Friday, May 27, 2022
Homeसिवनीराजपूतों के बाद अब मुस्लिमों की भावनाएं भी 'पद्मावत' से आहत, मलेशिया...

राजपूतों के बाद अब मुस्लिमों की भावनाएं भी ‘पद्मावत’ से आहत, मलेशिया के सेंसर बोर्ड ने रिलीज पर लगाई रोक

- Advertisement -
फिल्म ‘पद्मावत’ में घूमर नृत्य के दौरान अभिनेत्री दीपिका पादुकोण. (फाइल फोटो)

कुआलालंपुर: भारत में काफी जद्दोजहद के बाद रिलीज हुई विवादित फिल्म ‘पद्मावत’ को अब ‘इस्लाम की संवेदनशीलताओं’ की चिंताओं के मद्देनजर मलेशिया के सिनेमाघरों में प्रदर्शित होने से रोक दिया गया है. मलेशिया के नेशनल फिल्म सेंसरसिप बोर्ड (एलपीएफ) ने फिल्मकार संजय लीला भंसाली की फिल्म ‘पद्मावत’ की देश में रिलीज पर रोक लगा दी है. वेबसाइट ‘वेराइटी डॉट कॉम’ की रिपोर्ट के मुताबिक, एलपीएफ के अध्यक्ष मोहम्मद जामबेरी अब्दुल अजीज ने एक बयान में कहा कि फिल्म की कहानी अपने आप में चिंता का एक बड़ा विषय है क्योंकि ‘मलेशिया एक मुस्लिम बहुल मुल्क है.’

जायसी की रचना ‘पद्मावत’ पर आधारित है फिल्म
अजीज ने कहा, “फिल्म की कहानी इस्लाम की संवेदनशीलता को छूती है. यह अपने आप में मलेशिया, एक मुस्लिम बहुल मुल्क, में एक बड़ी चिंता का विषय है.” 16वीं सदी के कवि मलिक मुहम्मद जायसी की रचना ‘पद्मावत’ पर आधारित इस फिल्म का देश में राजपूत संगठन राजपूत करणी सेना ने ऐतिहासिक तथ्यों से खिलवाड़ करने का आरोप लगाते हुए काफी विरोध किया था. काफी मशक्कत के बाद फिल्म 25 जनवरी को रिलीज हो पाई.

- Advertisement -

अलाउद्दीन खिलजी को राक्षस जैसा दिखाने पर फिल्म की आलोचना
रिलीज के बाद फिल्म को मिलीजुली प्रतिक्रिया मिल रही है. कुछ वर्गों द्वारा जौहर का महिमामंडन करने और अलाउद्दीन खिलजी को राक्षस जैसा क्रूर व्यवहार करते दिखाए जाने पर फिल्म की आलोचना की गई है. एलपीएफ के फैसले को लेकर मलेशिया के वितरकों द्वारा मंगलवार (30 जनवरी) को अलग से गठित फिल्म अपील समिति में अपील किए जाने की उम्मीद है. फिल्म ‘पद्मावत’ में दीपिका पादुकोण, शाहिद कपूर और रणवीर सिंह मुख्य भूमिका में हैं.

यह भी पढ़े :  सिवनी के युवा इंजीनियर सौरव अग्रवाल का जबलपुर नर्मदा नदी में मिला शव
- Advertisement -
Shubham Sharma
Shubham Sharma
Shubham Sharma is an Indian Journalist and Media personality. He is the Director of the Khabar Arena Media & Network Private Limited , an Indian media conglomerate, and founded Khabar Satta News Website in 2017.
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular