Home » धर्म » Holika Dahan 2024: क्या है होलिका दहन की कहानी? जानिए Date, Time और Puja Vidhi

Holika Dahan 2024: क्या है होलिका दहन की कहानी? जानिए Date, Time और Puja Vidhi

By SHUBHAM SHARMA

Published on:

Follow Us
Holika Dahan 2024

Join WhatsApp

Join Now

Join Telegram

Join Now

Holika Dahan 2024: द्रिक पंचांग (Drik Panchang) के अनुसार, इस साल होलिका दहन 24 मार्च को मनाया जाएगा, जबकि होली अगले दिन 25 मार्च को मनाई जाएगी। होली भारत के प्रमुख त्योहारों में से एक है, जो हिंदू संस्कृति में महत्वपूर्ण स्थान रखता है। होलिका दहन को होली से एक दिन पहले मनाया जाता है, जो पूर्णिमा का दिन होता है।

होली भारत में रंगों का त्योहार है, जो खुशियों और उत्साह का प्रतीक है। इस त्योहार के पहले दिन को होलिका दहन के रूप में मनाया जाता है, जो हिन्दू संस्कृति में महत्वपूर्ण है।

होली त्योहार का महत्व

होली त्योहार का महत्व हिन्दू परंपरा में बहुत अधिक है। यह फागुन महीने के अंत में मनाया जाता है और विभिन्न प्रकार की परंपराओं और रसमों के साथ मनाया जाता है।

Holika Dahan 2024: Date And Time In Hindi

होलिका दहन (Holika Dahan 2024) को पूर्णिमा के दिन रात्रि में मनाया जाता है। इस बार होलिका दहन 24 मार्च को है।

  • भद्रा पुंछा –  शाम 06:33 बजे  से  शाम 07:53  बजे तक 
  • भद्रा मुख –  शाम 07:53 बजे  से  रात 10:06  बजे तक 
  • भद्रा युक्त प्रदोष काल में होलिका दहन करें
  • पूर्णिमा तिथि प्रारंभ –   24 मार्च 2024 को सुबह 09:54  बजे से 
  • पूर्णिमा तिथि समाप्त –   25 मार्च 2024 को दोपहर 12:29  बजे 

Holika Dahan 2024: Date And Time

  • Bhadra Punchha – 06:33 PM to 07:53 PM
  • Bhadra Mukha – 07:53 PM to 10:06 PM
  • Holika Dahan during Pradosh with Bhadra
  • Purnima Tithi Begins – 09:54 AM on Mar 24, 2024
  • Purnima Tithi Ends – 12:29 PM on Mar 25, 2024

होलिका दहन का महत्व

होलिका दहन का महत्व भगवान विष्णु की भक्ति और धर्म के प्रति समर्पण को दर्शाता है।

पौराणिक कथा: होलिका दहन की कहानी

किंवदंती के अनुसार, राक्षस राजा हिरण्यकशिपु को उसकी तपस्या के बदले में सुरक्षा की पांच रहस्यमय क्षमताएं प्राप्त हुईं, जिसके बारे में उसका मानना ​​था कि ये मिलकर उसे अमर बना देंगी। उसने अपनी प्रजा को एक देवता के रूप में उसकी पूजा करने के लिए मजबूर किया क्योंकि वह इस धारणा पर अडिग था। हालाँकि, उनके पुत्र प्रह्लाद ने ऐसा करने से परहेज किया और वास्तविक भगवान विष्णु के प्रति अपनी भक्ति पर कायम रहे। इस प्रकार, हिरण्यकशिपु अक्सर द्वेषवश अपने पुत्र को मारने की कोशिश करता था, लेकिन वह हमेशा असफल रहता था।

इसलिए, एक दिन, उसने अपनी बहन होलिका से प्रह्लाद को मारने के लिए कहा। अब, होलिका को वरदान दिया गया था कि उसे आग से कोई नुकसान नहीं होगा, इसलिए, वह प्रहलाद को अपनी गोद में लेकर आग में प्रवेश कर गई ताकि वह जिंदा जल जाए। लेकिन, इसके विपरीत, वह होलिका थी जो जलकर मर गई क्योंकि प्रह्लाद की भगवान विष्णु की भक्ति ने उसे बचा लिया।

Holika Dahan 2024: धार्मिक तात्पर्य

इस कथा का धार्मिक तात्पर्य है कि भगवान की भक्ति और सत्य के प्रति समर्पण हमेशा जीत को लाता है।

होलिका दहन की पूजा सामग्री

होलिका दहन की पूजा के लिए निम्नलिखित सामग्री चाहिए:

  • भूसी वाला नारियल
  • पानी से भरा कलश
  • अक्षत
  • गहरा
  • अगरबत्ती
  • सूती धागा
  • हल्दी
  • कुमकुम
  • गुलाल
  • मूंग की दाल
  • बताशा या कोई अन्य मिठाई

होलिका दहन की पूजा विधि

होलिका दहन की पूजा के लिए निम्नलिखित विधि का पालन करें:

  • होलिका के पास पूर्व या उत्तर दिशा की ओर मुख करके बैठें
  • शुरुआत में भगवान गणेश की पूजा करें
  • होलिका का पूजन करें
  • मंत्र का जाप करते हुए पानी छिड़कें और अग्नि की सात बार परिक्रमा करें

होलिका दहन: धार्मिक अवधारणा

होलिका दहन का महत्व हमें अहंकार और अज्ञान को छोड़कर धर्म का पालन करने के लिए प्रेरित करता है।

होलिका दहन का महत्व

यह त्योहार हमें धर्म के महत्व को समझाता है और सत्य के प्रति समर्पण को प्रेरित करता है। होलिका दहन एक महत्वपूर्ण हिन्दू त्योहार है जो हमें धर्म और सत्य के महत्व को समझने के लिए प्रेरित करता है।

होलिका दहन कब है?

होलिका दहन को हिन्दू पंचांग के अनुसार फागुन महीने की पूर्णिमा के दिन मनाया जाता है। इस साल, होलिका दहन 24 मार्च को होगा।

होलिका दहन क्यों मनाया जाता है?

होलिका दहन का महत्व है धर्म के प्रति समर्पण और सत्य के प्रति विश्वास को प्रकट करने के लिए। यह हिरण्यकशिपु की बहन होलिका की असत्य और अहंकार की जलती हुई मिसाल को दर्शाता है।

होलिका दहन के लिए कौन-कौन सी सामग्री चाहिए?

होलिका दहन की पूजा में नारियल, कलश, अक्षत, गहरा, अगरबत्ती, सूती धागा, हल्दी, कुमकुम, गुलाल, मूंग की दाल, बताशा या मिठाई जैसी सामग्री की आवश्यकता होती है।

होलिका दहन की पूजा कैसे की जाती है?

होलिका दहन की पूजा में होलिका के पास बैठकर प्रार्थना की जाती है। पूजा के दौरान गणेश जी की पूजा की जाती है और फिर होलिका का पूजन किया जाता है। मंत्रों का जाप करते हुए पानी और अग्नि के साथ सात बार परिक्रमा की जाती है।

होलिका दहन का महत्व क्या है?

होलिका दहन का महत्व है अहंकार और असत्य को जलाकर धर्म के मार्ग पर चलने को प्रेरित करने में। यह हिरण्यकशिपु की असत्य और प्रह्लाद की सच्चाई को प्रकट करता है।

SHUBHAM SHARMA

Khabar Satta:- Shubham Sharma is an Indian Journalist and Media personality. He is the Director of the Khabar Arena Media & Network Private Limited , an Indian media conglomerate, and founded Khabar Satta News Website in 2017.

Leave a Comment