शराब माफिया को सपोर्ट: कांग्रेस जिलाध्यक्ष और आबकारी अधिकारी का AUDIO VIRAL | MANDLA NEWS

0
318

सिवनी। एक आडियो क्लिप वायरल हुई है जिसमे 2 व्यक्ति आपस में बात कर रहे हैं। उस वायरल ऑडियो में मामला अवैध शराब का समझ आ रहा है। मंडला जिले के कांग्रेस जिलाध्यक्ष अवैध शराब के कारोबारी को संरक्षण देने सुनाई दे रहे हैं। लोगो द्वारा कहा जा रहा है कि ये दोनों आवाजें मंडला जिले के आबकारी अधिकारी एवं कांग्रेस जिलाध्यक्ष की हैं। 

शहर ने हो रही चर्चाओं के अनुसार

लोकल मीडिया एवं शहर से आ रहीं खबरों के अनुसार वायरल हुआ ऑडियो जिसमे मंडला जिले के कांग्रेस अध्यक्ष संजय सिंह और आबकारी अधिकारी इंद्रेश तिवारी की आवाज है। जिसमें दोनों ही एक कांग्रेस पार्षद के द्वारा अवैध शराब बेचे जाने पर उसे परेशान ना करने की बात कर रहे हैं। पूरे क्षेत्र में यह मामला सूखी घास में आग लगने जैसे फ़ैल रहा है एवं कड़े सवाल उठ रहे हैं।

कमिश्नर तक पहुंचा मामला

मंडला के आबकारी अधिकारी एवं कांग्रेस जिलाध्यक्ष के वायरल ऑडियो का मामला कमिश्नर राजेश बहुगुणा तक भी पहुंच गया है। जबलपुर में कमिश्नर से इस बारे में अनेको सवाल किए गए। हालांकि उन्होंने यह कहते हुए मामले को टालने की कोशिश की कि ‘मुझे इसकी कोई जानकारी नहीं है।’ साथ ही उन्होंने ये भी कहा की इसकी जांच करवाए जाने की जरूरत है। 

यह भी पढ़े :  सिवनी अतिक्रमण रोधी अभियान दल में शामिल कर्मचारियों का हुआ सम्मान

ये बातचीत हुई वायरल ऑडियो में

वायरल ऑडियो में पैसों के लेनदेन और शराब के अवैध कारोबारी पार्षद को सहयोग करने की बातचीत सुनाई दे रही है।वायरल ऑडियो में कांग्रेस नेता को 15 हजार और विधायक को 50 हजार रुपए देने की बात कर रहे है।

ऑडियो में अवैध शराब कारोबार में लिप्त पार्षद की पैरवी कांग्रेस जिला अध्यक्ष परिहार कर रहा है । आडियो में जिला अध्यक्ष परिहार कह रहा है कि पार्षद को परेशान मत करो । कमलनाथ जी की सरकार है पार्षद ने विपक्ष में रहते हुए 15 साल मेहनत की है उसे मैं आपके पास भेजता हूँ।

आबकारी अधिकारी इंद्रेश तिवारी ने भी ऑडियो में स्थानीय सिंडिकेट कर्ता-धर्ता राजेश पटेल का नाम लिया और बैक डेट के लेटर के आधार पर कारवाई करने की बात कही। बातचीत में गजेंद्र सिंह बर्वे उर्फ गज्जू हेड क्लर्क मंडल आबकारी कार्यालय का भी जिक्र है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.