HOME

WhatsApp

Google News

Shorts

Facebook

Home » देश » Dharm Ka Vistar Ho, Adharm Ka Vinash Ho | धर्म का विस्तार हो, अधर्म का विनाश हो – Madhavas Rock Band

Dharm Ka Vistar Ho, Adharm Ka Vinash Ho | धर्म का विस्तार हो, अधर्म का विनाश हो – Madhavas Rock Band

By SHUBHAM SHARMA

Updated on:

Follow Us
Dharm Ka Vistar Ho, Adharm Ka Vinash Ho, Badh Raha Hai Paap Bhari, Hey Prabhu Avatar Lo

Join WhatsApp

Join Now

Join Telegram

Join Now

Dharm Ka Vistar Ho, Adharm Ka Vinash Ho Video, Song, MP3, RingTone, Lyrics | धर्म का विस्तार हो, अधर्म का विनाश हो, बढ़ रहा है पाप भारी, हे प्रभु अवतार लो (Dharm Ka Vistar Ho, Adharm Ka Vinash Ho, Badh Raha Hai Paap Bhari, Hey Prabhu Avatar Lo)

Madhavas Rock Band का Avatar:The Way of Praying by Today’s Youth – Devotional RAP Song सोशल मीडिया पर बहुत ही तेजी से वायरल हो रहा है, और होगा भी क्यों नहीं Madhavas Rock Band का यह रैप सोंग सुनकर लोग इनकी तारीफ किये बिना रुक नहीं पा रहे है.

Madhavas Rock Band के इस रैप की लिरिक्स इतनी बेहतरीन है कि लोग एक लाइन सुनकर खुदको रूक नहीं पा रहे है, यह रैप सोंग उन गानों में शुमार हो गया है जिनकी एक लाइन सुनकर लोग गाने को पूरा सुने बिना नहीं रोक पाएंगे.

Madhavas Rock Band के इस रैप सोंग के लिरिक्स पंकज शर्मा (Lyrics – Pankaj Sharma) ने लिखे है और रैप आर्टिस्ट भी पंकज शर्मा ही है, इस रैप सोंग को आवाज देने वाले सिंगर गोपी देवी दासी (नेहा सोबती) और नव किशोरे निमाई दस (निर्दोष सोबती) Singers – Nandrani Gopi Devi Dasi (Neha Sobti), Nav Kishore Nimai Das ( Nirdosh Sobti) है

धर्म का विस्तार हो (Dharm Ka Vistar Ho)
अधर्म का विनाश हो (Adharm Ka Vinash Ho)
बढ़ रहा है पाप भारी (Badh Raha Hai Paap Bhari)
हे प्रभु अवतार लो (Hey Prabhu Avatar Lo)

Dharm Ka Vistar Ho, Adherm Ka Vinash Ho | धर्म का विस्तार हो, अधर्म का विनाश हो

Dharm Ka Vistar Ho, Adharm Ka Vinash Ho Lyrics In Hindi Text

धर्म का विस्तार हो
अधर्म का विनाश हो
बढ़ रहा है पाप भारी
हे प्रभु अवतार लो

आ गई है फिर से प्रभु घड़ी अवतार की
धर्म की है हालत ऐसी जैसे लाचार की
हानि हो रही है यहां मान सम्मान की
हंसी उड़ाते लोग भगवान की भी नाम की

निस्वार्थ ना कोई कर्म है
बढ़ रहा अधर्म है
मंदिरों में जाने में आती इनको शर्म है
धर्म पे भी तर्क है
जातियों में वर्ग है
पढ़ते गीता भागवत पर
जानते ना मर्म है

अधर्म ही अधर्म चहुं ओर है छा रहा
ज्ञानियों का ज्ञान किसी काम नहीं आ रहा
कर रहे है सब वही जो मन को उनके भा रहा
दिख रहा है दुनिया में जो वही हूं मैं गा रहा

