Place Your Ad Here

पीएम बोले- संवाद ऐसा हो जो सकारात्मकता, एकता और करुणा की भावना फैलाए

By Khabar Satta

Updated on:

Follow Us

Join WhatsApp

Join Now

Join Telegram

Join Now

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सोमवार को सुबह 9:30 बजे 6 वें भारत-जापान संवाद सम्मेलन को संबोधित करना शुरू कर दिए हैं।

-पीएम मोदी ने कहा कि यह दशक उन समाजों का होगा जो एक साथ सीखने और नवाचार करने के लिए एक प्रीमियम रखते हैं। यह उज्ज्वल युवा दिमागों के पोषण के बारे में होगा जो आने वाले समय में मानवता के लिए मूल्यों को जोड़ देगा।

-पीएम बोले- संवाद ऐसा होना चाहिए जो हमारे पूरे ग्रह में सकारात्मकता, एकता और करुणा की भावना फैलाए। वह भी ऐसे समय में जब हमें इसकी सबसे ज्यादा जरूरत है। यह संवाद मानव इतिहास के एक महत्वपूर्ण क्षण में हो रहा है। हमारे कार्य आज आने वाले समय में प्रवचन को आकार देंगे।

-पीएम मोदी ने कहा कि मैं ऐसे सभी बौद्ध साहित्य और शास्त्रों के पुस्तकालय के निर्माण का प्रस्ताव करना चाहता हूं। हम भारत में इस तरह की सुविधा बनाने में प्रसन्न होंगे और इसके लिए उपयुक्त संसाधन उपलब्ध कराएंगे। यह पुस्तकालय अनुसंधान और संवाद के लिए एक मंच भी होगा। मनुष्य, समाज और प्रकृति के बीच भी इससे अच्छा संदेश जाएगा। इसके अनुसंधान जनादेश में यह जांचना भी शामिल होगा कि बौद्ध संदेश समकालीन चुनौतियों के खिलाफ हमारे आधुनिक दुनिया को कैसे निर्देशित कर सकते हैं।

-पीएम बोले- बौद्ध साहित्य और दर्शन का महान खजाना कई देशों और भाषाओं में विभिन्न मठों में पाया जा सकता है। वह मानव जाति का खजाना है।

-6 वें इंडो-जापान संवाद सम्मेलन में पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा, ‘इस मंच ने भगवान बुद्ध के विचारों और आदर्शों को बढ़ावा देने के लिए बहुत काम किया है, खासकर युवाओं में। ऐतिहासिक रूप से, बुद्ध के संदेश की रोशनी भारत से दुनिया के कई हिस्सों में फैल गई

-पीएम मोदी ने सबसे पहले कहा कि मैं भारत-जापान संवाद को लगातार समर्थन के लिए जापान सरकार का धन्यवाद करना चाहूंगा।

सम्मेलन में बोलने से पहले, प्रधान मंत्री मोदी ने कहा कि यह मंच पिछले कुछ वर्षों में काफी विकसित हुआ है और इसने वैश्विक शांति को आगे बढ़ाने में योगदान दिया है। पीएम मोदी ने ट्वीट किया था, ‘सुबह 9:30 बजे, 6 वें भारत-जापान सामवेद सम्मेलन में बोलेंगे। वैश्विक शांति, सौहार्द और भाईचारे को आगे बढ़ाने में योगदान देने के लिए इस मंच का वर्षों में बहुत विकास हुआ है।’

Khabar Satta

खबर सत्ता डेस्क, कार्यालय संवाददाता

Place Your Ad Here

Leave a Comment