HOME

WhatsApp

Google News

Shorts

Facebook

Home » मध्य प्रदेश » स्टूडेंट के भविष्य के साथ खिलवाड़ कर रही DAVV Indore, तकनीकी समस्या की वजह से 17 हजार छात्र नहीं भर पाए Exam Form

स्टूडेंट के भविष्य के साथ खिलवाड़ कर रही DAVV Indore, तकनीकी समस्या की वजह से 17 हजार छात्र नहीं भर पाए Exam Form

By Anshul Sahu

Published on:

Follow Us
Davv-Indore

Join WhatsApp

Join Now

Join Telegram

Join Now

स्टूडेंट के भविष्य के साथ खिलवाड़ कर रही DAVV Indore, तकनीकी समस्या की वजह से 17 हजार छात्र नहीं भर पाए Exam Form देवी अहिल्या विश्वविद्यालय (DAVV) के बीकॉम, बीए, बीबीए, बीएससी और अन्य यूजी कोर्स की सेकंड ईयर की परीक्षा के फॉर्म जमा करने में एक तकनीकी समस्या हुई है।

इसके परिणामस्वरूप, तारीख को बढ़ाने के बावजूद यह समस्या हल नहीं हुई है। इसके कारण, 17 हजार से अधिक छात्र परीक्षा फॉर्म भरने में समर्थ नहीं हुए, जबकि अंतिम तारीख शुक्रवार थी।

वास्तव में, पिछले साल सेकंड ईयर में अनुत्तीर्ण हुए 14 हजार से अधिक छात्रों को जुलाई से शुरू हुए सत्र में नई शिक्षा नीति के तहत छात्र के साथ शामिल किया गया था। इसके लिए दिशा-निर्देश तय किए गए थे। इस प्रकार, इन छात्रों को सेकंड ईयर के परीक्षा फॉर्म जमा करने में कठिनाईयाँ आ रही हैं।

यूनिवर्सिटी बदलने वाले और पिछले साल प्राइवेट परीक्षा देकर जुलाई से नियमित छात्र के ताैर पर सेकंड ईयर में प्रवेश लेने वाले छात्र भी परीक्षा फॉर्म नहीं भर पा रहे। यही नहीं, इन छात्रों के साथ ही, एक कॉलेज से दूसरे कॉलेज में स्थानांतरित होने वाले 2,500 से अधिक छात्र भी ऑनलाइन फॉर्म जमा नहीं कर पा रहे हैं।

यूनिवर्सिटी में हड़ताल के कारण, वहां किसी भी व्यक्ति को यह पता नहीं चल रहा है, हालांकि कॉलेजों के पास कोई उत्तर नहीं है। इस मामले में यूनिवर्सिटी को तकनीकी समस्या को दूर करके नई शिक्षा नीति के छात्रों को मौका देने की जरूरत है, लेकिन इससे पहले आवश्यक प्रक्रियाओं को पूरा करना होगा, जिसे यूनिवर्सिटी अभी तक करने में सक्षम नहीं हुई है। छात्र कल्याण संकाय के डीन डॉ. एलके त्रिपाठी का कहना है कि तकनीकी समस्या दो दिनों में हल हो जाएगी।

पहले भी ऐसी समस्या आई थी, लेकिन समाधान नहीं किया गया – इससे पहले भी यूनिवर्सिटी ने परेशानी का सामना किया है। 25 मई निर्धारित अंतिम तिथि थी, जिसे 2 जून तक बढ़ा दिया गया है, लेकिन अब तक छात्रों की तकनीकी समस्या का समाधान नहीं किया गया है। इस अवधि के बाद, छात्रों को 100 रुपये की देरी शुल्क के साथ फॉर्म भरने की अनुमति होगी। इसके बाद, 750 रुपये के देरी शुल्क के साथ फॉर्म जमा होंगे।

छात्रों को निम्नलिखित समस्याएं हो रही हैं, जिनका हल नहीं मिल रहा है:

  1. जिन छात्रों ने पुरानी शिक्षा नीति में अध्ययन किया था और 2022 में फेल हो गए थे, उन्हें जुलाई 2022 में नई नीति में शामिल किया गया था, लेकिन जब परीक्षा के समय आया तो उनके फॉर्म में त्रुटि आ रही है।
  2. ट्रांसफर छात्र, पूर्व छात्र और गैप वाले छात्रों के फॉर्म खुलने में समस्या आ रही है।ट्रांसफर छात्र, पूर्व छात्र और गैप वाले छात्रों के फॉर्म खुलने में समस्या आ रही है।
  3. प्राइवेट छात्रों ने वोकेशनल और ओपन-इलेक्टिव विषयों में बदलाव किया है, लेकिन उनके फॉर्म में वह बदलाव नहीं हो रहा है।
  4. ट्रांसफर छात्र, पूर्व छात्र और गैप वाले छात्रों के फॉर्म खुलने में समस्या आ रही है।

Leave a Comment