अनोखा स्कूल : न फीस लगती है न हाजिरी, पढ़ते हैं ज्ञान का पाठ

- Advertisement -

इंदौर। खुले आसमान के नीचे मैदान में गूंजते गिनती-पहाड़े… अनुशासन में बैठे बच्चे… पांचवीं का विद्यार्थी हो या कॉलेज का, सभी को 25 तक पहाड़े कंठस्थ। कोई अजनबी भी पहुंच जाए तो बच्चे उनका अभिवादन करना नहीं भूलते। उनके घर में भले ही कोई पढ़ा-लिखा नहीं है, लेकिन परीक्षा में उनके नंबर कभी 70-80 फीसदी से कम नहीं आते। खास बात है यहां न फीस देना पड़ती है, न अटेंडेंस (हाजिरी) लगती है।

पढ़ाई, अनुशासन और सम्मान की सीख देने वाले स्कीम नंबर 78 के ओपन स्काय स्कूल में कमजोर वर्ग के करीब 500 विद्यार्थी सफलता की नई इबारत गढ़ रहे हैं। डॉ. ललिता शर्मा द्वारा आठ साल पहले रोपा गया खुले स्कूल का पौधा आज बड़ा वृक्ष बन चुका है। यह एक ऐसा स्कूल है जहां न कोई दीवार है, न कक्षाएं, न रजिस्टर लेकिन बच्चों को समर्पण भाव से पढ़ाने वाले शिक्षक जरूर हैं। दोपहर 3 बजते ही खुले आसमान में लगने वाले स्कूल में बच्चों का आना शुरू हो जाता है। शाम तक मैदान में बच्चों की चहल-पहल रहती है।

- Advertisement -

बच्चे की उम्र और कक्षा के हिसाब से सभी के समूह बने हुए हैं। बिना बोले सभी अपने-अपने समूह में बैठते हैं। इसमें नर्सरी से लेकर कॉलेज तक के बच्चे पढ़ रहे हैं। डॉ. ललिता हर बच्चे के ग्रुप में जाकर उन्हें पढ़ाती हैं। आठ साल से पढ़ रहे कई विद्यार्थी अब उच्च शिक्षा ले चुके हैं। बच्चों के स्कूल-कॉलेज से फॉर्म भरवाने से लेकर परीक्षा दिलवाने तक श्रीमती शर्मा ही मदद करती हैं।

अब छात्राएं बन गई ‘टीचर दीदी”

- Advertisement -

साना, पूजा, प्रियंका को ओपन स्काय स्कूल में पढ़ते हुए आठ साल हो गए। ये छात्राएं अब बारहवीं कक्षा में पहुंच चुकी हैं। ये डॉ. ललिता से पढ़ती हैं और अपनी पढ़ाई कर छोटी कक्षा के बच्चों को पढ़ाती हैं। इनकी तरह करीब दस छात्राएं छोटे बच्चों की टीचर दीदी बन गई हैं।

घर से शुरू हुआ स्कूल मैदान तक पहुंचा

- Advertisement -

डॉ. शर्मा को बीते साल अपनी सामाजिक सेवाओं के लिए राष्ट्रपति पुरस्कार भी मिल चुका है। वे बताती हैं घर के बरामदे से बच्चों को पढ़ाने की शुरुआत की थी। बच्चों की संख्या बढ़ी तो सड़क पर पढ़ाने लगी। फिर सड़क पर ज्यादा भीड़ होने से लोगों को आवाजाही में परेशानी हुई तो मैदान में पढ़ाना शुरू किया। मैदान में चार घंटे में करीब 500 बच्चे अलग-अलग बैच में पढ़ते हैं।

सासू मां करती हैं मदद

डॉ. शर्मा बताती हैं बच्चे को सबसे पहले पहाड़े कंठस्थ कराते हैं। पहाड़े याद करवाने में सास मना अनंत मदद करती हैं। नए बच्चों को रोज आा घंटा पहाड़े याद करवाए जाते हैं। साथ ही उन्हें साफ-सुथरा रहने, सम्मान, अनुशासन में रहने की बातें सिखाते हैं। बारिश के दिनों में मैडम के घर में कक्षाएं लगती हैं। डॉ. शर्मा कहती हैं इन बच्चों की जिंदगी बनाने के लिए प्राइवेट कॉलेज में प्रोफेसर की नौकरी भी छोड़ दी। अब पूरा ध्यान सिर्फ बच्चों पर है।

- Advertisement -

NEWS, JOBS, OFFERS यहां सर्च करें

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

मुसलमानों के लिए शराब पीने में कोई बुराई नहीं – मौलवी

पाकिस्तान के इस मौलवी ने दारू पीने वालों के लिहाज से ये कमाल की बात कह दी...

3 मई तक Lockdown की घोषणा के बाद ऐसा हुआ यूजर्स का हाल, बने कई मजेदार Memes

नई दिल्ली: दुनियाभर में कोरोना वायरस (Coronavirus) की महामारी फैली हुई है. यह वायरस हमारे...

Coronavirus In Hollywood: हॉलीवुड पहुंचा कोरोना वायरस

Coronavirus In Hollywood: कोरोना वायरस का असर पूरी दुनिया पर पड़ रहा है।...

Holi के दिन Colour से बचने के लिए लोगों के अतरंगी जुगाड़, हंसी नहीं रोक पाओगे

Holi के दिन Colour से बचने के लिए लोगों के अतरंगी जुगाड़, हंसी नहीं रोक पाओगे

सोशल प्लेटफॉर्म्स में हमसे जुड़े

5,296FansLike
7,059FollowersFollow
472FollowersFollow
4,050SubscribersSubscribe

More Articles Like This

- Advertisement -

Latest News

Vaishno Devi Yatra : जल्द खुलेगा माता वैष्णो देवी का मंदिर! श्राइन बोर्ड ने कर ली है यात्रा की तैयारी

श्राइन बोर्ड द्वारा इस पर स्टैंडर्ड ऑपरेशन प्रोसीजर लगभग तैयार कर लिया गया है. श्राइन बोर्ड केवल...

कंटेनमेंट जोन : 30 जून तक रहेगा लॉकडाउन, जानिए इसको लेकर क्या हैं नए निर्देश

कोरोना महामारी के कारण देश भर में पिछले दो महीने से भी अधिक समय से लागू पूर्णबंदी...

30 जून तक बढ़ाया गया Lockdown, गाइडलाइंस जारी, जानें क्या खुलेगा, क्या बंद रहेगा

देश में लॉकडाउन को 30 जून तक के लिए बढ़ा दिया गया है. सरकार ने गाइडलाइंस जारी कर दी है. 

SEONI : पेच टॉयगर रिजर्व में नर बाघ की मौत

सिवनी : आज दिनांक 30-05-2020 को पेंच टाइगर रिजर्व के जलाशय मे बोट गश्ती दल द्वारा बकराकस्सा...

मध्यप्रदेश: 15 जून तक बढ़ा लॉकडाउन, स्कूल-कॉलेज खुलेंगे, फैसला 13 जून के बाद

मध्यप्रदेश: 15 जून तक बढ़ा लॉकडाउन, स्कूल-कॉलेज खुलेंगे, फैसला 13 जून के बाद भोपाल...