Home देश आतंकियों के संपर्क सूत्र को सेना बना रही है हथियार, कांटेक्ट ट्रेसिंग के जरिए हो रही आतंक पर चोट

आतंकियों के संपर्क सूत्र को सेना बना रही है हथियार, कांटेक्ट ट्रेसिंग के जरिए हो रही आतंक पर चोट

जम्मू। भारतीय सेना कश्मीर में परिजनों को विश्वास में लेकर सुनिश्चित कर रही है कि युवाओं को राह भटकने से रोका जाए। कश्मीर की सुरक्षा का जिम्मा संभालने वाली सेना की 15 कोर के कोर कमांडर लेफ्टिनेंट जनरल बीएस राजू ने माना है कि यह रणनीति काफी सफल रही है। सेना कांटेक्ट ट्रेसिंग (संपर्क सूत्र) मुहिम के तहत कश्मीर में सक्रिय और मारे गए आतंकवादियों के परिजनों के बारे में सारी जानकारी जुटाकर उन तक पहुंच रही है। इस दौरान परिजनों को समझाया जा रहा है कि वे युवाओं को समझाएं कि जोश में आकर वे बंदूक उठाने की गलती न करें। श्रीनगर में रविवार को कोर कमांडर ने कहा कि परिवारों की काउंसलिंग युवाओं को राह भटकने से रोकने में बहुत अहमियत रखती है। उन परिवारों तक पहुंचने की पूरी कोशिश हो रही है जिनके बच्चे गुमराह हो सकते हैं।

कोरोना को रोकने के लिए भी इस्तेमाल

- Advertisement -

बता दें कि कोर कमांडर ने कश्मीर में राष्ट्रीय राइफल्स की विक्टर फोर्स के जीओसी के रूप में कांटेक्ट ट्रेसिंग के जरिये कई युवाओं को हथियार उठाने से रोका था। सेना की विक्टर फोर्स कश्मीर के पुलवामा, अनंतनाग, शोपियां और कुलगाम में आतंकवाद के खात्मे के लिए कार्य कर रही है। कांटेक्ट ट्रेसिंग का इस्तेमाल कोरोना संक्रमितों की पहचान करने के लिए भी किया जा रहा है।

युवाओं के दिमाग से निकाल देंगे आतंकी बनने का विचार

- Advertisement -

कोर कमांडर का कहना है कि इस मुहिम के तहत सेना कई युवाओं को आतंकी बनने से रोकने में सफल रही है। ऐसे युवाओं की संख्या न बताते हुए कोर कमांडर ने स्पष्ट किया कि बंदूक उठाने वाले युवाओं की संख्या काफी कम है। हमारी कोशिश है कि युवाओं के दिमाग से आतंकवादी बनने का विचार निकाल दिया जाए।

यह भी पढ़े :  SC ने लगाई मास्क न पहनने वालों से सेवा कराने के हाईकोर्ट के आदेश पर रोक

परिजनों के संदेश पर आतंक की राह से लौट आया था माजिद

- Advertisement -

जनरल राजू ने कहा कि गुमराह युवाओं को राह पर लाने में परिजनों, दोस्तों की अहम भूमिका है। समाज का सहयोग युवाओं को हिंसा की राह छोड़ने के लिए प्रेरित कर सकता है। कई परिजन संदेश जारी कर गुमराह युवाओं को वापस ले आते हैं। ऐसी ही एक कोशिश के बाद युवा माजिद ने हथियार छोड़ दिए थे। उसे विश्वास दिलाया था कि सामान्य जीवन जीने में उसे पूरा सहयोग दिया जाएगा। आज वह जम्मू-कश्मीर के बाहर अंतिम वर्ष की पढ़ाई कर रहा है। पुलिस के अनुसार इस वर्ष कश्मीरी के विभिन्न जिलों से 80 के करीब युवा आतंकवादी बने हैं। उन्हें वापस लाने के लिए सेना के साथ पुलिस की ओर से भी कार्रवाई की जा रही है।

- Advertisement -

Discount Code : ks10

NEWS, JOBS, OFFERS यहां सर्च करें

Shubham Sharmahttps://khabarsatta.com
Editor In Chief : Shubham Sharma

सोशल प्लेटफॉर्म्स में हमसे जुड़े

11,274FansLike
7,044FollowersFollow
780FollowersFollow
4,050SubscribersSubscribe

More Articles Like This

- Advertisement -

Latest News

पंजाब के किसानों ने मोदी सरकार को घुटनों पर ला दिया: शिवसेना

शिवसेना ने शुक्रवार को कहा कि पंजाब के किसानों ने नए कृषि कानूनों के खिलाफ प्रदर्शनों के जरिये मोदी...
यह भी पढ़े :  उत्तर प्रदेश में धर्मांतरण संबंधी कानून आज से लागू, राज्यपाल आनंदीबेन पटेल ने दी मंजूरी

किसान आंदोलन का मामला अब SC में, दिल्ली की सीमाओं पर जमे किसानों को हटाने की मांग

किसान आंदोलन का मामला सुप्रीम कोर्ट पहुंच गया है। शीर्ष अदालत में एक याचिका दाखिल की गई है, जिसमें दिल्ली की सीमाओं पर जमे...

Corona वॉरियर्स पर हुए लाठीचार्ज को देख भावुक हुए राहुल गांधी, बोले- इस तरह की बेरहमी शर्मनाक

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने अपनी मांगों को लेकर प्रदर्शन कर रहे कोरोना वारियर्स के साथ पुलिस दमन की कड़ी निंदा की।...

ममता बनर्जी ने प्रदर्शनकारी किसानों से फोन पर की बात, अपनी 2006 की भूख हड़ताल की दिलाई याद

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने केन्द्र के कृषि सुधार कानूनों के खिलाफ दिल्ली के सिंघू बॉर्डर पर प्रदर्शन कर रहे विभिन्न किसान...

IAF ने दुश्मन के लड़ाकू विमानों को मार गिराने के लिए 10 आकाश मिसाइलों का किया सफल परीक्षण

नई दिल्ली। एलएसी में तनाव के बीच भारतीय वायु सेना लगातार दुश्मनों पर अपनी पकड़ और मजबूत किए हुए है। भारतीय वायुसेना ने 10 आकाश...
x