Thursday, March 4, 2021

Ram Setu: केंद्र सरकार की अनुमति के बाद अब पता चलेगा राम सेतु मानवनिर्मित है या कुदरती, यहाँ जाने क्या है राम सेतु विवाद

Must read

Shubham Sharmahttps://khabarsatta.com
Editor In Chief : Shubham Sharma
- Advertisement -

नई दिल्ली: राम सेतु (Ram Setu) कब और कैसे बना (Ram Setu Kab Or Kaise Bana). यह ऐसा सवाल है जिसको लेकर सालों से अलग-अलग मत सामने आए हैं. लेकिन अब यह उम्मीद सामने है कि आने वाले कि आने वाले कुछ सालों में अब इस सवाल का जवाब मिल सकता है कि (Ram Setu Kab Or Kaise Bana) क्योंकि इस सवाल का जवाब जानने के लिए सरकार (Central Government) ने रिसर्च को अनुमति दी है. जिसका मकसद यह है कि राम सेतु (Ram Setu) बना कैसे (Ram Setu Kab Or Kaise Bana) .

रामसेतु (Ram Setu) को लेकर जो रिसर्च की होनी है उसकी अनुमति केंद्रीय पर्यटन मंत्रालय ने दी है. ये रिसर्च नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ ओशियानोग्राफी के वैज्ञानिक करेंगे. इस रिसर्च के जरिए रामसेतु से जुड़े कई अहम सवालों के जवाब ढूंढने की कोशिश की जाएगी.

- Advertisement -

शुरू होने वाली इस रिसर्च के जरिए उन सवालों का जवाब ढूंढने की भी कोशिश की जाएगी जो सालों से उठते रहे हैं. मसलन की रामसेतु (Ram Setu) मानव निर्मित है या कुदरती. रामसेतु (Ram Setu) का जो मौजूदा स्वरूप है वह क्या शुरुआत से ही ऐसा है या बदलते वक्त के साथ उस में कुछ बदलाव हुआ है. रामसेतु (Ram Setu) का अस्तित्व कितना पुराना है. क्या वाकई में रामसेतु (Ram Setu) उसी युग का है जिस युग में राम के पृथ्वी पर होने की बात कही गई है.

Ram Setu Kab Or Kaise Bana- राम सेतु कब और कैसे बना

हालांकि सबके बीच सरकार की तरफ से ये जरूर साफ किया गया है कि जो भी रिसर्च का काम किया जाएगा उससे रामसेतु (Ram Setu) के अस्तित्व को किसी भी तरीके का नुकसान नहीं होगा. क्योंकि इस रिसर्च का मुख्य मकसद यह है कि रामसेतु (Ram Setu) के बारे में जो सवाल आज की तारीख में भी अनसुलझे हैं उनका जवाब ढूंढा जा सके.

- Advertisement -

रामायण (Ramayan) में इस बात का ज़िक्र है कि भगवान राम (Shri Ram) जब लंका के राजा रावण की कैद से अपनी पत्नी सीता को बचाने के निकले तो रास्ते में समुद्र पड़ा. उस समुद्र को पार करने के लिए श्री राम (Shri Ram) ने वानर सेना की मदद से इस पुल (Ram Setu) का निर्माण किया था, वानरों ने छोटे-छोटे पत्थरों की मदद से इस पुल को तैयार किया था और इसी पुल को रामसेतु (Ram Setu) के नाम से जाना जाता है.

यह भी पढ़े :  Haridwar Kumbh 2021 Shahi Snan : हरिद्वार कुंभ में इस दिन होगा पहला शाही स्नान, जानें चार शाही स्नान की तारीखें
- Advertisement -
- Advertisement -

More articles

Latest article

यह भी पढ़े :  नारायणस्वामी ने विधानसभा में बहुमत खोने के बाद पुडुचेरी के मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा दिया, साथ ही केंद्र पर साधा हमला