सिवनी में डॉक्टर ने ठगी के पैसो से बनाया बारात घर

0
377

सिवनी : ओमती क्षेत्र में रेत गिट्टी सप्लायर को 15 करोड़ की संपत्ति दिखाकर 25 करोड़ एनजीओ से दिलाने का झांसा देकर 07 लाख रुपए की ठगी करने वाले 09 आरोपितों को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। इसका मास्टर मांइड होम्योपैथी डॉक्टर ने ठगी कर लिए रुपए अपने सिवनी स्थित बारात घर बनाने में लगा दिए।

आरोपियों में एक उत्तर प्रदेश का सेवानिवृत पुलिस अधिकारी भी है। शेष आरोपी आगरा, कानपुर, गुजरात, असम के हैं। यह जानकारी एएसपी शहर राजेश त्रिपाठी ने गत दिवस कंट्रोल रुम में दी। मदनमहल गुरुद्वारे के पीछे रहने वाले तनवीर सिंह सलूजा (27) रेत-गिट्टी सप्लाई का काम करता है। गुरुवार को उसने शिकायत दर्ज कराई थी कि 20 सितंबर को उसका परिचय अधारताल धनी की कुटिया निवासी होम्योपैथी के डॉ. एचएन ठाकुर से हुआ था।

उसने बताया कि वह एनजीओ को विदेश से फंड दिलाता है। उसने कहा कि अगर वे उन्हें 15 करोड़ की संपत्ति दिखाएंगे तो उनको एनजीओ से 25 करोड़ रुपए दिला देंगे। जिसके झांसे में आकर तनवीर ने एक ट्रस्ट की फाइल मंगवाई और एचएन ठाकुर से बातचीत की। जिसके बाद उसने कंपनी के सदस्यों को बुलाने के लिए 05 लाख रुपए मांगे। साथ ही कहा कि सदस्यों के आने के बाद 02 लाख रुपए और देने होंगे।

यह भी पढ़े :  रेत खनिज की ई-निविदा के संबंध में वीडियो कॉन्फ्रेसिंग 20 नवंबर को

तनवीर ने झांसे में आकर 25 सितंबर को डॉक्टर के घर जाकर उसे 05 लाख रुपए दे दिए। 08 अक्टूबर को डॉ ठाकुर ने फोन करके तनवीर को सूचना दी कि एनजीओ के सदस्य स्वयं होटल में रुके हैं। वहां तनवीर पहुंचे तो डॉक्टर अपने साथ उसे होटल के कमरे में ले गया, जहां उसने कंपनी का सदस्य बताकर रणजीत सिंह तोमर, राजीव देव और अर्जेन्द्र सिंह राठौर से कंपनी के सदस्य बताकर मिलवाया और फिर दो लाख रुपए मांगे।

उसकी बातों में आकर तनवीर ने दो लाख रूपए उसे दे दिए। कंपनी के सदस्यों ने तनवीर से कहा कि कश्यप इलेक्ट्रानिक के नाम पर 10 लाख रुपए की डीडी बना कर देना होगी। तनवीर ने जब राजीव देव से उसका आधार कार्ड की कॉपी मांगी, तो उसने इंकार कर दिया। शंका होने पर तनवीर ने कुछ समय मांगा और नेट पर कंपनी के नाम से सर्च किया, तो उसमें ऐसी कोई कंपनी के बारे में नहीं पता चला।

तनवीर अपने साथी अशोक मिश्रा को लेकर होटल पहुंचा और राजीव देव से मिलवाया। अशोक ने जब राजीव देव से रुपए ट्रांसफर के बारे में पूछा, तो उसने 15 करोड़ की संपत्ति बताकर 25 करोड़ रुपए देने की बात कही। इसके बाद राजीव से उसके कंपनी के सदस्यों के बारे में पूछा, तो उसने बताया कि उसकी कंपनी में उसके साथी रणजीत सिंह तोमर, विपिन कुमार, उमेश कुमार वर्मा, अर्जेन्द्र सिंह, प्रताप नारायण गर्ग, आशीष कुमार, बसीरा इब्राहिम हैं। राजीव के अन्य साथी स्वयं होटल के कमरा नंबर 303 और 309 में रुके हुए थे। जिनसे राजीव ने मिलवाया। शंका होने पर तनवीर ने मामले की शिकायत ओमती थाने में की। सूचना पर ओमती सीएसपी शशिकांत शुक्ला, टीआई एसपी सिंह बघेल के नेतृत्व में टीम ने दबिश देकर आरोपियों को गिरफ्तार किया। आरोपियों के पास से 01 लाख रुपए जब्त किए गए हैं।

यह भी पढ़े :  सिवनी में 36 नहीं, 24 वार्ड ही रहेंगे !

डॉक्टर का सिवनी में है बारातघर :
आरोपी डॉ. एचएन ठाकुर ने बताया कि उसकी सिवनी में पैतृक जमीन है। जिसमें वह बारात घर बनवा रहा है। ठगी के 05 लाख रुपए उसने बारात घर में लगा दिए। वहीं जब डॉक्टर के बारे में उसके अधारताल स्थित मकान के पास पुलिस ने पतासाजी की, तो जानकारी मिली कि आरोपी डॉक्टर और भी कोई संदिग्ध काम करता है। जिससे उसके घर में लोगों की भीड़ लगी रहती है। आरोपी से पूछताछ के बाद पूरा मामला स्पष्ट हो पाएगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.