Home देश ला नीना, वेस्टर्न डिस्टरबेंस की वजह से देश में पड़ेगी हाड़ कंपाने वाली सर्दी; Madhya Pradesh में बढ़ रहे...

ला नीना, वेस्टर्न डिस्टरबेंस की वजह से देश में पड़ेगी हाड़ कंपाने वाली सर्दी; Madhya Pradesh में बढ़ रहे ठंड के तेवर, टूटेगा 10 साल का रिकॉर्ड

La Nina, a wintry winter in the country due to western disturbances; Cold weather rising in Madhya Pradesh, will break 10 years record

भोपाल: मध्य प्रदेश में ठंड ने दस्तक दे दी है. नवंबर शुरू होते ही प्रदेश में ठंड बढ़ना शुरू हो गई है. बुधवार रात तापमान सामान्य से 3 डिग्री कम दर्ज किया गया है. मौसम विभाग की मानें तो इस साल ठंड रिकॉर्ड तोड़ सकती है.आमतौर पर दिसंबर-जनवरी में शीतलहर चलती है, लेकिन इस बार राज्य में नवंबर के आखिरी हफ्ते में ही शीतलहर चलने के आसार हैं.

मौसम वैज्ञानिकों के अनुसार 10 साल बाद पहली बार नवंबर के पहले हफ्ते में ऐसी सर्दी पड़ रही है. मौसम विभाग ने रिकॉर्ड तोड़ सर्दी पड़ने की संभावना जताई है.मौसम वैज्ञानिकों की मानें तो ला नीना और वेस्टर्न डिस्टरबेंस के प्रभाव के कारण ठंड बढ़ रही है.

- Advertisement -

मौसम विभाग के महानिदेशक मृत्युंजय मोहापात्रा ने राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन प्राधिकरण यानी एनडीएमए (National Disaster Management Authority, NDMA) की तरफ से ‘शीत लहर के खतरे में कमी’ पर आयोजित वेबिनार को संबोधित करते हुए कहा कि यह नहीं समझना चाहिए कि जलवायु परिवर्तन से तापमान में बढ़ोतरी होती है। सच्‍चाई यह है कि तापमान में बढ़ोतरी की वजह से मौसम अनियमित हो जाता है।

मोहापात्रा ने कहा कि शीत लहर की स्थिति के लिए ला नीना अनुकूल होता है जबकि अल नीनो की स्थिति इसके लिए सहायक नहीं होता। ला नीना प्रशांत महासागर में सतह के जल के ठंडा होने से जुड़ा हुआ है जबकि अल नीनो इसकी गर्मी से जुड़ा हुआ है। समझा जाता है कि दोनों कारकों का भारतीय मॉनसून पर भी असर पड़ता है।

यह भी पढ़े :  उत्तर प्रदेश में धर्मांतरण संबंधी कानून आज से लागू, राज्यपाल आनंदीबेन पटेल ने दी मंजूरी

कई हिस्सों में तापमान में गिरावट

- Advertisement -

दिल्ली के सफदरजंग वेधशाला ने अक्टूबर में औसत 17.2 डिग्री दर्ज किया। जम्मू और कश्मीर में, श्रीनगर में 27 अक्टूबर को शून्य के करीब तापमान दर्ज किया गया। जम्मू और कश्मीर की ठंडी हवाओं ने उत्तर के कुछ हिस्सों में तापमान सामान्य से नीचे चला गया। मध्य महाराष्ट्र के उत्तरी हिस्सों जैसे पुणे और नासिक में, ला नीना सामान्य से नीचे तापमान का कारण हो सकता है। शनिवार को लुधियाना में पुणे जैसा ही तापमान दर्ज किया गया, जबकि देहरादून में तापमान 14.3 डिग्री सेल्सियस था।

यह भी पढ़े :  कोरोना जैसी प्राणहंता महामारी व जानलेवा प्रदूषण को देखते हुए भी लोग करते हैं नागरिक कर्तव्यों की अवहेलना

क्या है ला नीना?