कैसा है यह प्रावधान
बिगड़ा हुआ खानपान
घर के गेट पर लिखा है
कुत्तों से सावधान

क्या कहूं मैं हाल कैसा है तेरी सृष्टि का
पराई नारी देखते यह दोष है दृष्टि का

धर्म का विस्तार हो
अधर्म का विनाश हो
बढ़ रहा है पाप भारी
हे प्रभु अवतार लो

धर्म से अधर्म से चाहते हैं सब उपलब्धियां
ना देखने को मिलती है रघुकुल कि वो रीतियां
अधर्म इतना बढ़ रहा ना छोड़ते हैं नदियों को
गंगा यमुना में लोग कर रहे अशुद्धियां

रामराज्य फिर से आए सब की यही कामना
विध्वंस करो पाप का हो धर्म की स्थापना
प्रेम का ना मोल पैसों से बिकती भावना
कलयुग में लो अवतार हम करते यही प्रार्थना

लड़कियों की हत्या गर्भपात का ही रूप है
नारी पर अत्याचार मां भवानी का स्वरूप है
कलयुग की द्रौपदी की लाज का न कोई मोल है
छोड़ के भगवान को यह पूजते भूत है

नारी का सम्मान है
यहां मूर्ख बुद्धिमान है
मां बाप की सेवा करने में घटती की शान है

धर्म का विस्तार हो
अधर्म का विनाश हो
बढ़ रहा है पाप भारी
हे प्रभु अवतार लो

धर्म की आड़ में अधर्म है बढ़ रहा
परेशान है वह यहां जो सत्य पर चल रहा
अधर्म इतना बढ़ रहा नारी का तन बिक रहा
सो रहे है सब यहां न कोई कुछ है कर रहा

पापी और अधर्मी यों के चेहरो पे नकाब है
दिन में पूजा-पाठ पीते शाम को शराब है
सबसे ज्यादा लूट होती धर्म के ही नाम पर
क्योंकि धर्म के ही रक्षक धर्म के दलाल है

धर्म का विस्तार हो
अधर्म का विनाश हो
बढ़ रहा है पाप भारी
हे प्रभु अवतार लो

हे प्रभु अवतार लो
हे प्रभु अवतार लो

वृंदावन वास मिला आपकी कृपा है ये
अधर्म से मैं दूर रहूं मांगू यही दुआएं में
अरदास मेरी इतनी तुमसे है सुन लो प्रभु
मेरी जिंदगी का हर पल गुजरे तेरे साए में

Dharm Ka Vistar Ho, Adharm Ka Vinash Ho Lyrics

Dharm Ka Vistar Ho
Adharm Ka Vinash Ho
Badh Raha Hai Paap Bhari
Hey Prabhu Avatar Lo

Dharm Ka Vistar Ho
Adharm Ka Vinash Ho
Badh Raha Hai Paap Bhari
Hey Prabhu Avatar Lo

Aa Gayi Hai Fir Se Prabhu Ghadi Avatar Ki
Dharm Ki Hai Halat Aisi Jaise Lachar Ki
Haani Ho rahi Hai Yahan Maan Samman Ki
Hansi Udate Log Bhagwan Ki Bhi Naam Ki

Niswarth Na Koi Dharm Hai
Badh Raha Adherm Hai
Mandiron Me Jaane Me Aati Inko Sharm Hai
Dharm Pe Bhi Tark Hai
Jatiyon Me Warg Hai
Padhte Geeta Bhagwat Par
Jaanta Na KOi Marm Hai

Adharm Hi Adharm Hi Chahun Or Chaa Raha
Gyaniyon Ka Gyaan Kisi Kaam Nahi Aa Raha
Kar Rahe Hai Sab Wahi Jo Man Ko Unke Bhaa Raha
Dikh Raha Hai Duniya Me Jo Wahi hu Main Gaa Raha

Kaisa Hai Yeh Pravdhaan
Bigda Hua Khaanpan
Ghar Ke Gate Pr Likha Hai
Kutton Se Saavdhaan

Kya Kahu Me Haal Kaisa Hai Teri Shrashti Ka
Parai Naari Dekhte Yeh Dosh Hai Drashti Ka

Dharm Ka Vistar Ho
Adharm Ka Vinash Ho
Badh Raha Hai Paap Bhari
Hey Prabhu Avatar Lo

