नरवाई की आग से लाखो रूपये की कृषि यंत्र जलकर ख़ाक

0
42

सिवनी : कृषको द्वारा खेतो की नरवाई को नष्ट करने लगाई आग अन्य कृषको के लिए आफत बन रही है। जलती नरवाई की चिंगारी
उड़ कर दूसरे खेतो में गिरने से आग के जोर पकडऩे से नरवाई के साथ खेतो में रखे लाखो रूपये के कृषि यंत्र स्वाहा कर रही है।जिले
में इन दिनों आगजनी की घटनाऐ थमने का नाम नही ले रही हैं । जहाँ किसान मौसम की मार झेलकर किसी तरह अन्न उपाजते है,परंतु शायद इसे ऊपर वाले की मार कहें या फिर जिले का दुर्भाग्य आगजनी कितने किसानों को अपने आगोश में लेते जा रही है।

बीते दिवस जाम (मुंगवानी) निवासी कृषक दीनदयाल सनोडिया के खेत में लगी नरवाई में आग से समीप खेत के कृषक रामकुमार ठाकुर और कृषक विजेंद्र ठाकुर के खेत में रखे लगभग 850 पाईप,80 फिट रोल पाईप,पानी का पंखा,०२ डीजल पंप सहित 02 क्विंटल गेंहू धू-धू कर जलकर खाक हो गया।इस आग के कारण दोनों कृषको को लगभग 07 लाख का नुकसान हुआ। खेत में आग लगने की सूचना
तत्काल कृषक विजेंद्र ठाकुर द्वारा फायर बिग्रेड और डायल 100 को दी गई।डायल 100 आग लगने के थोड़ी देर बाद मौके पर पहुंच गई, लेकिन फायर बिग्रेड फोन करने के लगभग 05-06 घंटे बाद मौके पर पहुंचा,जिसके बाद आग पर काबू पाया गया।इन दिनों सिवनी में 02 फायर बिग्रेड ही है,जो कि सिवनी की आवाम के हिसाब से कम है।कृषक रामकुमार ठाकुर ने बताया कि नरवाई जलाने के मामले में
प्रशासन की चेतावनी के बावजूद भी कृषक अपने खेतो की नरवाई में आग लगा रहे है, जिससे किसानो द्वारा लगाई गई आग से समीप के खेतो को भारी नुकसान हो रहा है। बीते कुछ दिनों पूर्व कलेक्टर ने आदेश दिया था,कि कोई भी कृषक अगर अपने खेतो में नरवाई जलाता है,तो उस कृषक के ऊपर कार्यवाही होगी। परंतु आये दिन इस प्रकार की आगजनी की घटना होने के बाद भी किसानो द्वारा
नरवाई में आग लगाई जा रही है। कृषक रामकुमार ठाकुर ने कलेक्टर से मांग की है,कि जिस भी कृषक द्वारा अपने खेतो की नरवाई में
आग लगाई जाए उनके ऊपर कड़ी से कड़ी कार्यवाही कर जुर्माना अधिरोपित करे।जिससे किसानो द्वारा नरवाई में आग नहीं लगाई जाए।
इस सम्पूर्ण प्रकरण की कृषक विजेन्द्र ठाकुर और रामकुमार ठाकुर द्वारा लखनवाड़ा थाने में शिकायत दर्ज करा दी गई है।जिस पर लखनवाड़ा पुलिस ने मामले को संज्ञान में लेते हुए जाँच कार्यवाही शुरू कर दी है।

यह भी पढ़े :  Seoni : सिवनी में ओवरटेक करने पर बवाल, एक की मौत

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.