BSNL-Airtel और वोडाफोन आईडीया की बल्ले-बल्ले, 1 करोड़ से अधिक ग्राहकों ने छोड़ा Reliance Jio का साथ, ये है वजह

BSNL-Airtel and Vodafone Idea bat-bat, more than 1 crore customers left Reliance Jio, this is the reason

Must read

Shubham Sharma
Shubham Sharma
Shubham Sharma is an Indian Journalist and Media personality. He is the Director of the Khabar Arena Media & Network Private Limited , an Indian media conglomerate, and founded Khabar Satta News Website in 2017.
- Advertisement -

देश की सबसे बड़ी और लोगों की पहली पसंद रिलायंस जिओ कंपनी का कुछ दिनों से बुरा समय चल रहा है। जिओ कंपनी के ग्राहकों में लगातार गिरावट नजर आ रही है।

कुछ महीनों की बात करें तो ग्राहकों के जिओ छोड़ने का सिलसिला लगातार जारी है। ऐसे में जिओ कंपनी के लिए इससे बड़ा बुरा समय कोई हो ही नहीं सकता है।

- Advertisement -

शुक्रवार को टीआरएआई ने अपनी एक नई रिपोर्ट जारी की है जिसमें खुलासा करते हुए बताया कि जिओ के यूजर्स कि लगातार गिरावट जारी है जिससे मुकेश अंबानी की कंपनी को नुकसान झेलना पड़ सकता है।

लगातार गिर रही जिओ यूजर्स की संख्या

एक समय था लोग एयरटेल idea-vodafone एयरटेल कंपनी को छोड़कर जिओ की तरफ दौड़ रहे थे, लेकिन अब लोगों के द्वारा जिओ कंपनी को छोड़ने का सिलसिला लगातार जारी है ।

- Advertisement -

टीआरएआई ने अपनी एक नई रिपोर्ट जारी की है जिसके अनुसार फरवरी में सभी कंपनियों के सब्सक्राइबर की संख्या के बारे में जानकारी दी है। ताजे आंकड़े के अनुसार फरवरी में टेलीकॉम यूजर्स की संख्या पहले से कम होकर 116.60 करोड़ हो गई है।

टीआरएआई ने अपनी रिपोर्ट में जानकारी देते हुए बताया कि लगातार फरवरी तीसरा महीना था जब रिलायंस के ग्राहकों की संख्या में कमी आई है। 36 लाख, 60,000 133 ग्राहकों ने अभी तक जियो का साथ छोड़ चुके हैं। पहले यूजर्स की संख्या 40.27 करोड़ रही है, लेकिन अब लगातार गिरावट देखी जा रही है।

- Advertisement -

ऐसा नहीं है कि जिओ की कंपनी में ही यूजर्स की संख्या में पीछे हैं, बल्कि वोडाफोन, आइडिया के ग्राहकों की संख्या भी कम होती जा रही है। वोडाफोन, आइडिया को 15.32 लाख मोबाइल ग्राहकों का नुकसान झेलना पड़ा है।

जिओ कंपनी के साथ छोड़ने के बाद ग्राहक एयरटेल और वोडाफोन आईडिया के साथ जुड़ रहे है जिसकी वजह से इनकी कंपनी की तो बल्ले—बल्ले हो रही है, लेकिन बाकी जिओ की मुश्किलें लगातार बढ़ रही है।

- Advertisement -

Latest article