Home मध्य प्रदेश MP: भिखारी निकला था DSP का बैचमेट, अब चल रहा इलाज, मदद के लिए आगे आए और साथी

MP: भिखारी निकला था DSP का बैचमेट, अब चल रहा इलाज, मदद के लिए आगे आए और साथी

ग्वालियर: हम अकसर लोगों को उनके पहनावे या हुलिये से आंक लेते हैं. जरूरी नहीं सड़क पर भीख मांग रहा भिखारी बचपन से भिखारी ही हो, वह कोई अफसर भी हो सकता है. ऐसा ही मामला ग्वालियर से सामने आया था. 

मामला 10 नवंबर चुनाव की मतगणना की रात का है. रात करीब 1:30 बजे सुरक्षा व्यवस्था में तैनात डीएसपी रत्नेश सिंह तोमर और विजय सिंह को सड़क किनारे ठंड से ठिठुरता और कचरे में खाना ढूंढ रहा एक भिखारी दिखा था. एक अधिकारी ने जूते और दूसरा अपनी जैकेट उस भिखारी को दे दी थी. जब दोनों डीएसपी वहां से जाने लगे तो भिखारी ने डीएसपी को नाम से पुकारा. जिसके बाद दोनों अचंभित हो गए और पलट कर जब गौर से भिखारी को देखा तो उनके होश उड़ गए थे. वह भिखारी उनके साथ के बेच का सब इंस्पेक्टर मनीष मिश्रा था. जो 10 साल से सड़कों पर लावारिस हाल में घूम रहा था.

मदद के लिए आगे आए बैचमेट

- Advertisement -

आज उनके कई बैचमेट उनका इलाज कराने के लिए आगे आए है. जिस दिन मनीष का पता चला था उसी दिन दोनों अधिकारियों ने उन्हें एक समाजसेवी संस्था में भिजवाया दिया था. जहां मनीष की देखभाल के साथ-साथ उनका इलाज जारी है. ट्विटर पर कई अधिकारी उनकी मदद के लिए आगे आ रहे हैं. साथ ही दोनों डीएसपी के इस कदम की काफी सराहना भी हो रही है

यह भी पढ़े :  अफसर पिता ने लौटाया लाखों का दहेज, बोला- मेरी बहु ही मेरा सबसे बड़ा धन

फैमिली हिस्ट्री

बतौर डीएसपी मनीष के भाई भी थानेदार हैं और पिता और चाचा एसएसपी के पद से रिटायर हुए हैं. उनकी एक बहन किसी दूतावास में अच्छे पद पर हैं. मनीष की पत्नी, जिसका उनसे तलाक हो गया, वह भी न्यायिक विभाग में पदस्थ हैं. फिलहाल मनीष के इन दोनों दोस्तों ने उसका इलाज फिर से शुरू करा दिया है.

यह भी पढ़े :  गौधन संरक्षण के लिए शिवराज सरकार का फैसला, Cow Cabinet का होगा गठन

अचूक निशानेबाज थानेदार थे मनीष

- Advertisement -

ग्वालियर के झांसी रोड इलाके में सालों से सड़कों पर लावारिस घूम रहे मनीष सन् 1999 पुलिस बैच का अचूक निशानेबाज थानेदार थे. मनीष दोनों अफसरों के साथ 1999 में पुलिस सब इंस्पेक्टर में भर्ती हुआ था. दोनों डीएसपी रत्नेश सिंह तोमर और विजय भदोरिया ने इसके बाद काफी देर तक मनीष मिश्रा से पुराने दिनों की बात की और अपने साथ ले जाने की जिद की जबकि वह साथ जाने को राजी नहीं हुआ. आखिर में समाज सेवी संस्था से उसे आश्रम भिजवा दिया गया जहां उसकी अब बेहतर देखरेख हो रही है.

- Advertisement -

Leave a Reply

Discount Code : ks10

NEWS, JOBS, OFFERS यहां सर्च करें

Shubham Sharmahttps://khabarsatta.com
Editor In Chief : Shubham Sharma

सोशल प्लेटफॉर्म्स में हमसे जुड़े

11,262FansLike
7,044FollowersFollow
787FollowersFollow
4,050SubscribersSubscribe

More Articles Like This

- Advertisement -

Latest News

MP Lockdown : मध्यप्रदेश में नहीं लगेगा लॉकडाउन

भोपाल , मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि आर्थिक गतिविधियों को सुचारू रखने के लिए प्रदेश...
यह भी पढ़े :  पश्चिम रेलवे की पहली किसान रेल सेवा शुरु, सांसद शंकर लालवानी ने दिखाई हरी झंडी

ठंड में कोरोना से बचाव के लिए सामान्य निर्देशों की एडवाईजरी जारी

सिवनी , ठंड सर्दियों में कोरोना (Corona Virus) से बचाव के लिए सामान्य निर्देशों की एडवाईजरी जारी जैसे जैसे समय आगे बढ़ रहा है...

श्रीनगर आतंकी हमले में सेना के 2 जवान शहीद; मारूति कार में सवार थे 3 आतंकी, सर्च ऑपरेशन जारी

श्रीनगर। मध्य कश्मीर के जिला श्रीनगर के बाहरी इलाके अबन शाह एचएमटी चौक में आतंकवादियों ने सेना की क्यूक रिएक्शन टीम (QRT) पर घात लगाकर...

अमेरिका में 24 घंटे में कोरोना से दो हजार से ज्यादा मौतें, लगभग सभी राज्यों में बढ़े मामले

वाशिंगटन। दुनिया में कोरोना महामारी का प्रकोप तेजी से बढ़ता जा रहा है। अमेरिका में पिछले 24 घंटों में कोरोना से दो हजार से...

ईरान पर और प्रतिबंध लगा सकते हैं ट्रंप, बाइडन को भी इसी राह पर चलने की सलाह

वाशिंगटन। अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप अपने कार्यकाल के अंतिम महीनों में ईरान पर और प्रतिबंध लगा सकते हैं। इसके संकेत ईरान में अमेरिका के...
x