आतंकियों के संपर्क सूत्र को सेना बना रही है हथियार, कांटेक्ट ट्रेसिंग के जरिए हो रही आतंक पर चोट

जम्मू। भारतीय सेना कश्मीर में परिजनों को विश्वास में लेकर सुनिश्चित कर रही है कि युवाओं को राह भटकने से रोका जाए। कश्मीर की सुरक्षा का जिम्मा संभालने वाली सेना की 15 कोर के कोर कमांडर लेफ्टिनेंट जनरल बीएस राजू ने माना है कि यह रणनीति काफी सफल रही है। सेना कांटेक्ट ट्रेसिंग (संपर्क सूत्र) मुहिम के तहत कश्मीर में सक्रिय और मारे गए आतंकवादियों के परिजनों के बारे में सारी जानकारी जुटाकर उन तक पहुंच रही है। इस दौरान परिजनों को समझाया जा रहा है कि वे युवाओं को समझाएं कि जोश में आकर वे बंदूक उठाने की गलती न करें। श्रीनगर में रविवार को कोर कमांडर ने कहा कि परिवारों की काउंसलिंग युवाओं को राह भटकने से रोकने में बहुत अहमियत रखती है। उन परिवारों तक पहुंचने की पूरी कोशिश हो रही है जिनके बच्चे गुमराह हो सकते हैं।

कोरोना को रोकने के लिए भी इस्तेमाल

- Advertisement -

बता दें कि कोर कमांडर ने कश्मीर में राष्ट्रीय राइफल्स की विक्टर फोर्स के जीओसी के रूप में कांटेक्ट ट्रेसिंग के जरिये कई युवाओं को हथियार उठाने से रोका था। सेना की विक्टर फोर्स कश्मीर के पुलवामा, अनंतनाग, शोपियां और कुलगाम में आतंकवाद के खात्मे के लिए कार्य कर रही है। कांटेक्ट ट्रेसिंग का इस्तेमाल कोरोना संक्रमितों की पहचान करने के लिए भी किया जा रहा है।

युवाओं के दिमाग से निकाल देंगे आतंकी बनने का विचार

- Advertisement -

कोर कमांडर का कहना है कि इस मुहिम के तहत सेना कई युवाओं को आतंकी बनने से रोकने में सफल रही है। ऐसे युवाओं की संख्या न बताते हुए कोर कमांडर ने स्पष्ट किया कि बंदूक उठाने वाले युवाओं की संख्या काफी कम है। हमारी कोशिश है कि युवाओं के दिमाग से आतंकवादी बनने का विचार निकाल दिया जाए।

परिजनों के संदेश पर आतंक की राह से लौट आया था माजिद

- Advertisement -

जनरल राजू ने कहा कि गुमराह युवाओं को राह पर लाने में परिजनों, दोस्तों की अहम भूमिका है। समाज का सहयोग युवाओं को हिंसा की राह छोड़ने के लिए प्रेरित कर सकता है। कई परिजन संदेश जारी कर गुमराह युवाओं को वापस ले आते हैं। ऐसी ही एक कोशिश के बाद युवा माजिद ने हथियार छोड़ दिए थे। उसे विश्वास दिलाया था कि सामान्य जीवन जीने में उसे पूरा सहयोग दिया जाएगा। आज वह जम्मू-कश्मीर के बाहर अंतिम वर्ष की पढ़ाई कर रहा है। पुलिस के अनुसार इस वर्ष कश्मीरी के विभिन्न जिलों से 80 के करीब युवा आतंकवादी बने हैं। उन्हें वापस लाने के लिए सेना के साथ पुलिस की ओर से भी कार्रवाई की जा रही है।

- Advertisement -

Discount Code : ks10

NEWS, JOBS, OFFERS यहां सर्च करें

सोशल प्लेटफॉर्म्स में हमसे जुड़े

10,739FansLike
7,044FollowersFollow
517FollowersFollow
4,050SubscribersSubscribe

More Articles Like This

- Advertisement -

Latest News

मधुमक्खियों के हमले से व्यक्ति की मौत, डॉक्टर नहीं मिलने से ग्रामीणों में नाराजगी

लातेहारः झारखंड के मनिका प्रखंड के पल्हेया गांव निवासी पिंटू प्रसाद (45) की रविवार को मधुमक्खी के डंक मारने के...

नोएडा: सेक्टर-21 में फिल्म सिटी बसाने का प्रस्ताव, UP सरकार को भेजी योजना

नई दिल्ली/नोएडाः गौतम बुद्ध नगर प्रशासन ने नोएडा या जेवर अंतरराष्ट्रीय हवाईअड्डे के पास यमुना एक्सप्रेसवे पर फिल्म सिटी बनाने के लिये दो प्रस्ताव उत्तर...

अब घर बैठे प्राप्त करें माता वैष्णो देवी का प्रसाद, करानी होगी ऑनलाइन बुकिंग

जम्मूः श्री माता वैष्णो देवी श्राइन बोर्ड ने देश भर में श्रद्धालुओं को उनके घर पर पूजा का प्रसाद पहुंचाने की सेवा सोमवार को औपचारिक...

BJP ने राज्यसभा सासंदों के लिए जारी किया थ्री-लाइन व्हिप, सरकार का समर्थन करने के दिए निर्देश

नई दिल्लीः भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने मंगलवार को अपने सांसदों को राज्यसभा में मौजूद रहने के लिए तीन लाइन का व्हिप जारी किया है।...

लोकसभा ने महामारी संशोधन विधेयक को मंजूरी दी, स्वास्थ्य कर्मियों को मिलेगा संरक्षण

नई दिल्लीः संसद ने सोमवार को महामारी (संशोधन) विधेयक को मंजूरी दे दी, जिसमें महामारियों से जूझने वाले स्वास्थ्य कर्मियों को संरक्षण प्रदान करने का...
x