Sunday, April 11, 2021

मुरैना: आखिर 24 मौतों का जिम्मेदार कौन? जहरीली शराब ने किसी का भाई, पति और किसी का छीना पिता- MP NEWS

Must read

Khabar Satta Deskhttps://khabarsatta.com
खबर सत्ता डेस्क, कार्यालय संवाददाता
- Advertisement -

मुरैना: मध्य प्रदेश के मुरैना जिले में जहरीली शराब पीने से मरने वालों का संख्या बढ़कर 24 हो गई है। बुधवार रात में छैरा गांव में तीन और मौतें हो गई। लगातार बढ़ रहे मौतों के आंकड़े ने मुरैना जिले को हिला कर रख दिया है। बड़ा सवाल यह है कि आखिर इस घटना के लिए कौन जिम्मेदार है। वो जो जिन्होंने शराब पी या वो जो हर साल शराब नई शराब नीति लेकर आते हैं लेकिन बिकती वहीं जहरीली शराब और टैक्स के नाम पर सरकार का खजाना भरता है। हालांकि इस मामले को लेकर शिवराज सरकार ने सख्त रुख अपनाया हुआ है। बुधवार को मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने अधिकारियों के साथ बैठक करते हुए मुरैना के कलेक्टर और एसपी को हटाने के निर्देश दिए थे। वहीं शाम होते होते शिवराज सिंह मुरैना बागचीनी थाने के अंतर्गत जिस बीट में जहरीली शराब का निर्माण हो रहा था उस बीट के सभी पुलिसकर्मियों को निलंबित किया गया।

यह भी पढ़े :  MP: आत्मनिर्भर मध्यप्रदेश की दिशा में औद्योगिक क्षेत्र की एक साला उपलब्धियाँ

मुरैना में मौत का तांडव रविवार देर रात शुरु हुआ जब छैरा-मानपुर में 52 साल के एक व्यक्ति की मौत हो गई। सोमवार को परिजन ने हार्टअटैक समझकर उसका अंतिम संस्कार भी कर दिया, लेकिन उसके बाद एक-एक कर गांव के 28 से अधिक लोगों को उल्टियां शुरू हुई तो गांववाले उन्हें जिला अस्पताल ले गए। इनमें दो लोगों की इलाज से पहले, सात की जिला अस्पताल में और तीन की ग्वालियर में मौत हो गई और अब यह आंकड़ा बढ़कर 24 हो गया है। अभी भी कई लोग अस्पताल में इलाज के लिए भर्ती हैं।

यह भी पढ़े :  Railway News: मालगाड़ियों की रफ्तार के मामले में पश्चिम मध्य रेलवे टॉप पर...
- Advertisement -

पहले दिन एक साथ 12 लोगों की मौत ने मुरैना जिले को हिला कर रख दिया। जहरीली शराब पीने से किसी का सुहाग उजाड़ गया तो किसी के सिर से बाप का साया उठ गया। किसी बहन से उसका भाई छीन लिया। जहरीली शराब ने जिंदगियां क्या छीनी लोगों के दिल दहल गए और गुस्सा सातवां आसमान छूने लगा। 12 लोगों के शव देखकर यह गुस्सा प्रशासन के खिलाफ फूट पड़ा। ग्रामीणों की मांग थी कि मृतकों के परिजनों को 25-25 लाख रुपये ओर एक एक नौकरी व दोषियों के खिलाफ हत्या का मामला दर्ज हो।

यह भी पढ़े :  वारासिवनी थाने के प्रधान आरक्षक की कोरोना से मौत, CM Shivraj ने जताया दुख - Balaghat News

स्थानीय लोगों की माने तो लंबे समय से अवैध शराब की फैक्ट्री पुलिस की सांठ-गांठ से चल रही है। पुलिस वालों से लेकर ऊपर अधिकारियों तक कई बार शिकायत की गई पर कोई कार्रवाई नहीं हुई। जिसका नतीजा आज इन लोगों की मौत के रूप में सामने आया हैं। जो अब धीरे धीरे बढ़कर 24 हो गई है। गांव में 3-4 दिनों से इलाके में मातम पसरा हुआ है।

- Advertisement -

- Advertisement -

IPL 2021

- Advertisement -

More articles

Latest News