ला नीना मानसून का रुख तय करने वाली सामुद्रिक घटना है. जिसमें समुद्री सतह गर्म होती है,काफी देर तक ला नीना की घटना होने से तापमान में असामान्य रूप से गिरावट आ जाती है. इस दौरान यू.एस. में दक्षिण-पूर्व में शीतकालीन तापमान सामान्य से कम होता और उत्तर-पश्चिम में सामान्य से ठंडा होता है. 

कहां से आया अल-निनो और ला-निना

- Advertisement -

अल नीनो का अर्थ होता है शिशु या बालक, जो स्पैनीश भाषा से लिया गया है। यह समुद्र में होने वाली उथल-पुथल है और इससे समुद्र के सतही जल का ताप सामान्य से ज्यादा हो जाता है। यह दक्षिण-पश्चिम मानसून पर विपरीत प्रभाव डालता है। वहीं ला-निना इसके ठीक विपरित है, इसके कारण समुद्री सतह का तापमान पूर्वी प्रशांत महासागर के सामान्य तापमान से कम होना होता है। इसका प्रभाव भी भूमध्य रेखीय एवं उप भूमध्य रेखीय क्षेत्र में पड़ता है।

Web Title : mp winter La Nina, a wintry winter in the country due to western disturbances; Cold weather rising in Madhya Pradesh, will break 10 years record

- Advertisement -

Leave a Reply

यह भी पढ़े :  दिल्ली में कोरोना संकट पर सर्वदलीय बैठक, बाजार बंद करने के विरोध में कांग्रेस

Discount Code : ks10

NEWS, JOBS, OFFERS यहां सर्च करें

Shubham Sharmahttps://khabarsatta.com
Editor In Chief : Shubham Sharma

सोशल प्लेटफॉर्म्स में हमसे जुड़े

11,262FansLike
7,044FollowersFollow
786FollowersFollow
4,050SubscribersSubscribe

More Articles Like This

- Advertisement -

Latest News

उत्तर प्रदेश में धर्मांतरण संबंधी कानून आज से लागू, राज्यपाल आनंदीबेन पटेल ने दी मंजूरी

लखनऊ। उत्तर प्रदेश में विधि विरुद्ध धर्म परिवर्तन प्रतिषेध अध्यादेश 2020 लागू हो गया है। राज्यपाल आनंदीबेन पटेल ने...

राज्यों सरकारों से सुप्रीम कोर्ट नाराज, कहा- राजनीति से ऊपर उठकर कोविड-19 को करो काबू

देश में कोरोना के लगातार बिगड़ रहे हालात को लेकर  उच्चतम न्यायालय ने राज्य सरकारों का फटकार लगाई। कोर्ट ने कहा क कोविड-19 के...
यह भी पढ़े :  गिरने की तैयारी में उद्धव सरकार ?: केंद्रीय मंत्री रावसाहब दानवे बोले, अगले दो-तीन महीने में महाराष्ट्र में फिर बनेगी BJP की सरकार

PM मोदी के अहंकार ने जवान और किसान को आमने सामने खड़ा कर दिया: राहुल गांधी

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने किसानों को दिल्ली आने से रोकने के लिए सैनिकों के इस्तेमाल की आलोचना करते हुए कहा है...

CM शिवराज के निर्देश के बाद ईरानियों के अवैध कब्जे पर चला बुल्डोजर, भारी पुलिस बल तैनात

भोपाल: भोपाल में ईरानियों के अवैध कब्जे पर आज जिला प्रशासन की टीम बड़ी कार्रवाई कर रही है। इसके मद्देनजर पुलिस की टीम ने...

सरकार की सख्ती पर भड़के किसान, जैजी बी और दिलजीत ने ‘वाहेगुरु’ के आगे की अरदास

जालंधर: केंद्र सरकार के तीन नए कृषि कानूनों के खिलाफ 'दिल्ली चलो' मार्च के तहत किसानों का आंदोलन जारी है। इस बीच दिल्ली सरकार ने...
x