंजूरी देने का फैसला स्वागत योग्य है।

- Advertisement -

भारत को कोरोना के खिलाफ जंग में मिलेगी मजबूती: डब्ल्यूएचओ
डब्ल्यूएचओ ने कहा कि दक्षिण पूर्वी एशिया क्षेत्र में कोरोना वैक्सीन के आपात इस्तेमाल को सबसे पहले मंजूरी भारत में दी गयी है। भारत का यह निर्णय इस क्षेत्र में कोरोना के खिलाफ जंग को मजबूती देगा। डॉ खेत्रपाल ने कहा कि प्राथमिकता के आधार पर लक्षित आबादी समूह के टीकाकरण के साथ अन्य जन स्वास्थ्य उपायों के लागू करने तथा सामुदायिक भागीदारी से कोरोना के प्रभाव को कम करने में मदद मिलेगी।

यह भी पढ़े :  भारत खालिस्तानी आतंकी कुलदीप के प्रत्यर्पण के लिए जाएगा ब्रिटेन हाईकोर्ट भारत
- Advertisement -
- Advertisement -

More articles

Latest article

यह भी पढ़े :  आप जानकर रह जाएंगे हैरान, अमेरिका ने भारत से लिया है 15 लाख करोड़ से अधिक का कर्ज