Tuesday, September 27, 2022
Homeसिवनीसिवनी: एक ऐसा सरकारी स्कूल जहाँ शिक्षकों का वार्षिक वेतन लाखो में,...

सिवनी: एक ऐसा सरकारी स्कूल जहाँ शिक्षकों का वार्षिक वेतन लाखो में, पर बोर्ड कक्षा का रिजल्ट सिर्फ 6 प्रतिशत; लगातार लापरवाही जारी

Seoni: A government school where the annual salary of teachers is in lakhs, but the board class result is only 6 percent; continued carelessness

- Advertisement -

सिवनी। गरीब परिवारों से आए बच्चों को शासकीय स्कूल में बेहतर शिक्षा मिल सके इसके लिए एक 1 शिक्षकों को लगभग 70 से 85 हजार रुपए प्रति माह वेतन सरकार दे रही है।

इसके बाद भी जिले के अनेक सरकारी स्कूलों के अधिकांश शिक्षक अपने कर्तव्यों के प्रति गद्दारी करते हुए अन्य व्यवसाय में संलग्न है। इससे गरीब बच्चों के भविष्य के साथ खिलवाड़ हो रहा है।

- Advertisement -

जिला मुख्यालय के छिंदवाड़ा चौक स्थित शासकीय तिलक हाई स्कूल ईपीएस में कक्षा नौवीं व दसवीं में 2 कक्षाएं संचालित हैं। यहां लगभग 150 विद्यार्थी अध्ययनरत हैं और शिक्षकगणों की संख्या 9 है।

इन शिक्षकों को मिडिल स्कूल की कक्षा में भी पढ़ाने जाना है, लेकिन चंद शिक्षक ही विद्यार्थियों को पढ़ाने जाते हैं वहीं इनमें से अधिकांश शिक्षक मिडिल की कक्षाओं में पढ़ाने जाने के नाम पर महज औपचारिकताओं का निर्वहन करते नजर आते हैं। यहां कुछ शिक्षक एक पीरियड लेकर यहां-वहां समय पास करते रहते हैं।

दसवीं का परीक्षा परिणाम आया 6 प्रतिशत –

- Advertisement -

तिलक हाई स्कूल में गत वर्ष दसवीं बोर्ड परीक्षा का परिणाम 6 प्रतिशत आया। इससे शिक्षकों की गुणवत्ता का आंकलन स्पष्ट नजर आता है। सभी 9-10 शिक्षकों का प्रति माह का वेतन मिलाया जाए तो लगभग 7 से 8 लाख होता है और वार्षिक वेतन लगभग 1 करोड़। वही इनमें से अधिकांश शिक्षकों के बच्चे निजी स्कूलों व महंगी फीस वाले निजी स्कूलों में पढ़ रहे है। शिक्षा और गुरु-शिष्य के प्रति सरकारी शिक्षक अपने मूल कर्तव्यों के प्रति कितने लापरवाह हैं यह स्कूल के रिजल्ट से देखा जा सकता है।

2-3 पीरियड में भी नहीं है गंभीर – 

तिलक स्कूल में पदस्थ 9 शिक्षकों को हाई स्कूल नौवीं और दसवीं कक्षा के अतिरिक्त माध्यमिक कक्षाएं छठवीं, सातवीं व आठवीं कक्षाओं में अध्ययनरत विद्यार्थियों को भी पढ़ाना है। अगर एक-एक शिक्षक कक्षाएं लगाएं तो प्रतिदिन एक शिक्षक के हिस्से में दो-तीन पीरियड ही आएगा। लेकिन सभी शिक्षक मिलकर भी बच्चों को बेहतर भविष्य के लिए सजग नजर नहीं आ रहे हैं।

औपचारिक रह गई कार्यवाही – 

- Advertisement -

जिन सरकारी स्कूलों का 10वीं, 12वीं में रिजल्ट कम प्रतिशत आया है। उन स्कूलों में पदस्थ शिक्षक शिक्षकों पर कार्यवाही के आदेश जारी हो चुके हैं। इस मामले में भी शिक्षा विभाग से जुड़े अधिकारियों ने जांच की कार्यवाही तो की लेकिन यह भी महज खानापूर्ति ही साबित हो रही है।

इनका कहना है – एक शाला, एक परिसर के अंतर्गत वर्ग-2 के 8 शिक्षक हैं। अन्य शिक्षकों में तीन एलटीडी हैं। कुल 11 शिक्षक हैं यहां दसवीं कक्षा का 6 प्रतिशत रिजल्ट आया था। कारण बताओ नोटिस भी मिला है। मैंने हाल ही में इस स्कूल में प्रभार संभाला है। प्रभार संभालने के साथ ही पढ़ाई को लेकर मैं काफी सजग हूं और कड़े नियम के तहत स्कूल का संचालन किया जा रहा है। पहले की स्थिति जैसी भी रही हो जब से मैंने प्रभार संभाला है काफी कड़ाई बरती जा रहे है। अनीता डेहरिया प्रभारी प्राचार्य, शासकीय तिलक हाई स्कूल सिवनी।

- Advertisement -
Shubham Sharma
Shubham Sharma
Shubham Sharma is an Indian Journalist and Media personality. He is the Director of the Khabar Arena Media & Network Private Limited , an Indian media conglomerate, and founded Khabar Satta News Website in 2017.
RELATED ARTICLES
- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments

WhatsApp Join WhatsApp Group