khabar-satta-app
Home देश निर्भया : दोषी ने दायर की याचिका, कहा- अपराध के वक्त नाबालिग था

निर्भया : दोषी ने दायर की याचिका, कहा- अपराध के वक्त नाबालिग था

वकील ए. पी. सिंह ने मृतक दोषी राम सिंह की ओर से राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग का दरवाजा खटखटाया और जेल में राम सिंह की मौत के लिए उसके नाबालिग बेटे को मुआवजे प्रदान कराने की मांग की।

नई दिल्ली। निर्भया सामूहिक दुष्कर्म और हत्या मामले में मौत की सजा पाए चार दोषियों में से एक पवन गुप्ता ने मंगलवार को फिर से नाबालिग होने का दावा करते हुए सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया। अपने वकील ए. पी. सिंह के माध्यम से दायर की गई दूसरी उपचारात्मक (क्यूरेटिव) याचिका में पवन ने कहा कि उसके स्कूल छोड़ने के प्रमाण पत्र (एसएलसी) में नए सबूत सामने आए हैं, जो दावा करते हैं कि जब अपराध हुआ था, तब उसकी उम्र 16 साल थी।

याचिका में कहा गया है, “नया सबूत स्कूल के रजिस्टर में सामना आया है। इसमें याचिकाकर्ता की जन्म की तारीख आठ अक्टूबर 1996 बताई गई है। इसके अनुसार घटना के दिन उसकी उम्र 16 साल दो महीने और आठ दिन थी।”

- Advertisement -

याचिकाकर्ता की ओर से दलील में कहा गया कि नाबालिग होने के तथ्य दिल्ली पुलिस ने जानबूझकर अदालत से छिपाए। ट्रायल कोर्ट और हाईकोर्ट ने भी इस तथ्य को नजरअंदाज किया। ये सब मीडिया और जनता के दबाव में हुआ।

दरअसल 20 जनवरी को सुप्रीम कोर्ट ने मौत की सजा पाए पवन गुप्ता की उस याचिका को खारिज कर दिया था, जिसमें उसने दावा किया था कि 2012 में जब ये घटना हुई तब वह नाबालिग था। इसके बाद उसकी पुनर्विचार याचिका को भी खारिज कर दिया था।

- Advertisement -

न्यायमूर्ति आर. भानुमति, न्यायमूर्ति अशोक भूषण और न्यायमूर्ति ए. एस. बोपन्ना की पीठ ने सुनवाई के बाद फैसला सुनाते हुए कहा था कि याचिका में कोई आधार नहीं मिला है। इस मामले में पहले ट्रायल कोर्ट, फिर हाईकोर्ट और जुलाई 2018 में पुनर्विचार याचिका में सुप्रीम कोर्ट फैसला दे चुका है। इसलिए बार-बार इस मामले में याचिका को अनुमति नहीं दी जा सकती।

वहीं पुलिस की ओर से पेश सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने इसका विरोध करते हुए कहा था कि पुलिस ने जनवरी 2013 में आयु परीक्षण प्रमाण पत्र लगाया था और उसके मां-पिता ने भी इसकी पुष्टि की थी। दोषी ने कभी भी इस पर विवाद नहीं किया। बार-बार दोषी को याचिका दाखिल करने की अनुमति नहीं दी जा सकती। निर्भया के दोषियों को 20 मार्च को फांसी दी जानी है। याचिका में दोषी को फांसी की सजा पर रोक लगाने की प्रार्थना की गई है।

- Advertisement -

इस बीच वकील ए. पी. सिंह ने मृतक दोषी राम सिंह की ओर से राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग का दरवाजा खटखटाया और जेल में राम सिंह की मौत के लिए उसके नाबालिग बेटे को मुआवजे प्रदान कराने की मांग की। याचिका में मृत्युदंड पाए चारों दोषियों की फांसी की सजा पर भी रोक लगाने की मांग की गई है।

- Advertisement -

Discount Code : ks10

NEWS, JOBS, OFFERS यहां सर्च करें

Shubham Sharmahttps://khabarsatta.com
Editor In Chief : Shubham Sharma

Leave a Reply

सोशल प्लेटफॉर्म्स में हमसे जुड़े

11,007FansLike
7,044FollowersFollow
785FollowersFollow
4,050SubscribersSubscribe

More Articles Like This

- Advertisement -

Latest News

सिवनी कोरोना न्यूज़: 13 नए कोरोना मरीज मिले, अब 72 एक्टिव केस

सिवनी: मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ के सी मेशराम द्वारा जानकारी देते हुए बताया गया कि...

सिवनी: घर बैठे देख पाएंगे रावण दहन का आयोजन

सिवनी: रावण दहन आयोजन में आप इस बार ऑनलाइन ही शामिल होये, अपने मोबाईल पर या सिस्टम पर यूट्यूब, फेसबुक तथा साई...

Happy Dussehra Wishes: दशहरे की बधाई दें इन शानदार मैसेज से , SMS और Images भेजकर करें Wish

नई दिल्‍ली। Happy Dussehra Wishes: दशहरे की बधाई दें इन शानदार मैसेज से , SMS और Images भेजकर करें Wish Happy Dussehra Wishes:...

कार्टून: F.A.T.F. ग्रे लिस्ट में ही रखेगा पापिस्तान को

कार्टून: F.A.T.F. ग्रे लिस्ट में ही रखेगा पापिस्तान को https://www.instagram.com/p/CGwcj1uHcIk/

WhatsApp चलाने के लिए देने होंगे पैसे, इन यूजर्स से लिया जाएगा चार्ज, कंपनी ने किया ऐलान

नई दिल्ली. भारत जैसे देश में Whatsapp का इस्तेमाल अभी तक पूरी तरह से मुफ्त रहा है। हालांकि जल्द ही WhatsApp के कुछ चुनिंदा...