Friday, August 12, 2022
Homeदेशविधानसभा चुनाव 2021: चुनाव आयोग ने पांच राज्यों में चुनाव की तारीखों...

विधानसभा चुनाव 2021: चुनाव आयोग ने पांच राज्यों में चुनाव की तारीखों की घोषणा

चूंकि चुनाव कोरोना अवधि में हो रहे हैं, इसलिए अभियान के लिए कुछ दिशानिर्देश तैयार किए गए हैं।

- Advertisement -

चुनाव आयोग की प्रेस कॉन्फ्रेंस चल रही है और पांच राज्यों में चुनाव कार्यक्रम घोषित किए जा रहे हैं। विधानसभा चुनाव पांच राज्यों – तमिलनाडु, पश्चिम बंगाल, केरल, असम और पुदुचेरी में होंगे।
“कुल 824 विधानसभा क्षेत्रों में वोटिंग होगी। 18.68 करोड़ नागरिक मतदान के अपने अधिकार का प्रयोग करेंगे। 2.7 लाख मतदान केंद्र होंगे, ”मुख्य चुनाव आयुक्त सुनील अरोड़ा ने कहा।

चुनाव की तारीखें ।।

  • केरल 6 अप्रैल को चुनाव और 2 मई को परिणाम के साथ एक ही चरण में चुनावों में जाएगा
  • असम में तीन चरणों में प्रदान की जाने वाली सहायता, 27 मार्च,
  • तमिलनाडु में, लेकिन केरल की तरह एक ही चरण में, मतदान 6 अप्रैल और 2 मई को होंगे। केरल और तमिलनाडु एक ही दिन होंगे।
  • सात मार्च को पहले चरण के साथ पश्चिम बंगाल आठ चरणों में मतदान होगा
  • तमिलनाडु, केरल और पुडुचेरी में चुनाव 6 अप्रैल को एक ही चरण में होंगे, जबकि असम में चुनाव तीन चरणों में होंगे।
- Advertisement -

आठ चरणों में पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव

  • पहला चरण – 27 मार्च को मतदान
  • द्वितीय चरण – 1 अप्रैल को मतदान
  • चरण III – 6 अप्रैल को मतदान
  • चरण IV – 10 अप्रैल को मतदान
  • चरण 5 – 17 अप्रैल को मतदान

पुडुचेरी चुनाव कार्यक्रम

  • पुडुचेरी के केंद्रशासित प्रदेश में एक चरण में आयोजित किया जाएगा।
  • अधिसूचना जारी की जाएगी – 12 मार्च
  • को नामांकन पत्र जमा करने की अंतिम तिथि – 19 मार्च
  • को उम्मीदवार आवेदन की संवीक्षा – 20 मार्च
  • को उम्मीदवारी के लिए आवेदन वापस लेना – 22 मार्च
  • को केरल में मतदान – 6 अप्रैल
  • को वोटों की गिनती – 2 मई

तमिलनाडु का चुनाव कार्यक्रम

  • तमिलनाडु एक ही चरण में 234 विधानसभा सीटों के लिए मतदान करेगा।
  • अधिसूचना जारी की जाएगी – 12 मार्च
  • को नामांकन पत्र जमा करने की अंतिम तिथि – 19 मार्च
  • को उम्मीदवार आवेदन की संवीक्षा – 20 मार्च
  • को उम्मीदवारी के लिए आवेदन वापस लेना – 22 मार्च
  • को केरल में मतदान – 6 अप्रैल
  • को वोटों की गिनती – 2 मई

केरल चुनाव कार्यक्रम

  • अधिसूचना जारी – मार्च 12
  • उम्मीदवार आवेदन जांच – 20 मार्च
  • प्रत्याशी वापसी की तिथि – 22 मार्च
  • केरल में मतदान – 6 अप्रैल मतगणना – 2 अप्रैल

असम चुनाव कार्यक्रम

  • तीन चरणों में असम में होगा।
  • पहला चरण 27 मार्च को होगा, उसके बाद अंतिम चरण 1 अप्रैल और 6 अप्रैल को होगा।

पश्चिम बंगाल में भाजपा की 200 सीटों का लक्ष्य

- Advertisement -

पश्चिम बंगाल में चुनाव पहले से ही जोरों पर हैं। आज चुनाव की तारीखों की घोषणा के बाद सभी दल पूरी ताकत से चुनाव प्रचार में उतरेंगे। वर्तमान में, ममता बनर्जी के नेतृत्व में एक टीएमसी सरकार है। हालांकि, इस बार भाजपा ने 200 से अधिक सीटों का लक्ष्य रखा है। इसके लिए बड़ी सभाएं आयोजित की जा रही हैं। इसके अलावा, वाम और कांग्रेस के बीच गठबंधन ने बंगाल की राजनीति को और भी दिलचस्प बना दिया है।

असम में फिर बीजेपी?

- Advertisement -

असम के 126 सीटों वाले राज्य में वर्तमान में भाजपा के नेतृत्व वाली एनडीए सरकार का शासन है। सर्वानंद सोनोवाल यहां के मुख्यमंत्री हैं। पिछले चुनावों में भाजपा ने यहां 60 सीटें जीती थीं। इस बार कांग्रेस यहां भी जीत का दावा कर रही है। हालांकि, पिछले परिणामों से पता चला कि कांग्रेस 122 सीटों में से केवल 26 सीटें जीतने में सक्षम थी। यहां सरकार बनाने के लिए 64 सीटों की जरूरत है।

तमिलनाडु में राज करने वाली AIADMK?

तमिलनाडु में सत्ता में आने के लिए जादुई संख्या 118 है। वर्तमान में, ऑल इंडिया अन्ना द्रविड़ मुनेत्र कड़गम (AIADMK) में सरकार चलाते हैं और पलानीस्वामी राज्य के प्रमुख हैं। पिछले चुनावों में, AIADMK ने 136 सीटें जीतीं, जबकि मुख्य विपक्षी दल DMK ने 89 सीटें जीतीं। बहुमत का आंकड़ा 188 सीटों का है।

केरल में CPI का क्या होगा?

केरल में वर्तमान में CPI के नेतृत्व वाली वाम लोकतांत्रिक मोर्चा (LDF) सरकार है। मुख्यमंत्री पिनाराई विजयन सरकार चला रहे हैं। पिछले चुनाव में, एलडीएफ ने 91 सीटें और कांग्रेस के नेतृत्व वाली यूनाइटेड डेमोक्रेटिक फ्रंट (यूडीएफ) ने 47 सीटें जीती थीं। यहां बहुमत के लिए 71 सीटों की जरूरत होती है। राहुल गांधी ने चुनाव की तारीखों से पहले यहां कई जनसभाएं की हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी यहां का दौरा कर चुके हैं।

चूंकि चुनाव कोरोना अवधि में हो रहे हैं, इसलिए अभियान के लिए कुछ दिशानिर्देश तैयार किए गए हैं।

– डोर-टू-डोर अभियान के लिए एक उम्मीदवार सहित केवल पांच कार्यकर्ताओं को अनुमति दी जाएगी।
– रोड शो की अनुमति है।
– संदिग्ध कोविद रोगी के लिए अलग नियम होंगे।
– चुनाव अधिकारियों को टीका लगाया जाएगा।

- Advertisement -
RELATED ARTICLES
- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments

WhatsApp Join WhatsApp Group