independence-day-2020

7 महीनों तक जी-जान लगा कर 400 ग्राम की इस नन्हीं-सी जान को बचाने वाले डॉक्टर्स को ‘शुक्रिया’

राजस्थान के उदयपुर के डॉक्टर्स ने एक मासूम को नया जीवन देकर चिकित्सकीय दुनिया में नया इतिहास रच डाला है. दरअसल, जीवंता चिल्ड्रन्स हॉस्पिटल के चिकित्सकों ने सिर्फ़ हिंदुस्तान ही नहीं, बल्कि पूरे दक्षिणी एशिया की अब तक की सबसे छोटी और कम वज़नी (महज़ 400 ग्राम) की नन्हीं सी जान को जीवित बचा, नया करिश्मा कर दिखाया है.

- Advertisement -

बताया जा रहा है कि बीते गुरुवार 7 महीनों के लंबे इंतज़ार के बाद जीवंता हॉस्पिटल के डॉक्टर्स इस प्रीमैच्योर बच्ची को ज़िंदगी देने में कामयाब रहे. हॉस्पिटल के डायेक्टर डॉ. सुनील जांगिड बताते हैं कि कोटा के रहने वाले एक दम्पति को शादी के लगभग 35 साल बाद मां-बाप बनने का सुख़ प्राप्त हुआ था, लेकिन ब्लड प्रेशर नियंत्रित न होने के कारण, जन्म 15 जून, 2017 को महिला का आपातकालीन स्थिति में सीजे़ेरियन ऑपरेशन किया गया जिसके बाद इस नन्हीं-सी जान को दुनिया में लाया गया.

- Advertisement -

जन्म के वक़्त बच्ची का वज़न मात्र 400 ग्राम था और लम्बाई 8.6 इंच. बच्ची का शरीर नीला पड़ा हुआ था और वो ठीक से सांस भी नहीं ले पा रही थी. इसी वजह से उसे तुरंत उदयपुर के नवजात शिशु गहन चिकित्सा इकाई में शिफ़्ट कर दिया गया. इसके बाद बाल विशेषज्ञ डॉ. सुनील जांगिड, डॉ. निखिलेश नैन और उनकी टीम की निगरानी में बच्ची का इलाज शुरू हुआ.

अब 210 दिन बाद इस बच्ची का वज़न 2.4 किलो हो गया है और वो पूरी तरह से स्वस्थ है. दक्षिणी एशिया में 400 ग्राम की बच्ची को नया जीवन देने का रिकॉर्ड बनाने वाले ये डॉक्टर्स बेहद ख़ुश और उत्साहित हैं.

- Advertisement -

डॉ. जांगिड बताते हैं कि बच्ची को बचाना हमारी टीम के लिए बहुत बड़ी चुनौती थी. अब तक भारत और पूरे दक्षिण एशिया में इतने कम वज़न के बच्चे के जिन्दा बचने की कोई रिपोर्ट नहीं हैं. बच्ची की नाज़ुक स्थिति को देखते हुए उसके पोषण के लिए सभी आवश्यक पोषक तत्व जैसे ग्लूकोज़, प्रोटीन्स और वसा उसे नसों द्वारा ही दिए गए.

अनंत मेडिकल कॉलेज के बाल चिकित्सा विभाग के प्रमुख डॉ. एस.के. तक ने कहा, ये नवीनतम तकनीक, उच्च अंत उपकरण और एनआईसीयू टीम की विशेषज्ञता है, जो उन्होंने असंभव कार्य को संभव कर दिखाया.

Source: gazabpost

- Advertisement -

Discount Code : ks10

NEWS, JOBS, OFFERS यहां सर्च करें

Short Stories

Leave a Reply

काला पानी की सजा इतनी खतरनाक क्‍यों थी, आइये जानते है जेल की सलाखों के पीछे की काहानी

भारत पर राज करने वाले ब्रिटिश हुकूमत ने वर्ष 1896 में इस जेल की आधारशीला रखी। उस...

Black Box In Plane : प्लेन में ब्लैक बॉक्स क्या होता है ?

Black Box In Plane क्या होता है प्लेन में ब्लैक बॉक्स आइये जानते है. बहुत कम लोगों...

क्या आप जानते है ? देश में पुलिस की वर्दी खाकी रंग की क्यों होती है, और पश्‍च‍िम बंगाल में सफेद क्‍यों? GK IN...

भारतीय पुलिस हमारी कानून व्यवस्था का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है. पुलिस हमारी सुरक्षा के लिए हमेशा तैनात...

PUBG Mobile : बेटे ने उड़ा दी पिता के जीवनभर की कमाई, बैंक से 16 लाख रुपये निकाले

नई दिल्ली। ऑनलाइन गेम पबजी (प्लेयर अननोन बैटलग्राउंड्स) का नशा आजकल के...

बन्दर को उम्रकैद : शराबी बन्दर को उम्रकैद, हरकतें जानकर आप भी होंगे हैरान

आपने अक्सर लोगों को उम्रकैद की सजा मिलने की खबर सुनी होगी,...

सोशल प्लेटफॉर्म्स में हमसे जुड़े

8,320FansLike
7,044FollowersFollow
497FollowersFollow
4,050SubscribersSubscribe

More Articles Like This

- Advertisement -

Latest News

Railway News : रेलवे में ‘खलासी सिस्टम’ होगा खत्म, नहीं होंगी नई भर्तियां

नई दिल्ली :  भारतीय रेलवे  ने खलासी के पद खत्म करने का ऐलान किया...

MP जनगणना पर लगा ग्रहण : कोरोना के चलते 2021 में आने वाले आंकड़े आएंगे 2022 में

भोपाल: कोरोन संक्रमण के चलते मध्य प्रदेश में जनगणना का काम बंद कर दिया गया है. इसलिए अब प्रशासनिक क्षेत्राधिकार फ्रीज करने की...

जबलपुर: कलेक्टर भरत यादव ने अनलॉक-3 में दी गई छूट में किया बदलाव, कोरोना संक्रमण को देखते हुए लिया निर्णय

जबलपुर: मध्य प्रदेश का जबलपुर जिला पूरी तरह से कोरोना संक्रमण की चपेट में है. अनलॉक-3 के साथ ही कई प्रकार की छूट...

क्या जनसंख्या नियंत्रण कानून लाने जा रही है? मोदी सरकार

नई दिल्ली: अयोध्या में श्रीराम मंदिर के भूमि पूजन के बाद क्या सरकार एनआरसी, जनसंख्या नियंत्रण कानून पर भी काम कर रही है?...

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ऐलान- 101 रक्षा उपकरणों के आयात पर बैन

नई दिल्लीः पड़ोसी देश चीन, पाकिस्तान और नेपाल से चल रही तनातनी के बीच रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने रविवार को बड़ा ऐलान...