RBI UPDATE: आरबीआई ने जारी किया आदेश, यदि आपके पास अभी भी हैं 2000 के नोट! तो ध्यान से पढ़े RBI गवर्नर की ये घोषणा

By Anshul Sahu

Published on:

Follow Us
RBI UPDATE ON 2000 RS Note: RBI UPDATE: आरबीआई ने जारी किया आदेश, यदि आपके पास अभी भी हैं 2000 के नोट! तो ध्यान से पढ़े RBI गवर्नर की ये घोषणा

Join WhatsApp

Join Now

Join Telegram

Join Now

RBI UPDATE: 2,000 रुपये के नोटों के विनिमय: भारतीय रिजर्व बैंक (आर बीआई) के गवर्नर शक्तिकांत दास ने बृहस्पतिवार को यह कहा है कि वर्तमान में मौजूद हैं लगभग 50 प्रतिशत 2,000 रुपये के नोटों को बैंकिंग प्रणाली में वापस लिया गया है।

केंद्रीय बैंक ने पिछले महीने इन नोटों की वापसी की घोषणा की थी। वे बताते हैं कि 31 मार्च 2023 तक लगभग 3.62 लाख करोड़ रुपये के मूल्य के 2,000 रुपये के नोट वर्तमान में उपयोग में थे।

गवर्नर शक्तिकांत दास ने मुद्रास्फीति की नीति की घोषणा करने के बाद मीडिया को बताया कि इस घोषणा के बाद अब तक 1.80 लाख करोड़ रुपये के नोट वापस लिए गए हैं। 2,000 रुपये के करीब 85 प्रतिशत नोट बैंक खातों में जमा किए जा रहे हैं, जबकि शेष नोटों को छोटे नोटों के द्वारा बदला जा रहा है।

पिछले महीने दास ने बयान दिया था कि 2,000 के नोटों को चलाने से हटाने का निर्णय अर्थव्यवस्था पर ‘बहुत सीमित’ प्रभाव डालेगा। वास्तव में, मौजूदा चलन में 2,000 के नोटों का हिस्सा केवल 10.8 प्रतिशत है।

नोटबंदी के बाद, वर्ष 2016 में, 2,000 रुपये का नोट नकदी की कमी को पूरा करने के लिए लाया गया था। गवर्नर ने स्पष्ट किया था कि जो लोग 2,000 रुपये के नोट के पास हैं, वे उन्हें अपने बैंक खाते में जमा कर सकते हैं या उन्हें किसी अन्य मुद्रा के बदले में बदल सकते हैं।

बैंकों को 2,000 के नोटों को बदलने के लिए आवश्यक व्यवस्था करने की सलाह दी गई है। उनकी योजना यह है कि 30 सितंबर तक अधिकांश 2,000 रुपये के नोट वापस हो जाएंगे।

RBI UPDATE: आरबीआई ने एक आदेश जारी किया

उसमें घोषणा की गई थी कि पिछले महीने 2,000 रुपये के नोटों को चलन से वापस लेने की प्रक्रिया शुरू होगी। इसके बावजूद, इन नोटों को बैंकों में 23 मई से 30 सितंबर तक जमा या बदला जा सकेगा।

आर बीआई के द्वारा जारी एक बयान में यह घोषणा की गई कि चल रहे हुए 2,000 रुपये के नोट 30 सितंबर तक मान्यता बनाए रखेंगे। इसके साथ ही, आर बीआई ने बैंकों से तत्काल प्रभाव से 2,000 रुपये के नोटों की वितरण पर रोक लगाने का आदेश दिया है। वह बैंकों को 30 सितंबर तक इन नोटों को जमा या बदलने की सुविधा प्रदान करने को कहा है।

आरबीआई के गवर्नर की 5 महत्वपूर्ण बातें हैं:

  1. भारतीय अर्थव्यवस्था और वित्तीय क्षेत्र, अनिश्चितताओं के बावजूद, मजबूत और जुझारू है।
  2. वित्त वर्ष 2023-24 में खुदरा महंगाई के अनुमान को 5.2% से 5.1% कर दिया गया है।
  3. वैश्विक आर्थिक गतिविधियों की रफ्तार और महंगाई भू-राजनीतिक स्थिति के कारण 4% के लक्ष्य से ऊपर रहेगी।
  4. मौद्रिक नीति समिति ने प्रमुख नीतिगत दर रेपो को 6.5 प्रतिशत पर स्थिर रखा है।
  5. चालू वित्त वर्ष 2023-24 में जीडीपी वृद्धि दर के 6.5 प्रतिशत का अनुमान है। उम्मीद है कि इस वर्ष के पहले चौथाई में जीडीपी वृद्धि दर 8%, दूसरे चौथाई में 6.5%, तीसरे चौथाई में 6% और चौथे चौथाई में 5.7% रहेगी

Leave a Comment