Thursday, December 8, 2022
Homeधर्मनवरात्री 2022 पहला दिन: देवी शैलपुत्री की होगी पूजा; जानिए कलश स्थापना...

नवरात्री 2022 पहला दिन: देवी शैलपुत्री की होगी पूजा; जानिए कलश स्थापना का समय, पूजा विधि और मंत्र

नवरात्रि 2022 दिन 1: इस दिन मां शैलपुत्री की पूजा करने से व्यक्ति को धन, ऐश्वर्य, सौभाग्य और स्वास्थ्य की प्राप्ति होती है। जानिए कलश स्थापना का समय और सही विधि, पूजा विधि, आरती और दिन का मंत्र।

- Advertisement -

नवरात्रि 2022 दिन 1:  शारदीय नवरात्रि 26 सितंबर से शुरू हो रहे हैं। इस दिन से नौ दिनों तक मां दुर्गा के नौ शक्ति रूपों की पूजा की जाएगी। किसी भी नवरात्रि के पहले दिन देवी के नाम से कलश की स्थापना की जाती है। लेकिन सोमवार के दिन कलश स्थापना का सही समय क्या होगा, इसकी सही विधि क्या होगी और नवरात्रि के पहले दिन मां दुर्गा के किस रूप की पूजा की जाएगी। जानिए आचार्य इंदु प्रकाश से ये और बहुत कुछ। इसके अलावा, यहां पूजा विधि, शैलपुत्री मंत्र और आरती देखें।

नवरात्रि 2022 दिन 1 शुभ मुहूर्त

- Advertisement -

कलश स्थापना का शुभ मुहूर्त सुबह 11:54 से दोपहर 12:42 बजे तक रहेगा.  

नवरात्रि 2022 दिन 1: मां शैलपुत्री पूजा विधि

इस दिन मां शैलपुत्री की पूजा करने से व्यक्ति को धन, ऐश्वर्य, सौभाग्य और स्वास्थ्य की प्राप्ति होती है। इन चीजों को प्राप्त करने के लिए भक्ति के साथ देवी की पूजा करनी चाहिए। यहां पूजा विधि है जिसका आप अनुसरण कर सकते हैं:

  1. इस दिन सबसे पहले घर के ईशान कोण यानि ईशान कोण की सफाई कर वहां पानी छिड़क कर साफ मिट्टी या बालू फैला देना चाहिए। फिर उस साफ मिट्टी या रेत पर जौ की एक परत बिछा देनी चाहिए। फिर से उसके ऊपर साफ मिट्टी या रेत की परत बिछाकर उस पर पानी का छिड़काव करना चाहिए। अब इसके ऊपर मिट्टी या धातु का कलश स्थापित करना चाहिए। कलश में शुद्ध शुद्ध जल भरकर उस कलश में एक सिक्का रखना चाहिए। हो सके तो कलश के जल में पवित्र नदियों का जल भी मिलाना चाहिए।
  2. इसके बाद कलश पर दाहिना हाथ रखकर ‘ गंगे चा यमुना चैव गोदावरी सरस्वती’ का पाठ करें। नर्मदे सिंधु कावेरी जले अस्मिन सन्निधिम कुरुल ‘ 
  3. इस तरह आह्वान के बाद कलश पर कलावा बांधकर मिट्टी के कटोरे से ढक दें। अब उस कटोरी में जौ भर दें। यदि जौ उपलब्ध न हो तो चावल का भी प्रयोग किया जा सकता है। इसके बाद एक मुरझाया हुआ नारियल लें, उसे लाल कपड़े में लपेटकर कलावा से बांध दें। फिर उस बंधे हुए नारियल को जौ या चावल से भरे प्याले के ऊपर रख दें।
  4. कुछ लोग कलश के ऊपर रखे कटोरी में घी का दीपक जलाते हैं। ऐसा करना उचित नहीं है। कलश का स्थान पूजा के उत्तर-पूर्व कोने में होता है जबकि दीपक का स्थान दक्षिण-पूर्व कोने में होता है। इसलिए कलश के ऊपर दीपक नहीं जलाना चाहिए। दूसरी बात यह है कि कुछ लोग कलश के ऊपर रखे कटोरी में चावल भरकर उस पर शंख रख देते हैं। यह कोई समस्या नहीं है, आप इसे कर सकते हैं। बशर्ते कि शंख दक्षिणावर्त हो और उसका मुख ऊपर की ओर हो तथा चोंच अपनी ओर हो। 

नवरात्रि 2022 दिन 1: मां शैलपुत्री आरती

- Advertisement -

शैलपुत्री माँ बैल असवर। देवता जय जय कार॥

शिव-शंकर की प्रिय भवानी। किसी भी नं

पार्वती तुम कहलावें। जो सुमिरे सो सुख पावें

रिद्धि सिद्धि परवान करें। दया करें धनवान करें

मंगल को शिवाय नमः। आरती थिरती॥

उसकी सगरी ओसा पुजा दो। सगरे शर्म की बात है दो॥

घाव का सुंदर दीप जला के। मनोरंजन ग़री का भोजनालय

माइक्रोसॉफ्ट भाव से मन्त्र जपायें। प्रेम सहित शश

जय गिरराज किशोर अम्बे। शिव मुख चन्द्र चकोरी अम्बे॥

मनोकामना पूर्ण कर दो। चमन सदा सुखी दो॥

नवरात्रि 2022 दिन 1: मां शैलपुत्री मंत्र

ॐ देवी शैलपुत्र्यै नमः॥ (O देवी शैलपुत्र्यै नमः)

नवरात्रि 2022 दिन 1: मां शैलपुत्री स्तुति 

या देवी सर्वभूतेषु मॉम शैलपुत्री रूपेणथिता। नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नमः॥ (हां देवी सर्वभूतेशु मां शैलपुत्री रूपेण संस्था। नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नमः)

- Advertisement -
Shubham Sharma
Shubham Sharmahttps://shubham.khabarsatta.com
Shubham Sharma is an Indian Journalist and Media personality. He is the Director of the Khabar Arena Media & Network Private Limited , an Indian media conglomerate, and founded Khabar Satta News Website in 2017.
RELATED ARTICLES
- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments