khabar-satta-app
Home सिवनी ई-पंचायत योजना को जमकर लग रहे घुन!

ई-पंचायत योजना को जमकर लग रहे घुन!

ग्राम पंचायतों के कंप्यूटर बढ़ा रहे सरपंच-सचिवों के घर की शोभा

घंसौर । आदिवासी बाहुल्य घंसौर क्षेत्र की 77 पंचायतों को ई पंचायत बनाने की गरज से वर्ष 2013 में लगभग 21 लाख रूपये की लागत से खरीदे गये कंप्यूटर्स ग्राम पंचायतों की बजाय सरपंच या सचिवों के घरों की शोभा बढ़ा रहे हैं।

प्राप्त जानकारी के अनुसार घंसौर और केदारपुर क्षेत्र की सभी 77 ग्राम पंचायत को ई-पंचायत बनाने के लिये शासन द्वारा वर्ष 2013 में 20 लाख 80 हजार रूपये व्यय किये गये थे। ई-पंचायत योजना के तहत सभी ग्राम पंचायत को जिला पंचायत विभाग की ओर से कंप्यूटर सिस्टम दिये गये थे, लेकिन वर्तमान में यह सिस्टम पंचायत भवानों में नहीं लगाये गये हैं, बल्कि ये कंप्यूटर सिस्टम सचिव और सरपंच अपने घर में इनका उपयोग कर रहे हैं।

- Advertisement -

गौरतलब है कि ग्राम पंचायत को ई-पंचायत बनाने और यहाँ होने वाले काम को ऑनलाईन और पारदर्शी बनने की सोच से जिला पंचायत द्वारा 01 लाख 20 हजार की लागत से पंचायत को दो साल पहले मॉनीटर, सीपीयू, इन्वर्टर, की-बोर्ड, माऊस, यूएसबी डिवाईस, बड़ी एलसीडी, इंटरनेट सेटअप सहित अन्य सामान दिया गया था, लेकिन उसके बाद भी पंचायत कार्य कंप्यूटर से नहीं हो रहा है। इससे ग्रामीणों को अपने काम के लिये परेशान होना पड़ रहा है।

सरपंच-सचिवों के घर रखे कंप्यूटर : पंचायत में कंप्यूटर पर काम के लिये जरूरी इंटरनेट सेवा न होने के कारण कई पंचायत के कम्प्यूटर को सरपंच, सचिवों ने अपने घर में रख लिया है जिन पर उनके परिजन अपना निजि काम कर रहे हैं। कुछ पंचायतों में कंप्यूटर सिस्टम सचिव और सरपंच ने बेच भी दिये बताये जाते हैं। इन परिस्थितियों में ग्रामीणों को जरा जरा से काम के लिये जनपद पंचायत कार्यालय की दौड़ लगाने पर मजबूर होना पड़ रहा है। कहा जा रहा है कि ग्रामीण अंचल के दौरे पर जाने वाले जिले के अधिकारियों को इस बारे में सब कुछ पता होने के बाद भी किसी के द्वारा भी इस मामले में किसी तरह की कार्यवाही नहीं की जाती है।

- Advertisement -

सचिवों को है चोरी होने का डर : घंसौर और शिकारा क्षेत्र में अधिकांश ग्राम पंचायत के पास कार्यालय के लिये भवन ही नहीं है। वहीं जिन पंचायत के कार्यालय अपने स्वयं के भवन में हैं, वे भवन काफी जर्जर हो चुके हैं। ऐसी परिस्थिति में सचिवोें को कार्यालय की बजाय घर पर कंप्यूटर रखने का बहाना मिल जाता है।

कुछ सचिवों का कहना है कि पंचायत के कार्यालयों में सुरक्षा के मुकम्मल इंतजामात नहीं होने के कारण लाखों की सामग्री चोरी होने का भय उन्हें सताता रहा है। जबकि ये सिस्टम ग्राम पंचायतों को इसलिये प्रदाय किये गये थे ताकि ग्राम पंचायतों का कार्य आसानी से हो सके और रिकॉर्ड का संधारण भी करीने से किया जा सके।

- Advertisement -

Discount Code : ks10

NEWS, JOBS, OFFERS यहां सर्च करें

Shubham Sharmahttps://khabarsatta.com
Editor In Chief : Shubham Sharma

Leave a Reply

सोशल प्लेटफॉर्म्स में हमसे जुड़े

11,007FansLike
7,044FollowersFollow
788FollowersFollow
4,050SubscribersSubscribe

More Articles Like This

- Advertisement -

Latest News

सिवनी जिले में 3 व्यक्तियों में कोरोना वायरस की पुष्टि, अब 66 एक्टिव केस

सिवनी : मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ के.सी. मेशराम द्वारा जानकारी देते हुए बताया गया की...

चिराग पासवान ने जारी किया LJP का दृष्टि पत्र ‘बिहार फर्स्‍ट, बिहारी फर्स्‍ट’

पटनाः लोजपा के अध्यक्ष चिराग पासवान ने बुधवार को बिहार चुनाव के लिए अपनी पार्टी का दृष्टि पत्र ‘बिहार फर्स्‍ट, बिहारी फर्स्‍ट' जारी किया, जिसमें...

भारत माता की पवित्र जमीन पर चीन का कब्जा, फिर भी एक शब्द नहीं बोले पीएम मोदी: राहुल गांधी

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने एक बार फिर पूर्वी लद्दाख में चीन के साथ सैन्य गतिरोध को लेकर मोदी सरकार को सवालों...

महाराष्ट्र के बड़े नेता एकनाथ खडसे ने छोड़ी भाजपा, थाम सकते हैं NCP का दामन

महाराष्ट्र में भाजपा के वरिष्ठ नेता एकनाथ खडसे ने बुधवार को भाजपा का साथ छोड़ दिया है। टीवी रिपोर्ट्स के मुताबिक एकनाथ खडसे आज...

दुकान की नींव में निकला 3 फीट लंबा पत्थर, सैंकड़ों लोग शिवलिंग समझ दर्शन करने पहुंचे

सिंगरौली: मोरवा बाजार में सोमवार देर शाम एक निर्माणाधीन दुकान के नींव की खुदाई करते समय एक शिवलिंग समान पत्थर मिला। करीब 3 फीट बड़े...