Place Your Ad Here

नवरात्रि स्थापना पर पत्नि ने माँ के शक्तिपीठ पर दर्शन करने का बनाया प्लान, फिर पूरी रात पति…

By SHUBHAM SHARMA

Published on:

Follow Us
Navratri-Husband-Wife

Join WhatsApp

Join Now

Join Telegram

Join Now

रात को ही पत्नी जी ने प्लान बना लिया था कि सुबह नवरात्रि स्थापना पर माँ के शक्तिपीठ पर दर्शन करने जाना है।
सोते समय बात याद रह गई सो सपने मे जल्दी उठ गया। सपने मे ही नहाया। कार मे पत्नी व बेटे को साथ लेकर पहुंच गया माँ के दरबार मे। भोग के लिए रास्ते मे हलवाई की दूकान से मिश्री मावा खरीद लिया।

पुजारी जी को मिश्री मावा माता जी को भोग लगाने को देकर दण्डवत प्रणाम करने लगा। पुजारी जी भोग माता जी के सामने रख कर बाहर आये और मुझे कहा ‘जाओ आपको माता जी अन्दर बुला रही है। ‘ घोर आश्चर्य के साथ अन्दर गया। माता जी बड़े गुस्से मे सिहांसन पर विराजमान थीं। मैं माता जी के चरण छूने लगा तो माताजी ने कहा –

“रुक, पहले बता, तूँ अपने जन्म देने वाली माता को साथ लाया? “
मैने कहा – “नहीं माता”
“तूँ अपनी माँ के चरणं छू के आया? “
मैने -“नहीं माता। “
“तूने कभी घर मे अपनी माँ को मिश्री मावा लाकर खिलाया? “
मेने कहा -“नहीं माता”
“तूने कभी तेरी जन्म देने वाली माँ की इच्छाओं को पूरा किया? कभी उसे प्रसन्न रखने का कार्य किया? “
“गलती हो गई माँ,” मै चरणों मे गिर गया। रोने लगा, “क्षमा करो माँ”
“तो, तूने कैसे सोच लिया, तेरे द्वारा मैरे चरणं छूने और मिश्री मावे का भोग लगाने से मैं प्रसन्न हो जाउंगी।
जा पहले तेरी जन्मदात्री माता के चरणं छू। उसे अच्छा खिला, उसे प्रसन्न रख, फिर मैरे पास आना, जा भाग यहाँ से।”
माता मुझे क्रोध से देख रही थी और मै हाथ जोडे थर थर काँपते हुए कह रहा था —
“ज् ज् जी माता जी क्षमा माता जी, म् म् मु मुझे म् म् माफ कर दो माता जी। “

अहसास हुआ कोई मुझे जोर जोर से झकझोर रहा था, पत्नी कह रही थी…. देखो न मम्मी जी, कब से ये नींद मे बड़बड़ा रहे हैं। आँख खुली तो सामने माँ खड़ी थी। कह रही थी… क्या हुआ बेटा क्यो बड़बड़ा रहा है,.. किससे और किस बात की माफी मांग रहा है… कोई सपना देखा क्या?

मैंने मम्मी के बहुत दिनों बाद चरणं छुए और पत्नी से कहा ,,,,
भाइयों अपने घर में भी चार माताएं हैं प्रथम अपनी स्वयं की मां दूसरी अपनी पत्नी तीसरी अपनी बेटी चोथी अपनी बहन अगर इन्हीं की चुनरी फटी है,,,,,,और हम लोग मंदिर में माता जी को चुनरी उड़ाते हैं कोई सार नहीं है

माँ शक्ति है, माँ लक्ष्मी है, माँ सरस्वती है ओर माँ ही प्रथम गुरु हैं।
अपने जन्म देने वाली माता को प्रसन्न रखो, मन्दिर वाली माताजी अपने आप प्रसन्न हो जायेगी।
माँ शक्ति की आराधना के पर्व नवरात्रि की आप सभी को हार्दिक शुभकामनाएं । प्रेम से बोलो
🚩🚩 जय माता दी ❤️❤️

SHUBHAM SHARMA

Khabar Satta:- Shubham Sharma is an Indian Journalist and Media personality. He is the Director of the Khabar Arena Media & Network Private Limited , an Indian media conglomerate, and founded Khabar Satta News Website in 2017.

Place Your Ad Here

Leave a Comment