khabar-satta-app
Home देश MAHARASHTRA : सुबह 5.47 बजे हटा राष्ट्रपति शासन, 8.05 बजे राज्यपाल ने फडणवीस-पवार को दिलाई शपथ

MAHARASHTRA : सुबह 5.47 बजे हटा राष्ट्रपति शासन, 8.05 बजे राज्यपाल ने फडणवीस-पवार को दिलाई शपथ

मुंबई में सुबह 8.05 बजे राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी ने बीजेपी नेता देवेंद्र फडणवीस को मुख्यमंत्री और एनसीपी नेता अजित पवार को उप-मुख्यमंत्री पद की शपथ दिलाई.

नई दिल्ली/मुंबई: महाराष्ट्र (Maharahstra) में 29 दिन तक चले सियासी नाटक के बाद शनिवार को आखिरकार भारतीय जनता पार्टी (BJP) नेता देवेंद्र फडणवीस ने मुख्यमंत्री पद की शपथ ले ली. राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (NCP) नेता अजीत पवार (Ajit Pawar) उपमुख्यमंत्री बने हैं. चौंकाने वाली बात यह रही कि जब शिवसेना पूरी तरह से तय मानकर चल रही थी कि कांग्रेस और एनसीपी के समर्थन से उसकी सरकार बनने जा रही है, इसी बीच शनिवार सुबह पूरा खेल ही पलट दिया.

- Advertisement -

सूत्रों के मुताबिक, शनिवार अलसुबह 5.47 बजे महाराष्ट्र में लगे राष्ट्रपति शासन को हटाने का नोटिफिकेशन जारी किया गया. इसके बाद मुंबई में सुबह 8.05 बजे राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी ने बीजेपी नेता देवेंद्र फडणवीस को मुख्यमंत्री और एनसीपी नेता अजित पवार को उप-मुख्यमंत्री पद की शपथ दिलाई. आपको बता दें कि राज्य में 12 नवंबर को राष्ट्रपति शासन लागू किया गया था.

महाराष्ट्र में विधानसभा चुनाव 21 अक्टूबर को हुआ था और इसके नतीजे 24 अक्टूबर को आये थे. बीजेपी 105 सीटों के साथ अकेली सबसे बड़ी पार्टी के तौर पर उभरी थी, वहीं शिवसेना को 56 सीटें, राकांपा को 54 और कांग्रेस को 44 सीटें आई थीं.

- Advertisement -

चुनाव पूर्व गठबंधन सहयोगी दलों भाजपा और शिवसेना ने कुल मिलाकर 161 सीटें जीती थीं. यह 288 सदस्यीय सदन में बहुमत के 145 के आंकड़े से काफी अधिक था. इसके बाद मुख्यमंत्री पद को लेकर दोनों के बीच खींचतान से दोनों में दरार पड़ गई और इससे सरकार गठन में देरी हुई.

बीजेपी ने राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी को सूचित कर दिया कि वह सरकार नहीं बना पाएगी क्योंकि उसके पास जरूरी संख्याबल नहीं है. इसके बाद राज्यपाल ने दूसरी सबसे बड़ी पार्टी शिवसेना को सरकार बनाने के लिए बुलाया. सोमवार (11 नवंबर) को उद्धव ठाकरे नीत पार्टी ने राज्यपाल से भेंट की और सरकार बनाने की इच्छा जताई, लेकिन वह अपनी जरूरी संख्या बल दिखाने के लिए अन्य पार्टियों से समर्थन का पत्र पेश करने में विफल रही.

- Advertisement -

केंद्रीय मंत्रिमंडल ने मंगलवार (12 नवंबर) को महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शासन लगाने की सिफारिश की. यह पहली बार था कि जब राज्य में विधानसभा चुनाव के बाद राजनीतिक दलों के सरकार नहीं बना पाने के चलते अनुच्छेद 356 का इस्तेमाल किया गया.

- Advertisement -

Discount Code : ks10

NEWS, JOBS, OFFERS यहां सर्च करें

Shubham Sharmahttps://khabarsatta.com
Editor In Chief : Shubham Sharma

Leave a Reply

सोशल प्लेटफॉर्म्स में हमसे जुड़े

11,007FansLike
7,044FollowersFollow
791FollowersFollow
4,050SubscribersSubscribe

More Articles Like This

- Advertisement -

Latest News

Bihar Assembly Election: मुजफ्फरपुर की बोचहां विधायक ने सिंबल वापसी का बदला सिंबल वापस कर लिया या यह उनका हृदय परिवर्तन था?

मुजफ्फरपुर। बिहार विधानसभा चुनाव 2020 (Bihar Assembly Elections)के दौरान मुजफ्फपुर (Muzaffarpur) चुनाव से पहले ही शीर्ष स्तर के राजनीतिक...

सिवनी: HDFC बैंक का कर्मचारी कोरोना पॉजिटिव, इतने दिनों तक बैंक में लगा रहेगा ताला

सिवनी। नगर के कचहरी चौक स्थित एचडीएफसी बैंक (HDFC BANK SEONI) में सोमवार को एक फील्ड ऑफिसर की कोरोना पॉजिटिव रिपोर्ट आने के...

सिवनी: मूर्ति विसर्जन के लिए गाइडलाइन जारी – जुलूस व चल समारोह में रहेगा पूर्णत: प्रतिबंध

सिवनी: कलेक्टर डॉ राहुल हरिदास फटिंग एवं पुलिस अधीक्षक श्री कुमार प्रतीक अध्यक्षता में राजस्व एवं पुलिस अधिकारियों की संयुक्त बैठक का...

सिवनी कोरोना न्यूज़ : 6 व्यक्ति हुए कोरोना वायरस का शिकार, वहीं 8 हुए स्वस्थ अब 67 एक्टिव केस

सिवनी : मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ के.सी. मेशराम द्वारा जानकारी देते हुए बताया गया की विगत देर रात प्राप्त रिपोर्ट...

भारतीय सीमा में घुसा चीनी सैनिक, आईकार्ड समेत अहम दस्तावेज बरामद

नई दिल्ली: भारत-चीन (India- China) के बीच LAC पर जारी तनाव के बीच सुरक्षा बलों ने लद्दाख के चुमार-डेमचोक इलाके में एक चीनी...