khabar-satta-app
Home बड़ी खबर MP Floor Test : कमलनाथ सरकार को राज्यपाल चेतावनी, 17 मार्च को फ्लोर टेस्ट कराएं अन्यथा बहुमत नहीं #MPFloorTest

MP Floor Test : कमलनाथ सरकार को राज्यपाल चेतावनी, 17 मार्च को फ्लोर टेस्ट कराएं अन्यथा बहुमत नहीं #MPFloorTest

राज्यपाल की तरफ से एक पत्र जारी किया गया है। जिसमें कहा गया है कि दी गयी तारीख 17 मार्च को अगर कमलनाथ सरकार बहुमत साबित नहीं करेगी तो उसे अल्पतम में माना जाएगा। राज्यपाल ने इस बात पर नाराजगी जताई है कि उनके कहने के बावजूद आज फ्लोर टेस्ट क्यों नहीं कराया गया

नई दिल्ली। मध्यप्रदेश में इस वक्त सियासी हलचल बहुत तेज है। कोरोनावायरस के प्रभाव के चलते सोमवार को फ्लोर टेस्ट नहीं हो सका। भाजपा और कांग्रेस को मध्यप्रदेश विधानसभा में राज्यपाल के सामने बहुमत साबित करने के लिए 16 तारीख निर्धारित की गयी थी मगर प्रदेश में फैले कोरोनावायरस के चलते फ्लोर टेस्ट नहीं हो सका। लेकिन अब भी राज्य में सियासी नाटक लगातार जारी है। अब राज्यपाल ने 17 मार्च को सीएम कमलनाथ को बहुमत साबित करने को कहा है।

- Advertisement -

इस बाबत राज्यपाल की तरफ से एक पत्र जारी किया गया है। जिसमें कहा गया है कि दी गयी तारीख 17 मार्च को अगर कमलनाथ सरकार बहुमत साबित नहीं करेगी तो उसे अल्पतम में माना जाएगा। राज्यपाल ने इस बात पर नाराजगी जताई है कि उनके कहने के बावजूद आज फ्लोर टेस्ट क्यों नहीं कराया गया?

राज्यपाल के मुताबिक स्पीकर की ओर से जिन बातों को आधार बनाया गया है, वह सारी बातें आधारहीन हैं। इससे पहले सरकार ने संकट से बचने के लिए विधानसभा अध्यक्ष को ढाल बना लिया था और राज्यपाल के फ्लोर टेस्ट के निर्देश को नजरअंदाज कर दिया था।

- Advertisement -

स्पीकर की ओर से सदन को 26 मार्च तक के लिए स्थगित कर दिया गया। यह सब कोरोना वायरस के नाम पर किया गया। हकीकत में समीकरण कमलनाथ सरकार के खिलाफ हैं। मध्यप्रदेश में कांग्रेस के पास 114 विधायक थे जबकि बीजेपी के पास 107 विधायक थे। बीएसपी के दो सपा के एक  व चार निर्दलीय कांग्रेस के साथ थे। 2 सीटें सदस्यों करने के निधन के चलते खाली हैं मगर नए समीकरणों में ज्योतिरादित्य सिंधिया की बगावत के बाद 22 कांग्रेसी विधायक इस्तीफा दे चुके हैं।

इनमें 6 बागी कांग्रेस विधायकों का इस्तीफा मंजूर कर लिया गया है। इस तरह कांग्रेस के विधायकों का आंकड़ा 108 पहुंचता है, जिनमें से अभी भी 16 विधायक बागी हैं। ऐसे में इन 16 विधायकों का इस्तीफा मंजूर कर लिया जाता है तो कांग्रेस विधायकों का 92 का आंकड़ा है। यही आंकड़ा कमलनाथ सरकार की चिंता का सबब बना हुआ है। कमलनाथ सरकार का गिरना तय है। हालांकि कमलनाथ सरकार खुद को बचाए रखने के लिए अपने बागी विधायकों को मनाने में जुटी है।

- Advertisement -

Discount Code : ks10

NEWS, JOBS, OFFERS यहां सर्च करें

Shubham Sharmahttps://khabarsatta.com
Editor In Chief : Shubham Sharma

Leave a Reply

सोशल प्लेटफॉर्म्स में हमसे जुड़े

11,007FansLike
7,044FollowersFollow
780FollowersFollow
4,050SubscribersSubscribe

More Articles Like This

- Advertisement -

Latest News

भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान कपिल देव को पड़ा दिल का दौरा,शाहरुख और रणवीर सहित इन स्टार्स ने मांगी दुआ

मुंबई: दिग्गज भारतीय क्रिकेटर कपिल देव को वीरवार देर रात दिल का दौरा पड़ा। इसके बाद कपिल देव की...

गुजरात को आज मिलेगा सबसे बड़े रोप-वे का तोहफा, पीएम मोदी आज करेंगे तीन परियोजनाओं का उद्घाटन

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज वीडियो कांफ्रेंस के माध्यम से अपने गृह राज्य गुजरात में तीन परियोजनाओं का उद्घाटन करेंगे। वह गुजरात के किसानों के...

अब गाली गलौज पर उतरी इमरती देवी, पूर्व सीएम कमलनाथ को बताया लुच्चा-लफंगा और शराबी

डबरा: पूर्व सीएम कमलनाथ और इमरती देवी में आइटम को लेकर छिड़ी बहस बाजी अब गाली गलौज में बदल गई है। मध्य प्रदेश में जारी...

योगी सरकार के मंत्री बोले- किसानों को ऋण वितरण में बर्दाश्त नहीं कोताही

लखनऊः उत्तर प्रदेश के सहकारिता मंत्री मुकुट बिहारी वर्मा ने कहा कि किसानों को अल्पकालीन ऋण वितरण किये जाने में किसी प्रकार की ढिलाई बर्दाश्त...

सिद्धू को लेकर कैप्टन के तेवर पड़े नरम

चंडीगढ़: लंबे समय से कांग्रेस में ही वनवास झेल रहे पूर्व कैबिनेट मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू और मुख्यमंत्री कै. अमरेंद्र सिंह के रिश्तों में...