Sunday, September 25, 2022
Homeमध्य प्रदेशमरीजों के लिए दूर किए राजनीतिक मतभेद, कलेक्टर ने संभाला मोर्चा

मरीजों के लिए दूर किए राजनीतिक मतभेद, कलेक्टर ने संभाला मोर्चा

सिटी सेंटर स्थित परिधि हॉस्पिटल (Paridhi Hospital) के मरीजों के परिजनों के दिल उस समय धड़क उठे जब उन्हें पता चला कि अस्पताल में कुछ ही समय के लिए ऑक्सीजन शेष बची है।

- Advertisement -

ग्वालियर: ग्वालियर (Gwalior) में देर शाम आई ऑक्सीजन (Oxygen) की कमी के कारण मरीजों की जान पर बन आई है। ऐसे में ग्वालियर में वहाँ के राजनीतिक दलों के प्रमुख नेताओं ने मोर्चा संभाला और आगे बढ़कर इस समस्या को सुलझाने की कोशिश की है। इसके साथ खुद कलेक्टर (Collector) पूरी ताकत के साथ इन अस्पतालों (Hospitals) में ऑक्सीजन (Oxygen) पहुंचाने की कोशिश कर रहे हैं।

ग्वालियर के सिटी सेंटर स्थित परिधि हॉस्पिटल (Paridhi Hospital) में मरीजों के परिजनों के दिल उस समय तेज धड़क उठे जब उन्हें पता चला कि अस्पताल में कुछ ही समय के लिए ऑक्सीजन शेष बची है। अस्पताल में अधिक संख्या में ऐसे मरीज भर्ती थे जो ऑक्सीजन के सहारे थे।

- Advertisement -

इसकी सूचना मिलते ही ग्वालियर की दक्षिण विधानसभा से कांग्रेस के विधायक प्रवीण पाठक (MLA Praveen Pathak) सबसे पहले मौके पर पहुंचे और उन्होंने प्रशासनिक अधिकारियों को इस समस्या से रूबरू कराया। इसके बाद ग्वालियर जिले के कोविड प्रभारी मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर पहुंचे (Pradyuman Singh Tomar), फिर पूर्व विधायक मुन्ना लाल गोयल (Ex MLA Munna lal Goyal) और फिर ग्वालियर पूर्व विधानसभा के कांग्रेस विधायक सतीश सिंह सिकरवार MLA Satish Singh Sikarwar) ।

एक के बाद एक करके सभी ने प्रशासनिक अधिकारियों से समन्वय स्थापित किया और ऑक्सीजन (Oxygen) लाने की व्यवस्था के लिए जुट गए। लेकिन थोड़ी देर बाद ही खबर आई कि सुविधा अस्पताल (Suvidha Hospital), माहेश्वरी अस्पताल (Maheshwari Hospital) और सराफ अस्पताल (Saraf Hospital) में भी ऑक्सीजन (Oxygen) की कमी हो रही है।

- Advertisement -

इसके बाद कलेक्टर कौशलेन्द्र विक्रम सिंह (Collector Kaushalnedra Vikram Singh) ने खुद मोर्चा संभाला और वे ऑक्सीजन रिफिलिंग सेंटर पर जाकर खुद बैठ गए और वहां जाकर लगातार इस बात को देख रहे हैं कि किस तरह से मरीजों को जल्द से जल्द ऑक्सीजन की पूर्ति की जा सके। प्रशासन की पूरी कोशिश इस बात की है कि किसी भी तरह की कोई अप्रिय घटना ना हो सके और शुक्रवार शनिवार की रात मरीजों की जान पर कहीं भारी ना पड़ जाए।

- Advertisement -
RELATED ARTICLES
- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments

WhatsApp Join WhatsApp Group