Home देश Delhi Riots : दिल्ली को दहलाने मेरठ से मंगवाए थे हथियार, पूर्व कांग्रेस नेता ने दिए पैसे

Delhi Riots : दिल्ली को दहलाने मेरठ से मंगवाए थे हथियार, पूर्व कांग्रेस नेता ने दिए पैसे

नई दिल्ली: फरवरी माह में देश की राजधानी दिल्ली में भड़की हिंसा (Delhi Riots) मामले में एक बड़ा खुलासा हुआ है. दिल्ली पुलिस (Delhi Police) के एक वरिष्ठ अधिकारियों ने बताया है कि दंगों में इस्तेमाल हथियारों को उत्तर प्रदेश के मेरठ (Meerut) जिले से मंगवाया गया था.

दिल्ली दंगों में UAPA के तहत गिरफ्तार खालिद सैफी ने पूछताछ के कबूला की दिल्ली में दंगा करवाने के लिए 5 देसी कट्टे मेरठ से खरीदे गए थे. जिनको 25,000 रुपये में खरीदा गया था. आरोपी ने बताया कि हथियार खरीदने के लिए ये पैसे कांग्रेस की पूर्व पार्षद इशरत जहां ने उसे दिए थे, जिसके बाद ये हथियार मेरठ से लाए गए थे. 

- Advertisement -

आपको बताते चलें कि आरोपी खालिद सैफी यूनाइटेड अगेंस्ट हेट (UAH) से जुड़ा हुआ है, जिसके अच्छे राजनीतिक संबंध भी हैं. वहीं दिल्ली हिंसा में मेरठ का नाम पहले भी उजागर हुआ था. दिल्ली पुलिस ने आरोपियों से पूछताछ के बाद बताया था कि एंटी सीएए-एनआरसी प्रदर्शनों में मेरठ के कई दंगाई शामिल थे. दंगा करने के लिए इन्हें विशेष रूप से कुछ दिन पहले ही दिल्ली बुलाया गया था.

वहीं दिल्ली पुलिस द्वारा कल दायर सप्लीमेंट्री चार्जशीट में कई बड़े नाम सामने आए हैं. इस चार्जशीट में विपक्ष के नेता सीताराम येचुरी (Sitaram Yechury), स्वराज अभियान के नेता योगेंद्र यादव (Yogendra Yadav), अर्थशास्त्री जयती घोष (Jayati Ghosh), दिल्ली विश्वविद्यालय के प्राध्यापक और सामाजिक कार्यकर्ता अपूर्वानंद (Apoorvanand) और डॉक्यूमेंटरी फिल्मकार राहुल रॉय (Rahul Roy) के नाम भी सह-साजिशकर्ता के रूप में नाम दर्ज किए हैं. इन सभी पर आरोप है कि इन्होंने सीएए का विरोध कर रहे प्रदर्शनकारियों को ‘किसी भी हद तक जाने को कहा’. इन सभी ने सीएए-एनआरसी को एक समुदाये का विरोधी बताकर नाराजगी बढ़ाई और भारत सरकार की छवि खराब करने के लिए प्रदर्शन आयोजित किए. 

- Advertisement -
यह भी पढ़े :  MP: अतिथि विद्वानों को नियमित करेगी शिवराज सरकार ! उच्च शिक्षा मंत्री ने दिया बड़ा आश्वासन

इस चार्जशीट पर एक आधिकारिक बयान जारी करते हुए दिल्ली पुलिस (Delhi Police) ने कहा कि एंटी-सीएए प्रोटेस्ट को ऑर्गनाइज और अड्रेस करने के संबंध में एक आरोपी के बयान के आधार पर ये नाम शामिल किए गए हैं. इस डिस्क्लोजर स्टेटमेंट को सच्चाई के साथ रिकॉर्ड किया गया है. एक व्यक्ति को केवल डिस्क्लोजर स्टेटमेंट के आधार पर अभियुक्त नहीं ठहराया जाता है.

- Advertisement -

Discount Code : ks10

NEWS, JOBS, OFFERS यहां सर्च करें

Shubham Sharmahttps://khabarsatta.com
Editor In Chief : Shubham Sharma

सोशल प्लेटफॉर्म्स में हमसे जुड़े

11,254FansLike
7,044FollowersFollow
781FollowersFollow
4,050SubscribersSubscribe

More Articles Like This

- Advertisement -

Latest News

याेगी सरकार ने लव जिहाद कानून काे दी मंजूरी, साधू संतों ने फैसले का किया स्वागत

प्रयागराज: उत्तर प्रदेश की योगी सरकार ने जबरन धर्म परिवर्तन मामले को लेकर सख्त है। इसे देखते हुए सरकर ने...
यह भी पढ़े :  पटरी पर लौट सकते हैं भारत-नेपाल के रिश्ते, काठमांडू जाएंगे विदेश सचिव

विजय सिन्‍हा चुने गए स्‍पीकर ,पक्ष में पड़े 126 वोट, विपक्ष में 114

पटना ।  बिहार के संसदीय इतिहास में अरसे बाद विधानसभा अध्यक्ष पद का आज चुनाव हुआ है। प्रोटेम स्‍पीकर जीतन राम मांझी ने विजय...

सिवनी कलेक्टर द्वारा जिले के क्रेशर संचालकों, डम्फर संचालकों से अप्रत्‍याशित परिस्थितियों में नागरिकों की जान -माल की सुरक्षा के लिए त्वरित राहत बचाव...

सिवनी : कलेक्टर डॉ राहुल हरिदास फटिंग द्वारा मंगलवार 25 नवम्बर को जिले के क्रेशर संचालकों, डम्‍फर संचालकों की बैठक लेकर अप्रत्याशित आपदा से...

नगरोटा साजिश के पीछे था पाक का हाथ! आतंकियों के पास से मिले डिवाइस ने खोले कई राज

भारतीय सुरक्षा बलों द्वारा 19 नवंबर को जम्मू कश्मीर के नगरोटा में एक बड़े आतंकी हमले की साजिश को नाकाम करने के बाद सेना...

राहुल गांधी ने किए तरुण गोगोई के अंतिम दर्शन, बोले- मैंने अपने गुरु को खो दिया

कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने असम के पूर्व मुख्यमंत्री तरुण गोगोई के पार्थिव शरीर को बुधवार को श्रद्धांजलि दी और कहा कि गोगोई उनके...
x