khabar-satta-app
Home महाराष्ट्र पालघर केस: वकील की मौत! बीजेपी को शक! वीएचपी ने भी दी चेतावनी

पालघर केस: वकील की मौत! बीजेपी को शक! वीएचपी ने भी दी चेतावनी

बीजेपी नेता संबित पात्रा ने ट्वीट किया कि पालघर में संतों की हत्या मामले में विश्व हिंदू परिषद के वकील दिग्विजय त्रिवेदी की सड़क हादसे में मौत हो गई. यह खबर विचलित करने वाली है.

महाराष्ट्र के पालघर लिचिंग केस में साधुओं का केस लड़ रहे वकील के सहयोगी दिग्विजय त्रिवेदी की सड़क हादसे में मौत हो गई. ये हादसा बुधवार को मुंबई-अहमदाबाद हाइवे पर हुआ, जब दिग्विजय त्रिवेदी अपनी कार से कोर्ट की ओर जा रहे थे. दिग्विजय त्रिवेदी की मौत पर भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के प्रवक्ता संबित पात्रा ने सवाल उठाए हैं और जांच की मांग की है.

उन्होंने ट्वीट किया कि पालघर में संतों की हत्या मामले में विश्व हिंदू परिषद के वकील दिग्विजय त्रिवेदी की सड़क हादसे में मौत हो गई. यह खबर विचलित करने वाली है. उन्होंने आगे कहा कि क्या ये केवल संयोग है कि जिन लोगों ने पालघर मामले को उठाया उनपर या तो कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने हमला किया या एफआईआर कराया. खैर ये जांच का विषय है. वहीं, बीजेपी सांसद विनय सहस्त्रबुद्धे ने भी जांच की मांग की है. उन्होंने ट्वीट किया ये चौंकाने वाला है और इसकी जांच होनी चाहिए. मैं महाराष्ट्र के डीजीपी और मुख्यमंत्री से इस मामले की जांच के आदेश देने के मांग करता हूं.

- Advertisement -

वहीं, साधुओं के वकील पीएन ओझा ने कहा कि दिग्विजय त्रिवेदी उनके जूनियर थे. आधिकारिक तौर पर दिग्विजय मामले का प्रतिनिधित्व नहीं कर रहे थे, लेकिन जिस दिन दुर्घटना हुई उस दिन वह इस मामले में शामिल होने के लिए दहानु कोर्ट आ रहे थे. उनका कहना है कि दिग्विजय त्रिवेदी वीएचपी या बीजेपी से नहीं जुड़े थे.

उन्होंने आगे कहा कि मैं इस दुर्घटना के बारे में कुछ नहीं कह सकता. वह एक जूनियर वकील था और वह सीखना चाहता था, इसलिए मैंने उसे अपने अधीन इस मामले में शामिल होने की अनुमति दी थी. हमें दुर्घटना का सही कारण जानने के लिए आरटीओ की रिपोर्ट का इंतजार करना होगा.

- Advertisement -

कैसे हुआ हादसा

कार वकील दिग्विजय त्रिवेदी चला रहे थे. उन्होंने कार पर नियंत्रण खो दिया और बाईं ओर मुड़ते हुए कार डिवाइडर से जा टकराई. दिग्विजय त्रिवेदी की कुछ देर बाद मौत हो गई, जबकि कार में सवार एक अन्य महिला को गंभीर चोटें आई हैं. उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया है. ये हादसा तब हुआ जब वकील दिग्विजय त्रिवेदी दाहनु कोर्ट की ओर जा रहे थे.

- Advertisement -

गौरतलब है कि कि अप्रैल महीने में पालघर के गड़चिनचले गांव में भीड़ ने दो साधुओं और उनके ड्राइवर की पीट-पीटकर हत्या कर दी थी. भीड़ के हत्थे चढ़े साधु मुंबई के जोगेश्वरी पूर्व स्थित हनुमान मंदिर के थे. ये साधु मुंबई से सूरत अपने गुरु के अंतिम संस्कार में जा रहे थे, लेकिन लॉकडाउन के चलते पुलिस ने इन्हें हाइवे पर जाने से रोक दिया. फिर गाड़ी में सवार साधु ग्रामीण इलाके की तरफ मुड़ गए, जहां मॉब लिंचिंग के शिकार हो गए. इस मामले में 100 से अधिक लोगों को गिरफ्तार किया जा चुका है. 16-17 अप्रैल की रात जब ये दो साधु अपने ड्राइवर के साथ गांव से गुजर रहे थे, तब लोगों को चोरों के आने का शक हुआ.

- Advertisement -

Leave a Reply

Discount Code : ks10

NEWS, JOBS, OFFERS यहां सर्च करें

Shubham Sharmahttps://khabarsatta.com
Editor In Chief : Shubham Sharma

सोशल प्लेटफॉर्म्स में हमसे जुड़े

11,007FansLike
7,044FollowersFollow
793FollowersFollow
4,050SubscribersSubscribe

More Articles Like This

- Advertisement -

Latest News

CM योगी का बड़ा हमला, कहा-कठमुल्लों के फतवों से नहीं संविधान से चलेगा देश

लखनऊ: बिहार विधानसभा चुनाव चरम पर है। सभी पार्टियों ने अपने स्टार प्रचारकों को मैदान में उतार दिया है। इस...

शिवराज बोले- आप तुलसी को विधायक बनाएं, मंत्री तो मैं बना ही दूंगा

इंदौर: मध्यप्रदेश में 3 नवंबर को होने वाले विधानसभा के उपचुनाव को लेकर दोनों ही पार्टियों ने प्रचार में अपनी पूरी ताकत झोंक दी...

मुंबई से यूपी लौट रहा परिवार सड़क हादसे का शिकार, एक ही परिवार के 12 सदस्य गंभीर घायल

इंदौर: इंदौर के तेजाजी नगर बाईपास पर देर रात एक बड़ा हादसा हो गया। जहां चार पहिया वाहन और ट्रक में भीषण टक्कर हो...

फ्रांस के राष्ट्रपति के खिलाफ MP में मुस्लिमों का प्रदर्शन, कांग्रेस MLA बोले- मोदी सरकार विरोध करे

भोपाल: फ्रांस के राष्ट्रपति इम्मैन्युअल मैक्रों के बयान को लेकर दुनिया भर में मुस्लिमों का आक्रोश बढ़ रहा है। मध्य प्रदेश में भी इसका...

भ्रष्टाचार के गंभीर आरोप के बाद भी नहीं हुई तहसीलदार पर FIR, EOW की शिकायत भी गैरअसरदार

जबलपुर: सरकारी फाइलों में बड़ी हेरा फेरी का आरोप लगने और ईओडब्ल्यू में बार बार शिकायत दर्ज होने के बावजूद भी तहसीलदार जैसे बड़े अफसर...