khabar-satta-app
Home देश इंडिया का बदलने की मांग, SC में याचिका पर सुनवाई स्थगित

इंडिया का बदलने की मांग, SC में याचिका पर सुनवाई स्थगित

दिल्ली के रहने वाले एक शख्स ने अपनी याचिका में अदालत (Supreme Court) से मांग की है कि संविधान (Constitution) के अनुच्छेद 1 में संशोधन कर इंडिया (India) शब्द हटा दिया जाए. याचिकाकर्ता का कहना है कि इंडिया शब्द गुलामी का प्रतीक लगता है. देश को मूल और प्रमाणिक नाम भारत से ही मान्यता दी जानी चाहिए

नई दिल्ली. भारतीय संविधान के अनुच्छेद 1 में संशोधन कर इंडिया (India) शब्द हटाकर देश का नाम भारत (Bharat) या हिन्दुस्तान (Hindustan) रखने की मांग वाली याचिका पर सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) में आज होने वाली सुनवाई स्थगित हो गई है. मुख्य न्यायाधीश (CJI) एसए बोबड़े इस मामले पर सुनवाई करने वाले थे, लेकिन उनके अवकाश पर रहने के कारण मामले को स्थगित कर दिया गया. कोर्ट ने इसकी सुनवाई के लिए अगली तारीख भी नहीं दी है.

- Advertisement -

इस संबंध में सुप्रीम कोर्ट में दाखिल एक जनहित याचिका पर शुक्रवार को सुनवाई होनी थी, लेकिन उस दिन प्रधान न्यायाधीश (CJI) एसए बोबडे के उपलब्ध न होने से सुनवाई 2 जून तक के लिए टाल दी गई थी. अब आज फिर सुनवाई टल गई.

किसने दायर की है याचिका?
दरअसल, दिल्ली के रहने वाले नमह नाम के शख्स ने अपनी याचिका में अदालत से मांग की है कि संविधान के अनुच्छेद 1 में संशोधन कर इंडिया शब्द हटा दिया जाए. अभी अनुच्छेद 1 कहता है कि भारत अर्थात इंडिया राज्यों का संघ होगा. याचिका में कहा गया है कि इसकी जगह संशोधन करके इंडिया शब्द हटा दिया जाए और भारत या हिन्दुस्तान कर दिया जाए.

- Advertisement -

याचिकाकर्ता का कहना है कि इंडिया शब्द गुलामी का प्रतीक लगता है. देश को मूल और प्रमाणिक नाम भारत से ही मान्यता दी जानी चाहिए. याचिका में दावा किया है कि यह संशोधन इस देश के नागरिकों की, औपनिवेशिक अतीत से मुक्ति सुनिश्चित करेगा. याचिका में 1948 में संविधान सभा में संविधान के तत्कालीन मसौदे के अनुच्छेद 1 पर हुई चर्चा का हवाला दिया गया है और कहा गया है कि उस समय देश का नाम ‘भारत’ या ‘हिन्दुस्तान’ रखने की पुरजोर हिमायत की गई थी

याचिका के अनुसार, यद्यपि यह अंग्रेजी नाम बदलना सांकेतिक लगता हो लेकिन इसे भारत शब्द से बदलना हमारे पूर्वजों के स्वतंत्रता संग्राम को न्यायोचित ठहराएगा. याचिका में कहा गया है कि यह उचित समय है कि देश को उसके मूल और प्रमाणिक नाम ‘भारत’ से जाना जाए.

- Advertisement -

Leave a Reply

Discount Code : ks10

NEWS, JOBS, OFFERS यहां सर्च करें

Shubham Sharmahttps://khabarsatta.com
Editor In Chief : Shubham Sharma

सोशल प्लेटफॉर्म्स में हमसे जुड़े

11,007FansLike
7,044FollowersFollow
795FollowersFollow
4,050SubscribersSubscribe

More Articles Like This

- Advertisement -

Latest News

मुफ्त कोरोना वैक्सीन का वादा आचार संहिता का उल्लंघन नहीं: चुनाव आयोग

नई दिल्ली। चुनाव आयोग ने शनिवार को भारतीय जनता पार्टी द्वारा बिहार विधानसभा चुनावों के लिए जारी घोषणापत्र (manifesto)...

CRPF ने संभाली पीड़ित परिवार की सुरक्षा, CBI ने थाना में ग्रामीण से की पूछताछ

हाथरस। सुप्रीम कोर्ट के निर्देश पर हाथरस के चंदपा थाना क्षेत्र के बूलगढ़ी गांव में पीड़ित परिवार की सुरक्षा संभालने अब केंद्रीय रिजर्व पुलिस...

CRPF जवान ने खुद की सर्विस रिवाल्वर से गोली मार की खुदकुशी, मौके पर ही मौत

सुकमा। छत्तीसगढ़ के नक्सल प्रभावित सुकमा जिले में तैनात एक सीआरपीएफ जवान ने शुक्रवार की देर रात अपनी सर्विस रिवाल्वर से खुद को गोली...

गुर्जर समुदाय के आगे झुकी राजस्थान सरकार, आरक्षण आंदोलन से पहले मानी 3 मांगे

जयपुर। राजस्थान के मंत्री मंत्री रघु शर्मा ने गुर्जर समुदाय से आरक्षण के मुद्दे पर बातचीत की। गुर्जर समुदाय आरक्षण की मांग के लिए 1...

पंजाब में ट्रेनों की आवाजाही पूरी तरह बंद, कच्चे माल की कमी से संकट में इंडस्ट्री

लुधियाना। पंजाब में केंद्र के कृषि कानूनों के खिलाफ चल रहे किसानों के आंदोलन के कारण इंडस्ट्री भी बुरी तरह प्रभावित हो रही है। किसान यात्री ट्रेनों...