MP के कार्तिकेय ने बिना कोचिंग के क्लियर की UPSC, पहले ही प्रयास में 22 की उम्र में हासिल की 35वीं रैंक

MP's Karthikeya cleared UPSC without coaching, got 35th rank in first attempt at the age of 22

Must read

Shubham Sharma
Shubham Sharma
Shubham Sharma is an Indian Journalist and Media personality. He is the Director of the Khabar Arena Media & Network Private Limited , an Indian media conglomerate, and founded Khabar Satta News Website in 2017.
- Advertisement -

यूपीएससी के द्वारा 2 दिन पहले परीक्षा के परिणाम घोषित किए गए जिसमें मध्य प्रदेश में कई युवाओं ने सफलता हासिल की है।

इसमें खंडवा जिले के कार्तिकेय ने देशभर में 35वीं रैंक हासिल कर अपने जिले और परिवार का नाम रोशन किया है। खास बात यह है कि कार्तिकेय ने पहली ही बार में इस परीक्षा को पास कर लिया है।

- Advertisement -

जबकि उनकी उम्र महज 22 साल है। ऐसे में अब उनकी काफी तारीफें हो रही है। एक और बात बता दें कि कार्तिकेय के परिवार में कोई भी प्रशासनिक अधिकारी नहीं है। ऐसे में बिना कोचिंग के अपनी मेहनत से इस मुकाम को हासिल किया है।

10 परीक्षा में ही देख लिया था ये सपना

यूपीएससी एग्जाम में देश में तीन बेटियों ने टॉप किया है। वहीं देशभर में कई युवाओं ने सफलता हासिल की है। इसमें मध्य प्रदेश के खंडवा जिले का रहने वाला कार्तिकेय ने भी यूपीएससी परीक्षा में सफलता हासिल की है।

- Advertisement -

वहां पिछले चार दशकों में यूपी परीक्षा में चयनित होने वाले पहले युवा हैं। एक सामान्य मध्यमवर्गीय परिवार के कार्तिकेय ने कक्षा दसवीं में ही यूपीएससी का सपना देखा था और उसी सपने को साकार करने के लिए काफी मेहनत की और इस विकल्प को चुना और आज अपने इस सपने को साकार किया है।

लॉकडाउन में कार्तिकेय ने की घर में पढ़ाई

अगर इंसान में किसी काम को करने की काबिलियत हो तो उसे कामयाबी जरूर मिलती है। ऐसे में अब कार्तिकेय को यूपीएससी एक्जाम में बड़ी सफलता मिली है। कार्तिकेय ने खंडवा के सेंट पायस स्कूल से दसवीं की परीक्षा दी थी।

- Advertisement -

वहीं दिल्ली के सेंट स्टीफन कॉलेज में साइंस से ग्रेजुएशन किया ।इसके बाद लॉकडाउन में अपने घर आ गए और यहां पर उन्होंने यूपीएससी परीक्षा की तैयारी की ।

इसके साथ ही उन्होंने इंटरनेट से जुड़ कर बाहरी दुनिया को भी जोड़े रखा। ऐसे में कई इंटरव्यू उन्होंने देखें इसके बाद उन्हें अब इस तरह की सफलता मिली है।

कार्तिकेय को सबसे अधिक लाभ लॉकडाउन के दौरान मिला। उन्होंने जब सारे स्कूल कॉलेज और कोचिंग संस्थान बंद हो गए थे। इस दौरान उन्होंने खुद को यूपीएससी परीक्षा में पास होने के लिए और एक नया आयाम लिखने के लिए काफी मेहनत की।

इसके बाद अब उन्होंने सफलता हासिल कर ली है। इस दौरान उन्होंने कई सारे इंटरव्यू भी देखें और इससे उन्हें काफी कुछ सीखने को मिला। ऐसी रणनीति बनाई कि पहले ही प्रयास में उन्होंने अब आसमान को छू लिया है।

- Advertisement -

Latest article