Home देश मुरादाबाद में सुबह 3 बजे लगी कोर्ट, 5:15 बजे भेज गए जेल 17 पत्थरबाज, मेडिकल टीम पर किया था...

मुरादाबाद में सुबह 3 बजे लगी कोर्ट, 5:15 बजे भेज गए जेल 17 पत्थरबाज, मेडिकल टीम पर किया था हमला

मुरादाबाद में कोरोना से जंग में दिन-रात जुटे चिकित्सकों और पुलिसकर्मियों की टीम पर ताबड़तोड़ पत्थर बरसाने के आरोपी 17 पत्थरबाजों के  लिए अल सुबह तीन बजे अदालत बैठी। सुनवाई हुई और अदालत ने इन सभी को 14 दिन की न्यायिक अभिरक्षा में भेज दिया। सुबह सवा पांच बजे इन सभी को जेल की सलाखों के  पीछे पहुंचा दिया गया। इस काम में पुलिस व प्रशासनिक अमला रात भर जुटा रहा। ऐसा कम ही देखने में आता है कि इतनी सुबह अदालत किसी मामले को सुने। पर यह मामला था ही इतना गंभीर।

नवाबपुरा में चिकित्सीय व पुलिस टीम  पर पत्थर बरसाने के आरोपी 17 लोगों को पुलिस ने गिरफ्तार किया और तत्काल इन्हें कोर्ट में पेश करने की गुजारिश की। अदालत ने भी मामले की नजाकत को समझा और सुबह तीन बजे रिमांड मजिस्ट्रेट ने अपने घर पर ही इस मामले की सुनवाई की। अदालत ने सात महिलाओं समेत इन सभी 17 आरोपियों को 14 दिन की न्यायिक अभिरक्षा में जेल भेज दिया। पुलिस ने सक्रियता दिखाई और सुबह सवा पांच बजे इन सभी आरोपियों को जेल पहुंचा दिया।

- Advertisement -

गौरतलब है कि थाना नागफनी के मुहल्ला नवाबपुरा में बुधवार को चिकित्सकीय एवं पुलिस टीम पर उस समय जमकर पथराव हुआ जब यह टीम यहां लोगों को क्वारंटीन करने के लिए लेने गई थी। इसी मुहल्ले के एक व्यक्ति की कोरोना से मौत हो चुकी है और उसी के संपर्क के लोगों को क्वारंटीन किया जाना था। इस पथराव में एक डॉक्टर,फार्मेसिस्ट समेत छह स्वास्थ्य कर्मी घायल हो गए और पुलिसकर्मियों को भी चोटें आईं। फायरिंग भी हुई। डीएम, एसएसपी को मौके पर जाकर जूझना पड़ा।

पूरी रात जागे, सुबह छह बजे सोये डीएम, एसएसपी
इस पूरे प्रकरण पर डीएम राकेश कुमार सिंह एवं एसएसपी अमित पाठक ने पैनी निगाह बनाए रखी। इन सभी आरोपियों की गिरफ्तारी से लेकर इनकी अदालत में पेशी और जेल जाने की प्रक्रिया के बाद ही अधिकारियों को चैन आया। अन्य अधिकारियों के साथ ही ये दोनों भी पूरी रात जागे और जब आरोपी जेल चले गए तब सुबह साढ़े पांच बजे ये दोनों सोने के लिए गए। 

- Advertisement -

कहीं थाने पर न उमड़ जाए हुजूम, इसलिए बरती सावधानी
इस प्रकरण में पुलिस ने फूंक-फूंक कर कदम रखा। चूंकि थाना नागफनी से चंद कदम की दूरी पर ही यह बवाल हुआ था और सारे आरोपी भी थाना नागफनी पर ही थे, इसलिए पुलिस को यह आशंका थी कि सुबह होते ही थाने पर भीड़ न उमड़ आए। कहीं मामला बिगड़ न जाए और भीड़ बेकाबू न हो जाए। इस तरह का इनपुट भी पुलिस को मिल रहा था। ऐसे में पुलिस ने इस कदर सावधानी बरती कि दिन निकलने से पहले ही पकड़े गए सारे आरोपी जेल जा चुके थे।
 
जेल में किए गए क्वारंटीन
सभी 17 आरोपियों को जेल में भी क्वारंटीन किया गया है। चूंकि ये सभी उस मुहल्ले से आए हैं जो हॉट स्पॉट है और वहां एक कोरोना पॉजिटिव की मौत हो चुकी है। जेल अधीक्षक उमेश सिंह ने बताया कि इन सभी को जेल में ही अलग रखा गया है।

Web Title : Court in Moradabad at 3 am, sent to 5 stones at jail at 5:15 pm, medical team was attacked

- Advertisement -

Discount Code : ks10

NEWS, JOBS, OFFERS यहां सर्च करें

Shubham Sharmahttps://khabarsatta.com
Editor In Chief : Shubham Sharma

Leave a Reply

सोशल प्लेटफॉर्म्स में हमसे जुड़े

11,007FansLike
7,044FollowersFollow
794FollowersFollow
4,050SubscribersSubscribe

More Articles Like This

- Advertisement -

Latest News

संकल्प पत्र पर बोली कांग्रेस- सिंधिया को कांग्रेस का दुल्हा बताने वाली BJP खुद बाराती भी नहीं बना रही है

भोपाल: विधानसभा उपचुनाव के लिए बीजेपी ने चुनावी रणनीति के तहत 28 अक्टूबर को एक साथ पूरे 28 विधानसभा...

दिग्विजय का सिंधिया से सवाल- राज्यसभा सांसद तो कांग्रेस भी बनाती थी फिर दुश्मन के सामने क्यों झुके

अशोकनगर: विधानसभा उपचुनाव के मद्देनजर पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह दो दिवसीय दौरे पर अशोकनगर के मुंगावली पहुंचे। वहां नुक्कड़ सभा में सीएम शिवराज सिंह चौहान...

निकिता हत्याकांड पर फूटा कंगना का गुस्सा, कहा- इस्लाम स्वीकार नहीं किया तो लड़की को उतार दिया मौत के

हरियाणा के फरीदाबाद जिले के बल्लभगढ़ शहर में कॉलेज से पेपर देकर बाहर निकली एक छात्रा निकिता तोमर(21) की मुस्लिम समुदाय के एक युवक...

स्वास्थ्य मंत्रालय बोला-भारत प्रति 10 लाख की आबादी पर सबसे कम केस वाले देशों में शामिल

भारत प्रति दस लाख की आबादी पर कोरोना वायरस संक्रमण और इससे होने वाली मौतों के सबसे कम मामलों वाले देशों की सूची में...

लद्दाख को चीन के भूभाग के तौर पर दिखाना : ट्विटर का जवाब पर्याप्त नहीं : मीनाक्षी लेखी

नयी दिल्ली: लद्दाख को चीन के भूभाग के तौर पर दिखाने के संबंध में संसदीय समिति के सामने माइक्रोब्लॉगिंग साइट ट्विटर का स्पष्टीकरण पर्याप्त नहीं...
x