Monday, August 15, 2022
Homeदेश"बंदर मारा गया ", बालाकोट एयर स्ट्राइक के बाद दिल्ली में...

“बंदर मारा गया “, बालाकोट एयर स्ट्राइक के बाद दिल्ली में पहला फ़ोन

ऑपरेशन के लिए 'बंदर' नाम जानबूझकर चुना गया था

- Advertisement -

आज भारत की बालाकोट हवाई हमले की दूसरी वर्षगांठ है। पुलवामा आतंकी हमले के जवाब में भारत ने हवाई हमला किया था। इस आतंकवादी हमले का कोडनेम क्या था? इसके लिए जो योजना बनाई गई थी उसका परिचालन विवरण और अंदर की कहानी अब सामने आ गई है।

‘बंदर मारा गया’

26 फरवरी, 2019 को, लगभग 3.30 बजे, एयर स्टाफ के प्रमुख बीएस धनोआ ने एक विशेष RAX नंबर पर (RAX एक अल्ट्रा सिक्योर फिक्स्ड लाइन नेटवर्क है) राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल को फोन किया और कहा, “बंदर मारा गया ” संदेश यह था कि बालाकोट में जैश-ए-मोहम्मद के आतंकवादियों के प्रशिक्षण शिविर को भारतीय वायु सेना के विमानों ने सीमा पार से अभियान में नष्ट कर दिया था। धनोआ ने रक्षा मंत्री से भी कहा था। उस समय निर्मला सीतारमण के पास रक्षा मंत्रालय था।

- Advertisement -

अजीत डोभाल ने फोन कर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को जानकारी दी। यह 14 फरवरी, 2019 को पुलवामा में जैश-ए-मोहम्मद आतंकवादी हमले के लिए भारतीय सेना की प्रतिक्रिया थी। पुलवामा आतंकी हमले में चालीस भारतीय सीआरपीएफ कर्मी मारे गए थे। भारत ने हवाई हमलों से शहीद सैनिकों की मौत का बदला लिया था। दो साल बाद भारत के ऑपरेशन के बारे में नई जानकारी सामने आई है।

बालाकोट हमले की सफलता के लिए कोडवर्ड था ‘बंदर’

26 फरवरी 2019 को तड़के करीब 3.30 बजे 12 मिराज 2000 लड़ाकू विमानों ने नियंत्रण रेखा (LoC) पार किया और पाकिस्तान के बालाकोट में जैश-ए-मोहम्मद के आतंकी शिविरों को ध्वस्त कर दिया। जब भारतीय विमानों ने सीमापार करके सफलतापूर्वक अभियान को अंजाम दिया तो वायु सेना के तत्कालीन कमांडर हरि कुमार ने वायु सेना प्रमुख को इसकी सफलता की जानकारी देने के लिए ‘बंदर’ शब्द का इस्तेमाल किया। हिंदी भाषा में वानर पशु के लिए ‘बंदर’ शब्द का इस्तेमाल होता है और फारसी में इसका आशय ‘बंदरगाह’ से होता है। पोर्ट कोड को पाकिस्तानी खुफिया तंत्र को भ्रमित करने के लिए चुना गया था जिसमें भारत जैश-ए-मोहम्मद के मुख्यालय बहावलपुर का जिक्र कर रहा था। जैश-ए-मोहम्मद का नेता मसूद अजहर वहां छिपा हुआ था।

- Advertisement -

भारतीय वायु सेना के लड़ाकू विमानों ने पाकिस्तान को यह समझाने के लिए राजस्थान के ऊपर उड़ान भरी थी कि यह बहावलपुर में की जाएगी न कि बालाकोट में। ताकि, पाकिस्तान अपनी वायु शक्ति का उपयोग बहावलपुर की ओर कर सके। यह रणनीति जानबूझकर पाकिस्तान को गुमराह करने के लिए तैयार की गई थी। इसी समय, वायु सेना के लड़ाकू जेट विमानों ने बालाकोट में जैश बेस पर मिराज -2000 से 90 किलोग्राम वजन का एक स्पाइस 2000 बम गिराया। हमले के समय, पाकिस्तानी लड़ाकू जेट भारतीय लड़ाकू जेट से 150 किमी दूर थे। भारतीय समयानुसार अपराह्न करीब 3.30 बजे मिसाइलों द्वारा बेस पर पांच बम गिराए गए। हालांकि, छठे बम में तकनीकी दिक्कत के चलते आग नहीं लगी और यह विस्फोट नहीं कर पाया।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने स्ट्राइक के बाद कैबिनेट की बैठक बुलाई थी। बैठक में सभी वरिष्ठ मंत्रियों, पीएमओ अधिकारियों, कैबिनेट सचिवों, गृह सचिवों, विदेश सचिवों, खुफिया प्रमुखों, वायु सेना प्रमुखों और रॉ सचिवों ने भाग लिया। प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने खुले तौर पर भारतीय खुफिया सेवा, विशेषकर रॉ और वायु सेना प्रमुख को बधाई दी।

- Advertisement -

लेकिन इस बार, राष्ट्रीय सुरक्षा योजनाकारों को चिंता थी कि आखिरी मिसाइल विफल हो गई थी। हड़ताल के साक्ष्य ऑप्टिकल मार्गदर्शन के माध्यम से प्राप्त किए गए थे, जिसने भारत को पाकिस्तान या किसी भी पश्चिमी देश ने स्ट्राइक का सवाल उठाया था। इसी तरह, पाकिस्तान ने दावा किया था कि झूठे प्रचार और पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर की तस्वीरें पेश करने से यह स्ट्राइक विफल हो गई। अधिकारियों ने कहा कि फोटो में साफ दिख रहा है कि स्ट्राइक से पहले बालाकोट में करीब 300 जिहादी मौजूद थे।

भारतीय वायु सेना (IAF) की तरफ से पाकिस्तान स्थित बालाकोट में जैश-ए-मोहम्मद (जेईएम) के आतंकी शिविर पर ‘मिशन बंदर’ को सिर्फ 90 सेकेंड के भीतर अंजाम दिया गया था और इस ऑपरेशन के लिए जिस तरह की सीक्रेसी रखी गई थी उसका अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि इसे अंजाम देने वाले पायलट के परिवार के सदस्यों को भी इस बारे में कुछ नहीं मालूम था। इस तरह के भारतीय वायुसेना के हमले में पहली बार इस्तेमाल किए गए मिराज-2000 लड़ाकू विमानों के एक पालयट ने बताया था कि “यह 90 सेकेंड में पूरा हो गया था, हमने बम फेंका और वापस लौट आए।” जबकि, नाम न बताने की शर्त पर भारतीय वायु सेना के एक अन्य पायलट ने कहा था “इसे कोई नहीं जानता था, यहां तक के मेरे परिवार के सदस्यों को भी नहीं मालूम था।”

यह भी पढ़े : बालाकोट स्ट्राइक के 2 साल: दहल उठा था पाकिस्तान जब भारत ने पुलवामा आतंकी हमले का लिया था बदला

यह भी पढ़े : राफेल : साफ़ नज़र आ रहा पाकिस्तान का डर, बाजवा ने बालाकोट को लेकर फिर बोला झूठ

- Advertisement -
RELATED ARTICLES
- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments

WhatsApp Join WhatsApp Group