khabar-satta-app
Home सिवनी करोड़ों की लागत से हो रहे सरोरा बांध निर्माण में गड़बड़ी के आरोप

करोड़ों की लागत से हो रहे सरोरा बांध निर्माण में गड़बड़ी के आरोप

आदिवासी बाहुल्य घंसौर विकासखंड के सरोरा गांव में करीब 10 करोड़ रुपए की लागत से तैयार किए जा रहे बांध में गड़बड़ी के आरोप क्षेत्रवासियों ने लगाए हैं। ग्रामीणों व किसानों का कहना है कि सूखे खेतों तक पानी पहुंचाने के लिए बनाई जा रही नहरों व बांध निर्माण कार्य में नाले की काली रेत व डस्ट का इस्तेमाल ठेकेदार किया जा रहा है।

khabarsatta seoni news

आदिवासी बाहुल्य घंसौर विकासखंड के सरोरा गांव में करीब 10 करोड़ रुपए की लागत से तैयार किए जा रहे बांध में गड़बड़ी के आरोप क्षेत्रवासियों ने लगाए हैं। ग्रामीणों व किसानों का कहना है कि सूखे खेतों तक पानी पहुंचाने के लिए बनाई जा रही नहरों व बांध निर्माण कार्य में नाले की काली रेत व डस्ट का इस्तेमाल ठेकेदार द्वारा किया जा रहा है। बगैर तराई कांक्रीटीकरण का कार्य कराया जा रहा है। निर्माण कार्य में मौके पर बाइब्रेटर का भी इस्तेमाल नहीं किया जा रहा है।

- Advertisement -

330 मीटर लंबा बांध

नवंबर 2017 को सरोरा जलाशय निर्माण के लिए 10.36 करोड़ रुपए की प्रशासकीय स्वीकृति दी गई थी। बांध व नहर निर्माण का ठेका 6.17 करोड़ रुपए में मुरादाबाद की मेसर्स ग्रांड कंस्ट्रक्शन को दिया गया है। जबकि शेष राशि भूमि अधिग्रहण व अन्य कार्यों पर खर्च की जानी है। 18 माह की समय अवधि में एजेंसी को बांध का निर्माण कार्य पूरा करना था। करीब 330 मीटर लंबे और 11.5 मीटर ऊंचाई तक बांध का निर्माण कार्य कराया जाना है। बांध से 3 किमी आरबीसी और 2.37 किमी एलबीसी नहर निर्माण का कार्य होना है।

- Advertisement -

पेटी ठेकेदार करवा रहा निर्माण

बांध में सीओटी व पडल भराई का काम पूरा हो चुका है। बांध के अर्थवर्क व फिल्टर इत्यादि का कार्य ठेकेदार द्वारा कराया जा रहा है। वहीं नहर निर्माण कार्य में भी गड़बड़ी की जा रही है। बांध व नहर निर्माण का ठेका जल संसाधन विभाग ने मुरादाबाद की मेसर्स ग्रांड कंस्ट्रक्शन कंपनी को दिया है लेकिन कंपनी द्वारा पेटी कांट्रेक्टर नीरज तिवारी से निर्माण कार्य करवाया जा रहा है। गुणवत्ता को दरकिनार कराए जा रहे निर्माण कार्य पर जल संसाधन विभाग का तकनीकि अमला ध्यान नहीं दे रहा है।

- Advertisement -

कमजोर बांध, ढहने का खतरा

ग्रामीणों का कहना है कि पिछले साल तेज बारिश के दौरान बांध का एक हिस्सा बह गया था। इससे आसपास के गांव के कई किसानों के खेतों में लगी फसलें तबाह और बर्बाद हो गई थी। बांध का निर्माण कार्य अंतिम दौर में है। ग्रामीणों के मुताबिक बांध का गुणवत्ता विहीन निर्माण कार्य कराया जा रहा है जो तेज बारिश में पानी का दबाव भी नहीं झेल सकेगा। मौके पर ठेकेदार द्वारा निर्माण कार्य का सूचना बोर्ड भी नहीं लगाया गया है ताकि क्षेत्र के ग्रामीणों को निर्माण कार्य संबंधी जानकारी न मिल सके।

- Advertisement -

Leave a Reply

Discount Code : ks10

NEWS, JOBS, OFFERS यहां सर्च करें

Shubham Sharmahttps://khabarsatta.com
Editor In Chief : Shubham Sharma

सोशल प्लेटफॉर्म्स में हमसे जुड़े

11,007FansLike
7,044FollowersFollow
789FollowersFollow
4,050SubscribersSubscribe

More Articles Like This

- Advertisement -

Latest News

मायावती ने कहा-सपा को हराने के लिए बीजेपी को देंगे वोट, प्रियंका बोलीं-इसके बाद भी कुछ बाकी है?

लखनऊ: राज्यसभा चुनाव से पहले बसपा के 7 विधायक बगावत करके सपा में चले गए। पार्टी में सेंधमारी से नाराज...

खुलासा: तौसीफ के मामा के इशारे पर हासिल किया था हथियार, हत्या में परिजन भी हो सकते शामिल

सोहना: निकिता तोमर हत्याकांड के बाद जहां आरोपी तौसीफ के परिवाार के राजनैतिक कनेक्शन सामने आ रहेे थे वहीं अब आरोपी तौसीफ के रिश्तेदारों के क्रिमिनल...

PoK में पाकिस्तानी सीक्रेट एजेंट ने की कश्मीरी युवाओं के अपहरण की कोशिश, जमकर हुई धुनाई

पेशावरः पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर (PoK) में पाकिस्तान के सीक्रेट एजेंट द्वारा कश्मीरी युवाओं के अपहरण का मामला सामने आने पर हंगामा मच गया ।...

केशुभाई पटेल के निधन पर PM मोदी ने जताया शोक, बोले- पूर्व सीएम ने हमेशा किया मार्गदर्शन

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुजरात के पूर्व मुख्यमंत्री केशुभाई पटेल के निधन पर गहरा शोक प्रकट करते हुए गुुरुवार को कहा कि उनका जीवन...

मोदी सरकार पर भड़के पवार, बोले- केंद्र की नीतियों ने प्याज का स्वाद कर दिया कड़वा

पूर्व केंद्रीय कृषि मंत्री एवं राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) अध्यक्ष शरद पवार ने प्याज के आयात-निर्यात की नीति को लेकर भारतीय जनता पार्टी (भाजपा)...