Thursday, December 8, 2022
Homeलेखफटे हुए नोटों का क्या करें? इन्हें उपयोग में लाने के कुछ...

फटे हुए नोटों का क्या करें? इन्हें उपयोग में लाने के कुछ क़ानूनी तरीके जानिए

- Advertisement -

हम सभी के जीवन में पैसों की क़ीमत सबसे ज़्यादा होती हैं. तभी तो हम इन्हे संभल कर और सोच समझकर ख़र्च करने में विश्वास रखते हैं.बाजार में सब्ज़ी लेते समय या कभी-कभी जल्दबाज़ी में दूकानदार को या टैक्सी चालक से छुट्टे पैसे लेते समय कई बार हम पैसों की जाँच (की वह नोट फटी हुई है. या नहीं) किए बिना ही उसे ले लेते हैं.


फिर उन्ही पैसों को जब हम कही और ख़र्च करते समय देखते हैं तब हमें पता चलता ही की उन पैसों में से एक नोट फटी हुई है और हमने उसे बिना देखे ही रख लिया था.और वही से हमारे दिमाग़ की कसरत शुरू हो जाती है कि अब इन फ़टे हुए पैसों का आख़िर इस्तेमाल कैसे करें? क्योंकि इस तरह की चलन का इस्तेमाल आप कही और नहीं कर पाते और ना ही किसी को दे पते हैं.

- Advertisement -


मगर इन फ़टे हुए चलन को बैंक में जमा कर इसके बदले में नए नोटों को प्राप्त कर सकते हैं. मगर ऐसा करते समय उस नोट को जारी करने वाली संस्था. गारंटी. प्रॉमिस क्लॉज़. गवर्नर के हस्ताक्षर. अशोकस्तम्भ या महात्मा गाँधी का फोटो और वॉटर मार्क का होना अनिवार्य है.

आरबीआई के नियमों के अनुसार इन सभी पहलुओं के होने पर ही ऐसे चलनों को बदला जा सकता है.
कई दुकानों में ऐसे फ़टे पुराने नोटों को बदला जा सकता है. मगर इसके बदले अगर आप 500 और 1000 रुपयों के बंडल को बदलने के लिए आपको 100 से 200 रुपए देने पड़ते हैं.

- Advertisement -

हालाँकि नोट बदलने का यह तरीक़ा बिलकुल ग़लत है.
इसी के चलते सरकार द्वारा सार्वजनिक बैंक में इन नोटों को बदलने की सुविधा को उपलब्ध कराई गई है.कोई भी नोट या चलन जो ख़राब है. लेकिन उस नोट के आगे और पिछले हिस्से के सारे आंकड़े मौजूद हो. तो ऐसे नोटों को किसी भी सार्वजनिक बैंक के काउंटर पर. निजी करेंसी चेस्ट काउंटर तथा आरबीआई के रीजनल ऑफिस में बिना किसी करवाई के या फॉर्म को भरे बिना बदला जा सकता है.


भारतीय रिज़र्व बैंक नियमावली. 2009” को जारी कर आरबीआई ने भारतीय नागरिकों को ख़राब और पुराने नोटों को बदलने की सुविधा प्रदान की. इस नियमावली में लिखा गया है कि “ख़राब या फ़टी हुई वह नोट यानी जो दो से अधिक टुकड़ों को जोड़कर बनाई गई हो. या जिसका एक हिस्सा पूरी तरह फटा हो.”तथा इस नियमावली में एक और मुद्दा शामिल किया गया है. जो बताता है कि अगर 1. 2. 5. 10 और 20 रुपयों में से कोई भी नोट पचास प्रतिशत से कम फ़टी हो तो उन नोटों के बदले में पूरे पैसे दिए जायेंगे.

- Advertisement -
RELATED ARTICLES
- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments