Monday, February 6, 2023
Homeउत्तर प्रदेशउत्तर प्रदेश: जनसंख्या नियंत्रण पर यूपी का विधेयक; 2 से ज्यादा बच्चे...

उत्तर प्रदेश: जनसंख्या नियंत्रण पर यूपी का विधेयक; 2 से ज्यादा बच्चे हुए तो नहीं मिलेगी सरकारी नौकरी

- Advertisement -

लखनऊ: उत्तर प्रदेश में दो या उससे कम बच्चों वाले परिवारों को प्रोत्साहन दिया जाएगा, जबकि दो बच्चों के मानदंड का पालन न करने पर प्रोत्साहन मिलेगा। जनसंख्या को नियंत्रित करने के उद्देश्य से, उत्तर प्रदेश राज्य विधि आयोग ने शुक्रवार को इस उद्देश्य पर केंद्रित विधेयक का पहला मसौदा जारी किया। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, सरकार ने जनता से दस दिनों के भीतर यानी 19 जुलाई तक टिप्पणी मांगी है। 

इससे पहले, सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा है कि सरकार 2021-2030 के लिए एक नई जनसंख्या नीति लाएगी, जिसकी घोषणा 11 जुलाई को विश्व जनसंख्या दिवस पर होने की उम्मीद है।

- Advertisement -

सूत्रों का कहना है कि दो से अधिक बच्चों वाले परिवारों को राज्य प्रायोजित कल्याणकारी योजनाओं का लाभ उठाने और सब्सिडी प्राप्त करने से रोक दिया जाएगा। अन्य विघटन में स्थानीय निकाय चुनाव लड़ने पर रोक, सरकारी नौकरियों के लिए आवेदन करने पर रोक और सरकारी सेवाओं में पदोन्नति पर रोक शामिल है। नियम उन लोगों पर लागू नहीं होंगे जो पहले से ही सरकारी नौकरियों या स्थानीय परिषदों का हिस्सा हैं। राशन कार्ड इकाइयां भी चार तक सीमित रहेंगी।

ऐसे किसी भी व्यक्ति के लिए प्रोत्साहन दिया जाएगा जो स्वयं या जीवनसाथी पर स्वैच्छिक नसबंदी ऑपरेशन करवाकर दो-बच्चे के मानदंड को अपनाता है। इसमें मामूली ब्याज दरों पर घर बनाने या खरीदने के लिए सॉफ्ट लोन और पानी, बिजली और हाउस टैक्स जैसी उपयोगिताओं के लिए शुल्क में छूट शामिल होगी। जो लोग एक बच्चा होने के बाद “स्वैच्छिक नसबंदी” से गुजरते हैं, उन्हें स्नातक तक मुफ्त शिक्षा जैसे और लाभ दिए जाएंगे।

- Advertisement -

लोक सेवक अपनी सेवा के दौरान अतिरिक्त वेतन वृद्धि और राष्ट्रीय पेंशन योजना के तहत नियोक्ता के योगदान कोष में 3% की वृद्धि के हकदार होंगे। इसी तरह, बीपीएल जोड़े सरकार से 80,000 रुपये (एकल लड़के के लिए) और 1 लाख रुपये (एकल लड़की के लिए) की एकमुश्त राशि के हकदार होंगे यदि वे परिवार को एक बच्चे तक सीमित करते हैं।

उत्तर प्रदेश में आगामी विधानसभा चुनाव से पहले आए कानून के मसौदे में कहा गया है कि राज्य में सीमित संसाधनों के कारण जनसंख्या को नियंत्रित और स्थिर करना जरूरी है. India.com के अनुसार, सीएम योगी आदित्यनाथ ने एक बयान में कहा, “गरीबी और निरक्षरता जनसंख्या विस्तार के प्रमुख कारक हैं। कुछ समुदायों में जनसंख्या के बारे में जागरूकता की कमी भी है और इसलिए हमें समुदाय केंद्रित जागरूकता प्रयासों की आवश्यकता है।” 

- Advertisement -

दरअसल, उत्तर प्रदेश राज्य विधि आयोग ने जनसंख्या नियंत्रण कानून के तैयार मसौदे में इस तरह के कई प्रस्ताव रखे हैं। आयोग ने इस मसौदे पर लोगों ने आपत्तियां व सुझाव भी मांगे हैं, जो 19 जुलाई तक आयोग को ई-मेल (statelawcommission2018@gmail.com) या फिर डाक के जरिए भेजे जा सकते हैं।

आपत्तियों एवं सुझावों का अध्ययन करने के बाद संशोधित मसौदा तैयार करके राज्य सरकार को सौंपा जाएगा। देश के अन्य राज्यों में लागू कानूनों का अध्ययन करने के बाद यह मसौदा तैयार किया गया है। इसे उत्तर प्रदेश जनसंख्या (नियंत्रण, स्थिरीकरण एवं कल्याण) एक्ट 2021 के नाम से जाना जाएगा और यह 21 वर्ष से अधिक उम्र के युवकों और 18 वर्ष से अधिक उम्र की युवतियों पर लागू होगा। यह मसौदा आयोग की वेबसाइट (upslc.upsdc.gov.in) पर अपलोड किया गया है।

एक बच्चा होने पर राहत ही राहत
वन चाइल्ड पॉलिसी स्वीकार करने वाले बीपीएल श्रेणी के माता-पिता को विशेष तौर पर प्रोत्साहित करने का प्रस्ताव रखा है। इसके तहत जो माता-पिता पहला बच्चा पैदा होने के बाद आपरेशन करा लेंगे, उन्हें कई तरह की सुविधाएं दी जाएंगी। पहला बच्चा बालक होने पर 80 हजार रुपये और बालिका होने पर एक लाख रुपये की विशेष प्रोत्साहन राशि दी जाएगी।

ऐसे माता-पिता की पुत्री उच्च शिक्षा तक नि:शुल्क पढ़ाई कर सकेगी, जबकि पुत्र को 20 वर्ष तक नि:शुल्क शिक्षा मिलेगी। इसके अलावा उन्हें नि:शुल्क चिकित्सा सुविधा और सरकारी नौकरी होने की स्थिति में सेवाकाल में दो इंक्रीमेंट भी दिए जाएंगे।

दो से ज्यादा बच्चे होने पर आफत ही आफत
आयोग ने दो से ज्यादा बच्चों के माता-पिता को कई तरह की सुविधाओं से वंचित करने का प्रस्ताव रखा है। इसमें उन्हें स्थानीय निकायों का चुनाव लड़ने से रोकने, सरकार से मिलने वाली सब्सिडी बंद किए जाने, सरकारी नौकरियों के लिए आवेदन करने पर रोक लगाने तथा सरकारी नौकरी कर रहे लोगों को प्रोन्नति से वंचित करने का प्रस्ताव रखा गया है। ये सभी प्रस्ताव जनसंख्या वृद्धि पर नियंत्रण करके नागरिकों को बेहतर सुविधाएं मुहैया कराने के उद्देश्य से तैयार किया गया है। आयोग ने जनसंख्या नियंत्रण से संबंधित पाठ्यक्रम स्कूलों में पढ़ाए जाने का सुझाव भी दिया है।

- Advertisement -
Shubham Sharma
Shubham Sharmahttps://shubham.khabarsatta.com
Shubham Sharma is an Indian Journalist and Media personality. He is the Director of the Khabar Arena Media & Network Private Limited , an Indian media conglomerate, and founded Khabar Satta News Website in 2017.
RELATED ARTICLES
- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments