हिंदी में परीक्षा देकर भी बन सकते हैं डॉक्टर

इंदौर -मध्यप्रदेश में चिकित्सा पाठ्यक्रमों की परीक्षाओं के दौरान करीब 40,000 विद्यार्थियों के लिये भाषा अब कोई बाधा नहीं रह गयी है।सूबे में हिन्दी में पर्चा देकर भी एमबीबीएस और अन्य पाठ्यक्रमों की प्रतिष्ठित डिग्री हासिल की जा सकती है।यह बात मध्यप्रदेश आयुर्विज्ञान विश्वविधालय के इसी साल से लागू अहम फैसले से मुमकिन हो सकी है।फैसले के बाद हिन्दी पट्टी के इस प्रमुख राज्य में एमबीबीएस के अलावा नर्सिंग, डेंटल, यूनानी, योग, नेचुरोपैथी और अन्य चिकित्सा संकायों के पाठ्यक्रमों की परीक्षाएं हिन्दी में दिये जाने का सिलसिला शुरू हुआ है।

महाविद्यालयों के इतिहास में ऐसा पहली बार हुआ

- Advertisement -

जबलपुर स्थित विश्वविद्यालय के कुलपति डॉ. रविशंकर शर्मा ने गुरुवार को बताया कि परीक्षाओं के दौरान हमारे लिये यह जांचना जरूरी होता है कि किसी विद्यार्थी को संबंधित विषय का ज्ञान है या नहीं। इस सिलसिले में भाषा की कोई बाधा नहीं होनी चाहिये. यही सोचकर हमने अपने सभी पाठ्यक्रमों की परीक्षाओं में अंग्रेजी के विकल्प के रूप में हिन्दी या अंग्रेजी मिश्रित हिन्दी के इस्तेमाल को अनुमति देने का फैसला किया है. उन्होंने बताया कि इस साल सूबे के 10 चिकित्सा महाविद्यालयों के इतिहास में ऐसा पहली बार हुआ, जब एमबीबीएस पाठ्यक्रम के विद्यार्थियों को हिन्दी या अंग्रेजी मिश्रित हिन्दी में परीक्षा देने की आजादी मिली। इस बार एमबीबीएस प्रथम वर्ष पाठ्यक्रम के कुल 1,228 में से 380 विद्यार्थियों यानी लगभग 31 प्रतिशत उम्मीदारो ने हिन्दी या अंग्रजी मिश्रित हिन्दी में परीक्षा दी है।

*हिन्दी की स्तरीय पुस्तकों का अभाव*

- Advertisement -

शर्मा ने कहा कि इस परीक्षा का नतीजा एकाध महीने में घोषित होने की उम्मीद है. हमें भरोसा है कि यह परिणाम गुजरे वर्षों की तुलना में बेहतर होगा क्योंकि इस बार परीक्षार्थियों को हिन्दी या अंग्रेजी मिश्रित हिन्दी में पर्चा देने का मददगार विकल्प भी मिला है।

उन्होंने यह भी बताया कि मध्यप्रदेश आयुर्विज्ञान विश्वविद्यालय के सभी पाठ्यक्रमों के करीब 40,000 विद्यार्थी केवल सैद्धांतिक परीक्षा ही नहीं, बल्कि प्रायोगिक और मौखिक परीक्षा (वाइवा) में भी हिन्दी या अंग्रेजी मिश्रित हिन्दी का इस्तेमाल कर सकते हैं। बहरहाल, चिकित्सा पाठ्यक्रमों में हिन्दी में पढ़ाई की डगर विद्यार्थियों के लिये उतनी आसान भी नहीं है. खासकर एमबीबीएस पाठ्यक्रम के लिये हिन्दी की स्तरीय पुस्तकों का गंभीर अभाव है।

- Advertisement -

अंग्रेजी से हिन्दी में अनुवाद में होता है अनर्थ

इंदौर के शासकीय महात्मा गांधी स्मृति चिकित्सा महाविद्यालय के सह-प्राध्यापक (एसोसिएट प्रोफेसर) डॉ. मनोहर भंडारी ने इस बात की पुष्टि की और कहा कि चिकित्सा पाठ्यक्रमों के विद्यार्थियों के लिये हिन्दी की अच्छी किताबें बेहद जरूरी हैं. वर्ष 1992 में हिन्दी में शोध प्रबंध (थीसिस) लिखकर एमडी (फिजियोलॉजी) की उपाधि प्राप्त करने वाले विद्वान ने कहा कि चिकित्सा पाठ्यक्रमों के लिये हिन्दी की कुछ किताबें तो ऐसी हैं जिन्हें पढ़कर सिर पीट लेने का मन करता है।खासकर तकनीकी शब्दों के अंग्रेजी से हिन्दी में अनुवाद के समय इन पुस्तकों में अर्थ का अनर्थ कर दिया गया है।

- Advertisement -

Discount Code : ks10

NEWS, JOBS, OFFERS यहां सर्च करें

Leave a Reply

सोशल प्लेटफॉर्म्स में हमसे जुड़े

10,745FansLike
7,044FollowersFollow
567FollowersFollow
4,050SubscribersSubscribe

More Articles Like This

- Advertisement -

Latest News

KKR vs MI : हिटमैन रोहित शर्मा का ‘हिट शो’, बना डाले कई रिकॉर्ड IPL 2020

दुबई: आईपीएल (IPL 2020) के पांचवे मुकाबले में मुंबई इंडियंस (MI) और कोलकाता नाइट राइडर्स (KKR) के बीच...

सिवनी कोरोना न्यूज़: आज 26 कोरोना के मरीज मिलें, अब 251 एक्टिव केस

सिवनी: सिवनी कोरोना न्यूज़: आज 26 कोरोना के मरीज मिलें, अब 251 एक्टिव केस - सिवनी मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ...

Big Breaking: दीपिका पादुकोण, श्रद्धा कपूर, सारा अली खान समेत इन अभिनेत्रियों को NCB ने भेजा समन

मुंबई: ड्रग्स केस में अभिनेत्री दीपिका पादुकोण, श्रद्धा कपूर, सारा अली खान, रकुल प्रीत सिंह और सिमोन खंबाटा समेत सात लोगों को NCB ने पूछताछ के...

#BoycottTIME: TIME की बिक्री बढ़ाने PM मोदी की बदनामी?

नई दिल्ली: TIME मैगजीन में दुनिया के 100 प्रभावशाली लोगों में पीएम नरेंद्र मोदी के साथ शाहीन बाग की बिलकिस बानो को भी...

CM Yogi की अतीक अहमद पर कड़ी कार्रवाई, 20 करोड़ का बंगला ध्वस्त

लखनऊ: बाहुबली नेताओं, भूमाफियाओं और जनता के पैसे को लूटने वालों पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (CM Yogi Adityanath) की सरकार बहुत सख्त है. अतीक...
x