Wednesday, May 12, 2021
Homeअजब गजबकर्नाटक में नया प्रयोग, मास्क बन जायेगा पेड़ , जानिए कैसे?

कर्नाटक में नया प्रयोग, मास्क बन जायेगा पेड़ , जानिए कैसे?

पूरे देश में एक अनोखे मास्क की चर्चा हो रही है। जैसे ही आप इस मास्क को फेंकते हैं, उससे एक सुंदर पेड़ उससे निकल जाएगा।

- Advertisement -

बेंगलुरू: देश में कोरोना पीड़ितों की संख्या दिन पर दिन बढ़ती जा रही है। चिंता के रूप में वृद्धि हुई है क्योंकि हर दिन नए कोरोना मरीज पाए जाते हैं। स्वास्थ्य विशेषज्ञों के अनुसार कहा जाता है कि कोरोना से बचने के लिए मास्क का उपयोग करने की आवश्यकता होती है। देश भर में लाखों मास्क (Mask) बनाए जा रहे हैं। इतनी ही मात्रा में मास्क भी फेंके जाते हैं। प्रदूषित मास्क से भी प्रदूषण बढ़ने की संभावना है। इस पृष्ठभूमि के खिलाफ, वर्तमान में पूरे देश में एक अद्वितीय मुखौटा की चर्चा की जा रही है। जैसे ही आप इस मुखौटे को फेंकते हैं, एक सुंदर पेड़ उससे निकल जाएगा। 

कर्नाटक के नितिन वास का मास्क (Mask)

देश भर में बड़ी संख्या में मास्क का उत्पादन किया जा रहा है। दूसरी ओर, उतने ही मास्क (Mask) उतारे जा रहे हैं। इसलिए मास्क को कहीं भी फेंकने से प्रदूषण बढ़ने की संभावना है। इसी वजह से कर्नाटक की एक पेपर सीड कंपनी के मालिक नितिन वास ने एक अनोखा मास्क बनाया है। इस मास्क को फेंकने के बाद, इससे एक सुंदर पेड़ उग आएगा। वह जानकारी नितिन ने दी है। वे कहते हैं कि वे जो मास्क (Mask) बनाते हैं, वे पूरी तरह से पर्यावरण के अनुकूल हैं।

यह मास्क (Mask) कैसे बनाए जाते हैं?

- Advertisement -

नितिन वास के अनुसार, यह एक कपास का मास्क (Mask) है। इस मास्क का बाहरी हिस्सा कपास के गूदे से बनाया गया है। इस मास्क को बनाने के लिए विभिन्न प्रकार की स्क्रैप सामग्री का भी उपयोग किया गया है। मास्क के अंदर एक मुलायम सूती कपड़े का उपयोग किया जाता है। इस बारे में बात करते हुए, नितिन ने कहा है कि मास्क के अंदर कपास बहुत मोटी है। इसके अलावा, यह मुखौटा आपको कोरोना से पूरी सुरक्षा देता है, उन्होंने कहा।

मास्क से पेड़ कैसे उगाएं?

एक मुखौटा फेंकने के बाद एक पेड़ कैसे बनाया जा सकता है, इस सवाल का जवाब कई लोगों के सामने आया है। हालांकि, नितिन वास का दावा है कि यह संभव है। उन्होंने जैसे मास्क (Mask) बनाया है। यह मास्क केवल एक बार इस्तेमाल किया जा सकता है। मास्क की कीमत 25 रुपये है और यह बहुत सस्ती है। एक बार जो मास्क उन्होंने बनाया है वह चेहरे से हटा दिया जाता है, इसे केवल मिट्टी में दफन करना होगा, बिना कहीं फेंके हुए। उसके बाद, उस जगह पर पानी डालने के बाद, जहां मास्क (Mask) कुछ दिनों के लिए दफन है, वहां से पेड़ बढ़ेगा। नितिन कहते हैं कि उन्होंने इस तरह का मास्क (Mask) बनाने के लिए कड़ी मेहनत की।

मास्क में पेड़ों के बीज

- Advertisement -

इस बीच, इस मास्क को बनाने में आठ घंटे लगते हैं। इस मास्क को बनाने के बाद इसे सूखने में 12 घंटे लगते हैं। इन मुखौटों में पेड़ के बीज होते हैं, इसलिए उन्हें संग्रहीत नहीं किया जा सकता है। इसलिए वर्तमान में नितिन वास केवल 3,000 मास्क का उत्पादन कर रहे हैं। इस मास्क की चर्चा पूरे देश में हो रही है।

- Advertisement -
RELATED ARTICLES

Populer Post

- Advertisment -
_ _