Home देश रूस ने बनाई Corona Vaccine , पुतिन का दावा- बेटी को दी पहली खुराक

रूस ने बनाई Corona Vaccine , पुतिन का दावा- बेटी को दी पहली खुराक

नई दिल्ली: कोरोना वायरस (Coronavirus) महामारी से पूरी दुनिया लड़ रही है, लेकिन एक और लड़ाई भी है जिसकी होड़ में इस वक्त पूरी दुनिया है, वो है कोरोना की वैक्सीन (Corona Vaccine) बनाने की होड़. वैक्सीन बनाने की इस रेस में रूस बाजी मारता दिख रहा है. रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन (Vladimir Putin) ने ऐलान किया है कि उनके देश ने कोरोना वायरस की वैक्सीन बना ली है और उसे रजिस्टर्ड भी करा लिया गया है. कोरोना वैक्सीन रजिस्टर्ड कराने वाला रूस दुनिया का पहला देश बन गया है.

राष्ट्रपति पुतिन ने बताया ऐतिहासिक
राष्ट्रपति पुतिन ने ये भी बताया कि इस वैक्सीन को उनकी दो बेटियों में से एक बेटी को दिया भी जा चुका है और वो बेहतर महसूस कर रही है. राष्ट्रपति पुतिन ने कहा कि टेस्ट के दौरान वैक्सीन ने अच्छे नतीजे दिए, उन्होंने दावा किया कि इस वैक्सीन से कोरोना वायरस से लंबे समय तक सुरक्षा हो सकेगी.

- Advertisement -

उन्होंने कहा कि वैक्सीन सभी जरूर टेस्ट से होकर गुजरी है. रूस की सरकार ने ऐलान किया है कि इस वैक्सीन को सबसे पहले मेडिकल कर्मचारियों और अध्यापकों को दिया जाएगा. साथ ही उन लोगों को भी ये वैक्सीन दी जाएगी जिनके कोरोना संक्रमित होने का खतरा ज्यादा होगा. रूस अपने देश में अक्टूबर से पूरी आबादी के लिए वैक्सीनेशन की शुरुआत करेगा.

रूस की वैक्सीन पर दुनिया ने उठाए सवाल
इस वैक्सीन का निर्माण गमालेया रिसर्च इंस्टीट्यूट और रूस की डिफेंस मिनिस्ट्री ने मिलकर तैयार किया है. हालांकि रिपोर्ट्स के मुताबिक इसे 12 अगस्त को रजिस्टर्ड किया जाना था. हालांकि रूस की कामयाबी पर दुनिया के कई देश संदेह भी जता रहे हैं और हड़बड़ी में किए गए रिजस्ट्रेशन पर सवाल भी उठा रहे हैं. इन देशों का कहना है कि फेज-3 के ट्रायल से पहले इसका रजिस्ट्रेशन सही नहीं है, क्योंकि इसमें कई महीनों का वक्त लगता है और हजारों लोगों की जिंदगी दांव पर लगी होती है. दुनिया के जाने माने संक्रामक रोगों के एक्सपर्ट डॉक्टर एंथनी फॉसी भी रूस की वैक्सीन पर शुरू से ही सवाल उठाते रहे हैं.

यह भी पढ़े :  कृषि मंत्री से बोले किसान-आप भी आएं धरने वाली जगह, चाय-पकौड़े और जलेबी का साथ में लेंगे लुत्फ
- Advertisement -
यह भी पढ़े :  कृषि मंत्री से बोले किसान-आप भी आएं धरने वाली जगह, चाय-पकौड़े और जलेबी का साथ में लेंगे लुत्फ

आपको बताते चलें कि रूस में इस वैक्सीन का क्लीनिकल ट्रायल 18 जून को शुरू हुआ था, जिसमें 38 लोगों ने हिस्सा लिया था. जिसमें सभी ने वायरस के खिलाफ इम्यूनिटी हासिल कर ली थी. पहला ग्रुप 15 जुलाई का डिस्चार्ज किया गया, जबकि दूसरा ग्रुप 20 जुलाई को छोड़ा गया.

- Advertisement -

Discount Code : ks10

NEWS, JOBS, OFFERS यहां सर्च करें

Shubham Sharmahttps://khabarsatta.com
Editor In Chief : Shubham Sharma

सोशल प्लेटफॉर्म्स में हमसे जुड़े

11,274FansLike
7,044FollowersFollow
780FollowersFollow
4,050SubscribersSubscribe

More Articles Like This

- Advertisement -

Latest News

पंजाब के किसानों ने मोदी सरकार को घुटनों पर ला दिया: शिवसेना

शिवसेना ने शुक्रवार को कहा कि पंजाब के किसानों ने नए कृषि कानूनों के खिलाफ प्रदर्शनों के जरिये मोदी...
यह भी पढ़े :  ठंड में कोरोना से बचाव के लिए सामान्य निर्देशों की एडवाईजरी जारी

किसान आंदोलन का मामला अब SC में, दिल्ली की सीमाओं पर जमे किसानों को हटाने की मांग

किसान आंदोलन का मामला सुप्रीम कोर्ट पहुंच गया है। शीर्ष अदालत में एक याचिका दाखिल की गई है, जिसमें दिल्ली की सीमाओं पर जमे...

Corona वॉरियर्स पर हुए लाठीचार्ज को देख भावुक हुए राहुल गांधी, बोले- इस तरह की बेरहमी शर्मनाक

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने अपनी मांगों को लेकर प्रदर्शन कर रहे कोरोना वारियर्स के साथ पुलिस दमन की कड़ी निंदा की।...

ममता बनर्जी ने प्रदर्शनकारी किसानों से फोन पर की बात, अपनी 2006 की भूख हड़ताल की दिलाई याद

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने केन्द्र के कृषि सुधार कानूनों के खिलाफ दिल्ली के सिंघू बॉर्डर पर प्रदर्शन कर रहे विभिन्न किसान...

IAF ने दुश्मन के लड़ाकू विमानों को मार गिराने के लिए 10 आकाश मिसाइलों का किया सफल परीक्षण

नई दिल्ली। एलएसी में तनाव के बीच भारतीय वायु सेना लगातार दुश्मनों पर अपनी पकड़ और मजबूत किए हुए है। भारतीय वायुसेना ने 10 आकाश...
x