Sunday, September 25, 2022
Homeमध्य प्रदेशमध्यप्रदेश : कोरोना के लिए हर जिले को 2 करोड़, शिवराज बोले-...

मध्यप्रदेश : कोरोना के लिए हर जिले को 2 करोड़, शिवराज बोले- युद्ध स्तर पर जुटे सभी मंत्री

सीएम शिवराज ने कहा कि हर जिले में कोविड केयर सेंटर बनाए जा रहे हैं, जिनमें कोरोना के मरीजों की देखभाल की जाएगी। कोरोना संबंधी व्यवस्थाओं के लिए हर ज़िले को 2-2 करोड़ रुपए की राशि भी जारी की गई है।

- Advertisement -

सीएम शिवराज सिंह चौहान (CM Shivraj Singh Chauhan) ने सभी मंत्रियों से अपने-अपने क्षेत्रों में कोरोना संक्रमण (Coronavirus) रोकने, उपचार आदि की व्यवस्थाओं के लिए युद्ध स्तर पर जुटने को कहा है। हमें हर हालत में कोरोना संक्रमण को प्रभावी रूप से रोकना है तथा हर कोरोना मरीज़ का सर्वोत्तम इलाज सुनिश्चित करना है।सीएम शिवराज ने कहा कि हर जिले में कोविड केयर सेंटर बनाए जा रहे हैं, जिनमें कोरोना के मरीजों की देखभाल की जाएगी। कोरोना संबंधी व्यवस्थाओं के लिए हर ज़िले को 2-2 करोड़ रुपए की राशि भी जारी की गई है।

दरअसल, सीएम शिवराज आज मंत्रालय में मंत्रि-परिषद के सदस्यों की आपात बैठक ले रहे थे। बैठक में मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्रा,  कमल पटेल,  विश्वास सारंग,  जगदीश देवड़ा,  बिसाहूलाल सिंह, अरविंद भदौरिया, विजय शाह,  भारत सिंह कुशवाह और प्रद्युम्न सिंह तोमर उपस्थित थे। सीएम शिवराज सिंह कहा है कि प्रदेश के सभी जिलों में उपचार के लिए अस्पतालों में बिस्तर, Oxygen, दवाओं, इंजेक्शन आदि की पर्याप्त व्यवस्था है। हर जिले में कोविड केयर सेंटर बनाए जा रहे हैं। भविष्य की व्यवस्थाओं के लिए सभी जिलों में पर्याप्त संख्या में बिस्तर बढ़ाए जा रहे हैं। निजी अस्पतालों से भी अनुबंध किया जा रहा है।

- Advertisement -

सीएम शिवराज सिंह ने कहा कि हर जिला अस्पताल में CT Scan Machine की व्यवस्था की जा रही है। इसके संबंध में टेंडर जारी कर दिए गए हैं। शीघ्र ही यह प्रक्रिया पूर्ण की जाएगी।आज उनके द्वारा प्रत्येक जिले के क्राइसिस मैनेजमेंट ग्रुप के सदस्यों से बातचीत की गई है तथा उनसे कहा गया है कि वे अपने जिले की परिस्थितियों के अनुरूप कोरोना संक्रमण को रोकने की रणनीति बनाकर उस पर अमल करें। पूर्ण लॉकडाउन (Lockdown 2021) के स्थान पर छोटे-छोटे क्षेत्रों में लॉकडाउन को प्राथमिकता दी जाए। माइक्रो कंटेनमेंट जोन बनाए जाएं।

सीएम शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि पहले प्रदेश के अस्पतालों (Hospital) में ऑक्सीजन की उपलब्धता 60 MT थी, जिसे 3 गुना बढ़ाकर 180 MT कर दिया है। कोरोना के उपचार के संबंध में 50 हजार Remedysewer injection के आर्डर दे दिए गए हैं तथा इंजेक्शन आना भी प्रारंभ हो गए हैं। आगे भी इनकी पर्याप्त आपूर्ति बनी रहेगी। इन्हें शासकीय तथा अनुबंधित अस्पतालों में नि:शुल्क लगाया जाएगा।  जिला कमांड एंड कंट्रोल सेंटर के माध्यम से होम आइसोलेशन में रह रहे मरीजों की देखभाल की जा रही है। दिन में कम से कम 2 बार इनसे बात करने तथा आकस्मिक निरीक्षण करने के भी निर्देश जिलों को दिए गए हैं।

- Advertisement -

गौरतलब है कि सरकारी आंकड़ों के अनुसार, कोरोना के उपचार के लिए जिलों के सरकारी अस्पतालों में कुल 60% तथा निजी अस्पतालों में 47% बिस्तर खाली हैं। शासकीय अस्पतालों में 17 हजार 492 बिस्तर भरे हुए हैं, वहीं निजी अस्पतालों में 13 हजार 250 बिस्तर भरे हुए हैं। भोपाल में शासन द्वारा जेके एवं पीपुल्स अस्पताल को अनुबंधित कर लिया गया है। कोरोना के कुल मरीजों में से 67% मरीज होम आइसोलेशन में है तथा 33% मरीज अस्पतालों में भर्ती हैं। अस्पतालों में भर्ती मरीजों में से 18% ऑक्सीजन सपोर्ट पर तथा 8% आईसीयू में है। वर्तमान में प्रदेश में कोरोना के एक्टिव मरीजों की संख्या 30 हज़ार से अधिक है।

- Advertisement -
RELATED ARTICLES
- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments

WhatsApp Join WhatsApp Group