Dharm Se Adherm Se Chahte Hai Sab Uplabdhiyan
Naa Dekhne Ko Milti Hai Raghukul Ki Vo Reetiyan
Adharm Itna Badh Raha Naa Chodte Hai Nadiyon Ko
Ganga Yamuna Me Log Kar Rahe Ashuddhiyan

Ramrajya Fir Se Aaye Sab Ki Yahi Kaamna
Vidhvans Karo Paap Ka Ho Dharm Ki Sthapna
Prem Ka Naa Mol Paison Se Bikti Bhawna
Kalyug ME Lo Avatar Hum Karte Yahi Prarthna

Ladkiyon Ki Hatya Garbhpaat Ka Hi Roop Hai
Naari Pr Atyachar Maa Bhawani Ka Swaroop Hai
Kalyug Ki Draupadi Ki Laaj Ka Na Koi ol Hai
Chod Ke Bhagwan Ko Yeh Poojte Bhut Hai

Naari Ka Samman Hai
Yahan Murkh Buddhimaan Hai
Maa Baap Ki Seva Karne Me Ghati Inki Shaan Hai

Dharm Ka Vistar Ho
Adharm Ka Vinash Ho
Badh Raha Hai Paap Bhari
Hey Prabhu Avatar Lo

Dharm Ki Aad Me Adharm Hai Badh Raha
Pareshaan Hai Weh Yahan Jo Saty Par Chal Raha
Adharm Itna Badh Raha Naari Ka Tan Bik Raha
So Rahe Hai Sab Yahan Naa Koi Kuch Hai Kar Raha

Paapi Or Adharmi Yon Ke Chahre Pe Nakaab Hai
Din Me Pooja Paath Peete Shaam Ko Sharaab Hai
Sabse Jyada Loot Hoti Dharm Ke Hi Naam Par
Kyonki Dharm Ke Rakshak Dharm Ke Dalaal Hai

Dharm Ka Vistar Ho
Adharm Ka Vinash Ho
Badh Raha Hai Paap Bhari
Hey Prabhu Avatar Lo

Hey Prabhu Avatar Lo
Hey Prabhu Avatar Lo

Vrindavan Vaas Mila Aapki Kripa Hai Ye
Adharm Se Main Door Rahun Maangu Yahi Duayen Main
Ardaas Meri Itni Tumse Hai Sun Lo Prabhu
Meri Jindgi Ka Har Pal Gujre Tere Saaye Mein

About: Avatar: The Way of Praying by Today’s Youth – RAP by Madhavas Rock Band

Song – Avatar: The Way of Praying by Today’s Youth – RAP by Madhavas Rock Band ft. @PankajsharmaRap Lyrics – Pankaj Sharma Rap Artist – Pankaj Sharma Singers – Nandrani Gopi Devi Dasi (Neha Sobti), Nav Kishore Nimai Das ( Nirdosh Sobti) Music/Mix&Mastered – Yash Soni Recorded At – The Y.S Music Studio Elements Arrangements – Shavers Composer – Nirdosh Sobti (Nav Kishore Nimai Das) Bass – Namabhakti Devi Dasi Guitar – Nilesh Narsayya Deshwani Mridangam – Ravi Parmar Drums – Hari Charan Das Sobti Keyboard – Nikhil Ramesh Singh (Gopi) Band Mentor – Balaji Prasad Yeddula (Bhadra Govinda Das)

Video:
D.O.P/Color Grading/Editor – Braj Kishore Das (BKD) Asst Editor – Suraj Tiwari Asst Director – Nishant Jha (Nidra Vijay Das) Costumes/Make-up – Nandrani Gopi Devi Dasi (Neha Sobti) Production House – Gopala Vision Production House (Delhi) Album Art – Gaurav Soulja ( +91 82182 34799 )

SHUBHAM SHARMA

Khabar Satta:- Shubham Sharma is an Indian Journalist and Media personality. He is the Director of the Khabar Arena Media & Network Private Limited , an Indian media conglomerate, and founded Khabar Satta News Website in 2017.

Leave a Comment