khabar-satta-app
Home मध्य प्रदेश MP: कमलनाथ सरकार का फ्लोर टेस्ट कल, SC ने दिया आदेश- हाथ उठाकर करें वोटिंग

MP: कमलनाथ सरकार का फ्लोर टेस्ट कल, SC ने दिया आदेश- हाथ उठाकर करें वोटिंग

कोर्ट ने कहा है कि कल शाम 5 बजे तक विधानसभा में बहुमत परीक्षण होना चाहिए. इसके अलावा कोर्ट ने यह भी कहा कि बाहर गए 16 विधायकों पर सदन में आने का कोई दवाब नहीं है.

नई दिल्ली: सुप्रीम कोर्ट ने आज गुरुवार 19 मार्च को मध्य प्रदेश में जारी सियासी संकट पर बड़ा फैसला सुनाया है. कोर्ट से जारी आदेश के अनुसार मध्यप्रदेश में कल 20 मार्च को विधानसभा में बहुमत परीक्षण होगा. कोर्ट के आदेश के अनुसार उसी दिन फ्लोर टेस्ट हो हाथ उठा कर मतदान हो और उसकी वीडियोग्राफी भी होनी चाहिए. कोर्ट ने कहा कि 16 विधायक अगर बहुमत परीक्षण में आना चाहते है तो कर्नाटक DGP और मध्यप्रदेश DGP सुरक्षा मुहैया कराए.

मध्य प्रदेश मामले में सुप्रीम कोर्ट में कोर्ट आज चार बजे सुनवाई खत्म हुई.

सुनवाई में मध्य प्रदेश स्पीकर के वकील मनु सिंघवी ने दलील दी, ‘सिर्फ फ्लोर टेस्ट का मंत्र जपा जा रहा है. स्पीकर के अधिकार क्षेत्र में दखल की कोशिश हो रही है. दलबदल कानून के तहत 2/3 का पार्टी से अलग होना ज़रूरी. अब इससे बचने का नया तरीका निकाला जा रहा है. 16 लोगों के बाहर रहने से सरकार गिर जाएगी. नई सरकार में यह 16 कोई फायदा ले लेंगे.’

- Advertisement -

सिंघवी ने कहा, ‘सुप्रीम कोर्ट भी स्पीकर के विवेकाधिकार में दखल नहीं दे सकता. सिर्फ स्पीकर को अयोग्यता (disqualification) तय करने का अधिकार है. अगर उसकी तबीयत सही नहीं है तो कोई और ऐसा नहीं कर सकता. स्पीकर ने अयोग्य कह दिया तो कोई मंत्री नहीं बन सकता। इसलिए, इससे बचने के लिए स्पीकर के कुछ करने से पहले फ्लोर टेस्ट का मंत्र जपना शुरू कर दिया. वैसे तो कोर्ट को स्पीकर के लिए कोई समय तय नहीं करना चाहिए. स्पीकर को समय दिया देना चाहिए. लेकिन फिर भी आप कह दीजिए कि उचित समय मे स्पीकर तय करे तो वह 2 हफ्ते में तय कर लेंगे.’

जस्टिस चंद्रचूड़ ने पूछा, ‘अगर MLA वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग से बात करें तो स्पीकर फैसला ले लेंगे?’

सिंघवी ने कहा, ‘आप वीडियो कांफ्रेंसिंग की बात करके एक तरह से  विधायकों को बंधक बनाए जाने को मान्यता दे रहे हैं. बिना आपके आदेश के मैं दो हफ्ते में इस्तीफे या अयोग्यता पर फैसला लेने को तैयार हूं. ऐसा किये बिना फ्लोर टेस्ट नहीं होना चाहिए. अगर वह बंधक नहीं हैं तो राज्यसभा चुनाव लड़ रहे दिग्विजय सिंह को अपने वोटर से मिलने क्यों नहीं दिया गया?’

- Advertisement -

जस्टिस हेमंत गुप्ता ने पूछा, ‘MLA राज्यसभा चुनाव में व्हिप से बंधे होते हैं?’

सिंघवी ने कहा, हां

- Advertisement -

जस्टिस डी वाई चंद्रचूड़ ने पूछा, ‘तब वोटर से मिलने की दलील का क्या मतलब रह गया?’

- Advertisement -

Leave a Reply

Discount Code : ks10

NEWS, JOBS, OFFERS यहां सर्च करें

Shubham Sharmahttps://khabarsatta.com
Editor In Chief : Shubham Sharma

सोशल प्लेटफॉर्म्स में हमसे जुड़े

11,007FansLike
7,044FollowersFollow
792FollowersFollow
4,050SubscribersSubscribe

More Articles Like This

- Advertisement -

Latest News

Paytm और Google से चीन के निवेश का संबंध, पूछताछ जारी

खबरसत्ता / टेक्नोलॉजी डेस्क/ व्यक्तिगत डेटा संरक्षण विधेयक, 2019 (Personal Data Protection Bill 2019) की समीक्षा...

SEONI: मनरेगा योजनांतर्गत संचालित कार्यों के लिए लगने वाली सामग्री एवं मशीनरी प्रदाय हेतु निविदा आमंत्रित

सिवनी: कार्यपालन यंत्री ग्रामीण यांत्रिकी सेवा संभाग सिवनी द्वारा जानकारी देते हुए बताया गया कि संभाग सिवनी के अंतर्गत विभिन्न जनपद पंचायतों...

सिवनी कोरोना न्यूज़: 2 नए मरीज मिले, वहीं हुए 6 स्वस्थ अब 49 एक्टिव केस

सिवनी कोरोना न्यूज़: 2 नए मरीज मिले, वहीं हुए 6 स्वस्थ अब 49 एक्टिव केस सिवनी मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ...

SEONI: सरल समाधान योजना में व्यापारियों को ब्याज और पेनाल्टी में मिलेगी 90 प्रतिशत की छूट

सिवनी: राज्यकर उपायुक्त वाणिज्यिक कर सिवनी वृत्त द्वारा जानकारी देते हुए बताया गया कि जीएसटी लागू होने के पूर्व वैट कर के...

सिवनी: सिवनी कलेक्टर की अध्यक्षता में पुलिस एवं राजस्व विभाग के अधिकारियों की बैठक सम्पन्न

सिवनी: सिवनी कलेक्टर डॉ राहुल हरिदास फटिंग एवं पुलिस अधीक्षक श्री कुमार प्रतीक की अध्यक्षता में गुरूवार 29 अक्टूबर को पुलिस विभाग...