Homeधर्मरोगों से चाहते हैं छुटकारा तो करें नित्य सूर्यदेव की करें उपासना,...

रोगों से चाहते हैं छुटकारा तो करें नित्य सूर्यदेव की करें उपासना, हर रोग हो जाएगा दूर

- Advertisement -

डेस्क।वैदिक काल से ही सूर्यदेव की उपासना की जाती है। सूर्यदेव की पूजा साक्षात रूप में की जाती है। पहले सूर्यदेव की उपासना मंत्रों से की जाती थी। बाद में मूर्ति पूजा का प्रचलन हुआ। सूर्यदेव की ऊर्जा से ही पृथ्वी पर जीवन है। उनकी कृपा से हर रोग से मुक्ति पाई जा सकती है। रविवार का दिन सूर्यदेव को समर्पित है।


वास्तु में सूर्यदेव की उपासना को लेकर कुछ आसान से उपाय बताए गए हैं, जिन्हें अपनाकर हम भगवान सूर्यदेव की कृपा प्राप्त कर सकते हैं।

- Advertisement -

कहा जाता है कि अगर पूरे हफ्ते सूर्यदेव को जल अर्पित न कर सकें तो रविवार को सूर्यदेव को जल अवश्य अर्पित करें।
तांबे के लोटे में लाल फूल डालकर सूर्यदेव को जल अर्पित करें। जल अर्पित करते समय सूर्य मंत्र का जाप करें।


1)रविवार के दिन घर के सभी सदस्यों को माथे पर चंदन का तिलक लगाना चाहिए।
2)प्रत्येक रविवार सूर्यदेव का व्रत करने से कार्यक्षेत्र में उच्च पद की प्राप्ति होती है।
3)रविवार को व्रत करने से नेत्र व चर्म रोग से मुक्ति मिलती है।
4)रविवार के दिन आदित्य ह्रदय स्त्रोत का पाठ अवश्य करें।
5)रविवार के दिन तेल से बने खाद्य पदार्थ किसी जरूरतमंद को खिलाएं। बड़े-बुजुर्गों की सेवा करें और उनका आशीर्वाद प्राप्त करें।
6)रविवार को तांबे का बर्तन, पीले या लाल वस्त्र, गेहूं, गुड़, लाल चंदन आदि का दान करें।
7)रविवार सुबह घर से निकलने से पहले गाय को रोटी दें।
8)रविवार के दिन एक पात्र में जल लेकर बरगद के वृक्ष पर चढ़ाएं।
9)रविवार की रात अपने सिरहाने दूध का गिलास रखकर सोएं और सुबह इस दूध को बबूल के पेड़ की जड़ में डाल दें।
10)रविवार को पीपल के पेड़ के नीचे दीपक जलाने से पद-प्रतिष्ठा में वृद्धि होती है।
11)रविवार को काली गाय को रोटी और काली चिडिय़ा को दाना डालें।
12)मछलियों को आटे की गोली बनाकर खिलानी चाहिए। रविवार के दिन पैसों से संबंधित कोई भी कार्य नहीं करना चाहिए।

यह भी पढ़े :  इस दिन है गंगा दशहरा, जानिए महत्व, तिथि और पूजा विधि
- Advertisement -


सूर्य को जल अर्पित करें

यह भी पढ़े :  जानें निर्जला एकादशी के व्रत के नियम,महत्व एंव पूजा विधि।

हमारे शास्त्र कहते हैं कि अगर आपके शरीर में कोई कष्ट है, कोई बीमारी है, या आप शारीरिक रूप से कमजोर हैं, तो आपको सुबह स्नान करने के बाद भगवान सूर्य की आराधना करनी चाहिए, और उन्हें जल अर्पित करना चाहिए।

- Advertisement -

इससे आपके शरीर की दुर्बलता, रुग्णता समाप्त होती है, और आपके चेहरे पर तेज आता है। वहीं अगर आप वैज्ञानिक रूप से भी इसको देखें, तो आप पाएंगे कि स्नान के बाद सुबह की गुनगुनी धूप में अगर आप थोड़ी देर तक खड़े हों, तो सूर्य की रोशनी से प्राप्त होने वाली विटामिन डी आपके के शरीर की हड्डियों के लिए बेहद लाभकारी होता है।

Also read- https://khabarsatta.com/bollywood/birthday-special-before-coming-to-films-mika-singh-used-to-do-kirtan-this-is-how-he-achieved/

- Advertisement -
spot_img
spot_img
- Advertisment -